SUNAMI NEWS TV_माओवादियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए लगाए बैनर पोस्टर।

लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने की अपील।

छुरा। गरियाबंद जिले के छुरा विकास खण्ड में बीते रात माओवादियों ने छुरा थाना से महज छ किलोमीटर दूर ग्राम सेम्हरा से रसेला मुख्य मार्ग में नक्सलियों के लोकसभा चुनाव बहिष्कार के पर्चे एवं बैनर लगाये गये हैं वही ग्राम रसेला छुरा से सत्रह किलोमीटर की दूरी पर बस स्टैंड में माओवादियों के तीन बैनर टंगे हुये हैं और भारी मात्रा में पर्चा भी चस्पा किया गया है सुनंदा बस में पर्चा चस्पा किया गया है। रसेला बस स्टैंड पर ईट के ढेर में वायर लगा हुआ है जिसे नक्सलियों ने ग्रामीणों को चेताया है कि बम है कोई भी व्यक्ति न छूये। पुलिस ने बम निरोधक दस्ते के इंतजार में हैं नक्सलियों ने जहां बम बताया है वहीं पर बैनर टंगा हुआ है जिसे भी नहीं निकाला गया है। लोकसभा चुनाव का बहिष्कार बताया गया है पर्चा में नक्सलियों ने वह इस क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए है विगत पन्द्रह दिनों से छुरा थाना क्षेत्र एवं पीपरछेडी थाना क्षेत्र में नक्सलियों की गतिविधि सक्रिय हैं तेंदूपत्ता ठेकेदारों से विगत तीन बरस से उगाही नहीं किया जा सका है गरियाबंद जिले के पुलिस अधीक्षक की घेराबंदी के कारण जिसके चलते सरायपाली कोठी गांव में बीते साल एक ट्रक एवं तेंदूपत्ता को आग के हवाले माओवादियों ने किया था। माओवादियों की फंडिंग अगर पुलिस ने इस बार भी रोका तो भडकें नक्सलियों ने तेंदूपत्ता को नुकसान पहुंचाने का काम कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ के अंतिम छोर छुरा थाना क्षेत्र के गांव माओवादियों के अराम गाह हैं। माओवादियों के फंडिंग नेटवर्क को तोड़ने के लिए अहम भूमिका निभाने वाले युवा पुलिस अफसर सचिन सिहं का तबादला रायपुर हो जाने के बाद गरियाबंद जिले में नक्सलियों के फंडिंग को रोकने के लिए पुलिस की सक्रियता निहायत जरूरी है। पुलिस कप्तान एम आर अहिरे आज की इस घटना के बाद कोई ठोस रणनीति पर काम कर सकते हैं और इस बार भी नक्सलियों की आर्थिक स्थिति पर अहिरे का फायरिंग चलेगा।
-लंबे समय के बाद नक्सलियों ने अपने नाकाम इरादों को फिर जाहिर करते हुए होने वाले लोकसभा चुनाव को बहिष्कार की घोषणा ग्रामीणों से की है इस बार नक्सलियों ने उड़ीसा सीमा के समीप रसेला गांव के बस स्टैंड एवं बस स्टैंड में खड़े बस पर बैनर पोस्टर लगाकर लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की अपील ग्रामीणों से की है वहीं बीती रात को इस पोस्टर बैनर लगाने के बाद आज सुबह रसेला गांव में एकाएक इस दृश्य को देख लोगों ने पुलिस थाना तक सूचना दी जिसके बाद पुलिस ने तत्काल यहां पहुंच स्थितियों को देखते हुए लगाए गए बिजली के वायर व अन्य सामानों को चेक करते हुए पाया कि नक्सलियों ने जो यहां लिखकर बम होने की बात कही थी वह पूरी तरह से कपोल कल्पित है और बस स्टैंड पर लगे बैनर पोस्टर व वायर को निकाल कर पुलिस ने जप्त कर लिया है इस संबंध में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुखनंदन राठौर ने कहा कि यह भय और आतंक फैलाने की नक्सलियों की नाकाम साजिश है जिसे पुलिस ने असफल कर दिया है और ग्रामीण अच्छे से जानते हैं लोकतंत्र में चुनाव ही प्रजातंत्र काआधार है और इस बार और बढ़ चढ़ चढ़कर आगे आकर ग्रामीण जन अपना मतों का इस्तेमाल करेंगे

लंबे समय से गरियाबंद जिला नक्सली आतंक से मुक्त था लगातार सचिँग के चलते एक तरह से नक्सली बैक फुट पर चले गए थे किन्तु सीमावर्ती क्षेत्रों में अपनी दस्तक दे रहे थे आज लंबे समय के बाद नक्सलियों ने गरियाबंद उड़ीसा सीमा पर स्थित रसेला गांव में बीती रात बस स्टैंड एवं वहां खड़े बस पर बैनर पोस्टर लगाकर लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की बात कहते हुए इन पोस्टर बैनर के मध्य बिजली का वायर लगा कर लिख दिया कि यहां पर बम है इसे कोई जनता छुए ना इस वाक्य के बाद आज सुबह जब लोगों ने यह सब देखा वही रसेला गांव के प्री मैट्रिक छात्रावास के दिवालो में भी यह लिखा हुआ पाया गया जिसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस अधिकारी को इस घटना की सूचना दी जिसके बाद तत्काल पुलिस अधिकारी इस स्थल पर पहुंचकर बड़ी बारीकी से डॉग स्क्वाड वा बम विरोधी दस्ते ने अपने हुनर के बदौलत एक-एक करके सारी चीजों को टटोलने के बाद वहां से जब पाया गया कि कहीं भी कोई बम नहीं है तब उन्होंने वहां से सारी चीजों को निकाल कर जप्त कर लिया

इस संबंध में आज अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुखनंदन राठौर से चर्चा करने पर वे कहते हैं यह पूरी तरह से नक्सलियों का भय और दहशत फैलाने का तरीका है और हर चुनाव में इस तरह की बातें नक्सली करते हैं किंतु क्षेत्र की जनता बहुत होशियार और समझदार है वे जानते हैं कि प्रजातंत्र में मतदान ही उनका प्रमुख अधिकार है और उसी के माध्यम से वे अपनी बात ऊपर तक पहुंचाते हैं इस बार भी वह पूरी तरह से बढ़ चढ़कर लोकसभा चुनाव में भाग लेंगे नक्सलियों के मंसूबे को किसी भी स्थिति में कामयाब नहीं होने देंगे

LEAVE A REPLY