3 दिवसीय निःशुल्क “ध्यानोत्सव” 10 से
 प्राणाहुति माध्यम से कराया जायेगा आत्म साक्षात्कार
कसडोल। भारत सदैव आध्यात्मिकता का घर रहा है। पर आज के दौर में हम अपनी युग पुरातन योग पद्धत्ति को पूर्णतः भूल चुके है। आध्यात्म या स्थान ठोस भौतिकतावाद ने ले लिया है। पर एक ऐसी पद्धत्ति है, जो लोगो को फिर अध्यात्म के पथ पर वापस ला रही है। जो प्राणाहुति के माध्यम से आत्म साक्षात्कार कराती है।
श्री रामचंद्र मिशन “सहज मार्ग” संस्था हार्टफुलनेस के माध्यम से भारत ही नही अपितु सकल विश्व में निःशुल्क “ध्यानोत्सव” शिविर का आयोजन किया जा रहा है। जिसका लाभ अब तक लाखो लोग उठा चुके है। भारत के प्रत्येक हिस्से में “ध्यानोत्सव” के माध्यम से लोग आत्म साक्षात्कार यानी ईश्वरानुभूति का लौकिक आंनद ले रहे है।
धर्म कर्म की भूमि कसडोल में भी निःशुल्क 3 दिवसीय “ध्यानोत्सव” का शिविर का आयोजन किया गया है। यह आयोजन शाम 5 से 6 बजे गुरु घासीदास शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में होगा। जिसमे तनाव मुक्ति, आंतरिक शुद्धिकरण के माध्यम से लोगों को दिव्य से जुड़ाव के मार्ग ध्यान माध्यम से सिखलाया जायेगा। “ध्यानोत्सव” के प्रथम दिवस शनिवार 10 अगस्त को “तनावमुक्ति” की क्रिया कराई जाएगी। दूसरे दिवस 11 अगस्त को ध्यान के माध्यम से आंतरिक शुद्धिकरण कराया जायेगा। अंतिम दिवस 12 अगस्त को प्रार्थना एवं दिव्य जुड़ाव की अनोखी पद्धति से अवगत कराया जायेगा। उक्त तीनों दिवस ध्यान के माध्यम से ही सारी प्रक्रियाएं कराई जाएगी। जिसमे श्री रामचंद्र मिशन योगाश्रम रायपुर से ध्यान पद्धति के प्रशिक्षक उपस्थित रहेंगे। जो प्राणाहुति के माध्यम से लोगों को अध्यात्म और ध्यान पद्धत्ति से प्रशिक्षित करेंगे।

युवराज यादव 09977508311

LEAVE A REPLY