*रीवा से संवाददाता संजीत द्विवेदी की रिपोर्ट*

*♦हनुमना से बड़ी खबर।*

रीवा जिले कि कन्या हायर सेकेंडरी हनुमना का वरिष्ठ अध्यापक पंचम प्रजापति जो विद्यालय में हमेसा ऐसे ही टेबल पर पैर रख कर बैठता है;वो भी बालिकाओ के स्कूल में। इसके बैठने के तरीके से ही इसके संस्कार और शिक्षकीय गुणों का पता चलता है;इसके बैठने के तौर तरीके ही बताते हैं की ये कितनी उच्चकोटि की शिक्षा देता होगा।लेकिन ये विद्यालय के प्राचार्य विष्णू पाण्डेय का चहेता है;जिसके कारण सिर्फ टेबल पर नही प्राचार्य के सिर में पैर रखकर बैठने की भी इसे छूट दी गई है।क्यूंकि प्राचार्य के भ्रष्टाचार के सारे राज इसी के पास हैं। ये वही पंचम प्रजापति है जिसके अध्यापक से वरिष्ठ अध्यापक के पद पर पदोन्नति के लिए प्राचार्य ने डी ई ओ कार्यालय के बाबुओ से सांठ गांठ कर तत्कालीन डी ई ओ के कूटरचित फर्जी हस्ताक्षर कर फर्जी रोस्टर तक तैयार कर डाला। किन्तु विभागीय अधिकारिओ के मिली भगत से आज तक फर्जी रोस्टर का राज नही खुल पाया;पंचम प्रजापति के प्रमोसन लिए फर्जीवाड़ा कर पूरी ताकत लगाने के पीछे प्राचार्य की क्या मजबूरी या सम्बन्ध है ये तो वही जाने किन्तु विद्यालय में शिक्षकीय गरिमा के विरुद्ध हमेसा इस तरह टेबल पर बैठने और सोने वाले शिक्षक पर विभाग को अंकुश लगाना चाहिए।कन्या विद्यालय में इस तरह के कृत्य निंदनीय हैं। किन्तु इस अध्यापक पर प्राचार्य की मेहरबानी का ये एक नही बल्कि अनेको उदाहरण हैं। देखना है ईमानदार कर्मठ शिक्षा व्यवस्था को सुधरने के लिए दृढ प्रतिज्ञ जिला शिक्षा अधिकारी प्राचार्य के चहेते इस अध्यापक पर क्या लगाम लगा पाते हैं या सिस्टम से असहाय नजर आते है

LEAVE A REPLY