भारत के आम चुनावो में उत्तर प्रदेश की भूमिका सबसे अहम होती है इसलिए देश की राजनैतिक राजधानी के नाम से भी जाना जाता है सभी छोटे बड़े राजनैतिक दलों की नज़र देश के सबसे बड़े सूबे में होती है।
हमने उत्तर प्रदेश के तमाम जनपदों लोकसभा सीट से सर्वे करके यह विश्लेषण आपके सामने रख रहे है कि उत्तर प्रदेश 2019 लोकसभा चुनाव में क्या नतीजे दे सकता है।

सबसे पहले उत्तर प्रदेश की वर्तमान स्तिथि से आपको अवगत कराना जरूरी है।

कुल लोकसभा सीटे(80)
वर्तमान स्तिथि
भाजपा-(68) समाजवादी पार्टी-(07) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस-(02) अपना दल(सोनेलाल)- (02) राष्ट्रीय लोकदल- (01)

अब उत्तर प्रदेश में वर्तमान स्तिथि को जनता का मूड देखे तो किस पार्टी को क्या देने के मूड में है सूबे की जनता

सभी पार्टी अपने दम पर चुनाव लड़ती है तो
भाजपा-(32-65)
भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस- (02-08)
समाजवादी पार्टी -(02-12)
समाजवादी पार्टी (मुलायम यदि प्रचार करते है तो)- (04-15)
बहुजन समाज पार्टी- (00-08)
अपना दल सोनेलाल-(00-01)
जनसत्ता(राजा भैया)-(00-02)
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया)-(00-02)
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(मुलायम सिंह प्रचार करेंगे तो)- (02-05)
राष्ट्रीय लोकदल-(01-03)
सोहेलदेव समाज पार्टी-(00-01)

अन्य दल-(00-01)

आइये एक नज़र डालते है कि यदि गठबंधन होता है तो

सबसे पहले वर्तमान गठबन्धन पर बात करते है
भाजपा+अपना दल सोनेलाल+सोहेलदेव समाज पार्टी (34-70)

समाजवादीपार्टी+भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस-(10-20)
समाजवादी पार्टी +पीस+निषादराज पार्टी -(03-13)
समाजवादी पार्टी+बहुजन समाज पार्टी-(12-25)
समाजवादी पार्टी+बहुजन+प्रगतिशील समाजवादी (शिवपाल)-(15-28)
समाजवादी+कांग्रेस+बहुजन+प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (शिवपाल)+रालोद-(35-48)

समाजवादी+प्रगतिशील(शिवपाल)+ जनसत्ता (राजा भैया)-(05-15)

समाजवादी पार्टी+जनसत्ता(राजा भैया)-(03-10)

राजाभैया+शिवपाल-(02-05)

भाजपा+राजा भैया-(35-68)

भाजपा+बहुजन समाज पार्टी-(45-75)

भाजपा+अपना दल सोनेलाल+राजा भैया+सुहैल देव समाज पार्टी-(36-70)

कुल मिलाकर जनता का रुझना यह कहता है कि उत्तर प्रदेश में नम्बर एक पार्टी बनकर उभरेगी अंक गणित के खेल में भाजपा नम्बर एक पर रहेगी
लेकिन अगर सभी दल विपक्ष में लामबंद हो जाते है तो भाजपा की सीटें
आधे से भी कम हो जाएगी लेकिन भाजपा फिर भी अंक गणित में सबसे नम्बर एक पर रहेगी

वर्तमान में राजा भैया और शिवपाल यादव के नए राजनैतिक दल बना लिए जाने के बाद से सभी पार्टीयों को नुक़सान होने की सम्भवना है
लेकिन जनता के बीच इन नए दलों का प्रभाव सिर्फ व्यक्तिगत नेताओ के अपने अपने क्षेत्र में पड़ेगा और पूरे प्रदेश में बहुत बड़ा फर्क नही पड़ेगा क्योंकि जनता को यह पता है कि इन दलों के साथ जाने से वो केंद्र की राजनीति से खुद को बाहर कर बैठेंगे
इसलिए अगर एकजुट विपक्ष नही दिखा तो ऐसी स्तिथि में भाजपा को सायद बढ़त भी मिल सकती है लेकिन यह बढ़त वर्तमान सीटों की स्थिति के आधार में हो सकती है लेकिन
2014 के आम चुनाव के आधार पर मिली सीटों से भाजपा को बढ़त मिलने की संभावना न के बराबर है
कुल मिलाकर भाजपा को उत्तर प्रदेश से कुछ निराशा हाथ जरूर लगेगी
लेकिन इतनी नही की वो सत्ता से बाहर हो जाये
लेकिन अगर विपक्ष लामबंद होता है तो भाजपा बहुमत के साथ केन्द्रस्थ नही हो सकेगी इससे भी इंकार नही किया जा सकता

ख़ास-:- उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी या प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) में से जिस भी पार्टी का प्रचार
मुलायम सिंह यादव करेंगे उस पार्टी को (02-05) सीटों का प्रभाव होगा लाभ मिलने की सम्भावना है।

अगले अंक में उत्तर प्रदेश के सभी 80 सीटों पर सीट वार आँकड़ा प्रस्तुत करने का प्रयास रहेगा
आप सभी पाठक
गण
अपने विचार व अपने क्षेत्र स्तिथि से अवगत कराने हेतु
आमंत्रित है

-whatsapp(9454118975)
ईमेल-sunamihindinewsup@gmail.com
फेसबुक-m.facebook.com/sujeetsujeetmishrasittee/

सुजीत कुमार मिश्रा सिट्टी
राज्य संपादक-उत्तर प्रदेश

 

नोट-सुनामी मीडिया ग्रुप सुनामी न्यूज़ वेब टीवी इस सर्वे को आधिकारिक नही कहता है चुनाव के परिणाम हमारे आंकड़ो से भिन्न हो सकते है। यह आंकड़ा किसी भी राजनैतिक दल के समर्थन या विरोध से सम्बन्ध नही रखता है न मतदान को प्रभावित करने के उद्देश्य से किया गया है।

LEAVE A REPLY