• *स्कूली बच्चों के मध्यान भोजन में रोजाना परोसी जा रही है दाल और आलू की सब्जी*
  • *शहडोल*- प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक स्कूलों में मध्यान्ह भोजन योजना के तहत ग्रामीण बच्चे क्या खा रहे हैं इसे देखने अधिकारी कम ही स्कूल पहुंचते हैं स्कूलों में बच्चों के भोजन के लिए 6 दिन का मीनू चार्ट बनाकर चपसा कर दिया गया है लेकिन सच्चाई यह है कि हर दिन बच्चों को आलू और बड़ी की सब्जी परोसी जा रही है स्कूलों में भोजन कर रहे हैं लेकिन गुणवत्ता मे गड़बड़ी कार 6 दिन के मीनू के अनुसार भोजन नहीं परोसा जा रहा है मीनू के अनुसार बच्चों को भोजन नहीं दिया जा रहा है गौरतलब है कि स्कूलों में स्व सहायता समूह खाद सामग्री आपूर्ति करते हैं जो छात्रों को भरपेट भोजन कराने के हिसाब से पर्याप्त नहीं है शिक्षा विभाग द्वारा बच्चों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने के लिए मध्यान्ह भोजन योजना संचालित की जा रही है शिक्षा विभाग द्वारा जारी निर्देशानुसार शासकीय प्राथमिक व मिडिल स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को रोजाना मीनू में निर्धारित मात्रा अनुसार भोजन दिया जाना है इसके लिए शिक्षा विभाग द्वारा मध्यान भोजन संचालन के लिए स्वच्छता का ध्यान रखते हुए सर्व सुविधा युक्त किचन सेट का निर्माण कराया गया है जबकि मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम के अंतर्गत स्कूलों को गैस दिया गया है पर तब भी स्कूलों में भोजन चूल्हा से ही बनता है यह मामला जनपद पंचायत गोहपारू क्षेत्र सेमरा पंचायत और लमरा पंचायत की है यहां पर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है इन बच्चों को सही पोस्टिक आहार नहीं दिया जाता है क्या शासन-प्रशासन को यह सब नजर नहीं आता अब देखना यह है कि इन पर क्या कार्यवाही होती है

LEAVE A REPLY