ग्राम पूरब पट्टी नरहरपुर विकास खण्ड मंगरौरा तहसील पट्टी, प्रतापगढ़ फर्जी आवास आवंटन विषयक शिकायत प्राप्त होने पर जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही द्वारा उपजिलाधिकारी पट्टी, बीएसएस (आईडब्लूएमपी) प्रतापगढ़, जिला विद्यालय निरीक्षक तथा डी0सी0 मनरेगा की चार सदस्यीय टीम गठित कर व्यापक जांच कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये है। फर्जी आवंटन के प्रकरणों में छद्म नाम से पूर्व से बने मकान को दिखाकर आवास आवंटन धनराशि निकाल लिये जाने और विभिन्न अनियमितता बरती गयी है। इसमें से प्रमुखतः राम समुझ एमडीपीजी कालेज के सेवानिवृत्त चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है और 14 कमरों का पक्का मकान है, इन्हें प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिया गया है तथा रामनवल को 2008 में इन्दिरा आवास दिया गया था पुनः प्रधानमंत्री आवास का लाभ दिया गया है। शौकत अली के पास पक्का मकान है, इसी को दिखाकर प्रधानमंत्री आवास का धन समायोजित किया गया है। इसी प्रकार प्रभु देवी को प्रधानमंत्री आवास आवंटित है इनके पति का मकान दिखाकर आवास की धनराशि आहरित की गयी है। बाउनी सुत सम्पत्ति के पास तीन बीघा जमीन व चार कमरों का पक्का मकान है पुराने मकान के आधार पर आवास की धनराशि आहरित की गयी है। जितना पुत्री शितलू के नाम प्रधानमंत्री आवास आवंटित है और इनके पति को वर्ष 2015 में आवास दिया गया था। कविता पुत्री हुदा के नाम से प्रधानमंत्री आवास आवंटित है किन्तु इस नाम कोई व्यक्ति ग्रामसभा में नहीं है। राजकुमार का बड़ा पक्का मकान पहले से है, इन्हें भी आवास आवंटित है। छेदीलाल को प्रधानमंत्री आवास आवंटित है, 1995 में इनकी माता बड़का के नाम इन्दिरा आवास दिया जा चुका है। उर्मिला पुत्र जयराम के नाम प्रधानमंत्री आवास आवंटित है किन्तु इनके पति के पास दो पक्के मकान पहले से ही है। इसी प्रकार आवास के लाभार्थी व वेबसाइट के अनुसार लाभार्थी के नाम में भिन्नता है। आवास आवंटन में दूसरे का नाम और धनराशि अन्य के खाते में भेजी गयी हैं। उपरोक्त विभिन्न प्रकार के एक दर्जन से अधिक मामलों में आवास आवंटन कार्यवाही में व्यापक रूप से अनियमितता बरते जाने विषयक शिकायत को जिलाधिकारी द्वारा अत्यन्त ही गम्भीरता से लेते हुये कार्यवाही की जा रही है।
इसी प्रकार निवासी ग्राम भदरी विकास खण्ड कुण्डा तहसील कुण्डा में फर्जी आवास आवंटन विषयक शिकायत प्राप्त होने पर जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी कुण्डा, बीएसएस(आईडब्लूएमपी) प्रतापगढ़, जिला विद्यालय निरीक्षक तथा डी0सी0 मनरेगा की चार सदस्यीय टीम गठित कर व्यापक जांच कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये है। फर्जी आवास आवंटन के प्रकरणों में शान्ती विधवा गुलजार की बीपीएल आईडी पर किसी अन्य महिला को दिखाकर आवास का धन निकलवा लिया गया है। इसी प्रकार अन्य कई प्रकरणों में फर्जी बीपीएल आई0डी0 दिखाकर आवास का धन निकाला गया है। प्रधान भदरी व कुछ अज्ञात जालसाज लोग साजिश कर चचेरे भाई के साले लक्ष्मन जो कालाकांकर ब्लाक का निवासी को भदरी मौजे का दिखाकर लोहिया आवास दिया गया है। त्रिभुवन सुत बुधई को दो बार आवास का लाभ दिया गया है। अन्य विभिन्न प्रकार के 08 मामलों में आवास आवंटन कार्यवाही में व्यापक रूप से अनियमितता बरते जाने विषयक शिकायत को जिलाधिकारी द्वारा अत्यन्त ही गम्भीरता से लेते हुये कार्यवाही की जा रही है।

LEAVE A REPLY