स्वच्छता ही सेवा अभियान का समापन
कलेक्टर ने श्रेष्ठ कार्य करने वाली महिला समूहों का किया सम्मान

राष्ट्रपिता की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित कर दी श्रद्धांजलि
महिलाओं और अधिकारियों को दिलाई स्वच्छता की शपथ
स्वच्छता अभियान की कामयाबी में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका: श्री पाठक
बलौदाबाजार, 02 अक्टूबर 2018/गांधी जयंती के अवसर पर आज ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान का समापन हुआ। राष्ट्रव्यापी यह अभियान पिछले महीने की 15 सितम्बर से शुरू हुआ था। कलेक्टर श्री जे.पी.पाठक ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित एक कार्यक्रम में स्वच्छता के क्षेत्र में श्रेष्ठ कार्य करने वाली जिले की 18 महिला स्व सहायता समूहों और भारत माता वाहिनी की महिलाओं को सम्मानित किया। इन महिलाओं ने अधिकारियों के साथ मिलकर श्रमदान करते हुए कलेक्टर परिसर की साफ-सफाई की। इसके पहले कलेक्टर श्री पाठक ने परिसर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। कलेक्टर ने महिलाओं और अधिकारियों को इस अवसर पर स्वच्छता शपथ भी दिलाई। जिला पंचायत के सीईओ श्री एस. जयवर्धन, अपर कलेक्टर श्री जोगेन्द्र नायक, एसडीएम श्री तीर्थराज अग्रवाल सहित अधिकारी-कर्मचारी और बड़ी संख्या में महिलाएं इस अवसर पर उपस्थित थी।
जिला कलेक्टर श्री पाठक ने गांधी जी का स्मरण करते हुए कहा कि स्वच्छता अभियान से लोगों की मानसिकता में सकारात्मक बदलाव आया है। लोग अब स्वच्छता से रहना पसंद करते हैं और गंदगी करने पर उन्हें शर्मिंदगी महसूस होती है। जबकि एक दशक पहले ऐसी स्थिति नहीं थी। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और देश के दूसरे प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री दोनों महान सपूतों को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि महात्मा गांधी ने अपने जीवन में साफ-सफाई पर सबसे ज्यादा काम किया है। उनका सफाई संबंधी काम दक्षिण अफ्रीका से शुरू हो गया था। वे अपने निजी पाखाना किसी बाहरी व्यक्ति द्वारा नहीं बल्कि स्वयं साफ करते थे। कलेक्टर ने कहा कि स्वच्छता अभियान का काफी असर सामाजिक जन-जीवन में अब देखने मिल रहा है। सड़कों के किनारे शौच के लिए बैठी महिलाएं अब नहीं दिखती। वे दिन अब लद गए। स्वच्छता अभियान की कामयाबी में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि अभियान ने महिलाओं में नेतृत्व क्षमता का विकास किया हैं। महिलाएं अब चूल्हा-चैका से बाहर निकलकर गांव का नेतृत्व कर रही हैं। कलेक्टर ने कहा कि स्वच्छता अभियान का मतलब केवल शौचालय का इस्तेमाल कर लेने से नहीं है बल्कि अपने घर के साथ-साथ आस-पास के वातावरण को भी साफ-सुथरा रखना है। उन्होंने बस्तर के आदिवासियों की साफ-सफाई के प्रति सोच और भावना की प्रशंसा की और अन्य लोगों के लिए एक मिसाल बताया।
स्व सहायता समूहों और भारत माता वाहिनी की महिलाओं का सम्मान
कलेक्टर श्री पाठक ने गांधी जयंती के मौके पर स्वच्छता के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाली 18 महिला स्वसहायता समूह और भारत माता वाहिनी से जुड़ी महिलाओं का सम्मान किया। जिला पंचायत द्वारा संचालित स्वच्छ भारत मिशन की ओर से उन्हें प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। इस अवसर पर भरसेला गांव की कुमारी गिरजा साहू और खेंदा की पुष्पा कमल ने स्वच्छता ही सेवा अभियान के दौरान किए गए गतिविधियों की जानकारी और अपने अनुभव साझा किए। कलेक्टर ने गांधी जयंती के इस पावन मौके पर जिन महिला समूहों को सम्मानित किया ,उनमें बलौदाबाजार विकास खण्ड के ग्राम पंचायत कोहरौद की मिनी माता स्व सहायता समूह, लटुवा की सतनाम ज्योति स्व सहायता समूह, करमदा की जय मां काली स्व सहायता समूह, सुढे़ला की सत्यनाम सेनानी समिति, खैंदा (ड) की जय महामाया स्व सहायता समूह, सकरी की सरस्वती स्व सहायता समूह, कोरदा की मां अन्नूपूर्णा स्व सहायता समूह, पहंदा की दुर्गा स्व सहायता समूह, भरसेला नया की भारत माता वाहिनी संघर्ष समिति और कारी की भारत माता वाहिनी स्वसहायता समूह शामिल हैं।  कसडोल विकासखण्ड के ग्राम पंचायत घटमड़वा की अन्नपूर्णा स्व सहायता समूह, मोतीपुर की स्वच्छता महिला समूह, मुडियाडीह की अन्नपूर्णा स्व सहायता समूह, मटिया की नारी शक्ति स्व सहायता समूह और भारत माता वाहिनी, धमलपुर की कल्याणी महिला स्वसहायता समूह, पुलेनी की जय लक्ष्मी महिला स्व सहायता समूह और चरोदा की मां लक्ष्मी स्व सहायता समूह शामिल हैं।

LEAVE A REPLY