आई टी आई क्लास करने बेगूसराय से दलसिंहसराय आ रही थी ।

ट्रेन के स्थानीय स्टेशन पर नहीं रुकते देख दोनों बहनों ने लगाई थी छलांग।
दलसिंहसराय।समस्तीपुर। बरौनी रेल खंड के बीच अवस्थित  स्थानीय दलसिंहसराय रेलवे स्टेशन पर  बुधवार की सुबह रांची जयनगर एक्सप्रेस ट्रेन के रुकते नहीं देख दोनों सगी बहनों ने कूद कर उतरने का प्रयास किया। जिसमें दोनों गम्भीर रूप से जख्मी हो गई।जिसे आरपीएफ इन्सपेक्टर धनन्जय कुमार एवं जीआर पी के एसआई   सुरेश राम ने आनन-फानन में अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया जहाँ दोनों बहनों की मौत हो गई। मिली जानकारी के मुताबिक मृतका दोनों बहने बेगुसराय जिले के भगवानपुर थाना क्षेत्र के बगरस गांव के वार्ड तीन निवासी श्याम बिहारी महतो की पुत्री मौसम कुमारी उम्र 23 बर्ष एवं रंजना कुमारी उम्र 21 बर्ष ट्रेन से अपने गाँव से राष्ट्रीय उच्चपथ 28 सरदारगंज चौक के निकट मॉल के समीप संचालित माँ रंकिनी आईटीआई नामक संस्थान में पढ़ने आ रही थी इसी क्रम में दलसिंहसराय स्टेशन पर ट्रेन को रुकते नहीं देख दोनों ने ट्रेन की गति को धीमी होते देख कूद कर उतरने का प्रयास की। जिसमे दोनों बहनें गंभीर रूप से जख्मी हो गयी ।जिन्हें काफी नाजुक हालत में इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ अस्पताल पहुंचते ही दोनों बहनों को डॉ जवाहर साह ने इलाज शुरू किया जो कुछ ही समय में एक बहन ने दम तोड़ दिया।वंही दूसरी बहन ने भी इलाज के क्रम में   दम तोड़ दिया। सूचना मिलने पर  आईटीआई के उसके सहकर्मी एवं शिक्षक अस्पताल पहुँच कर परिजनों के आने का इंतजार कर रहे थे। महज कुछ घंटे में ही मृतका के मामा बेगुसराय जिला के मंसूरचक थाना क्षेत्र के गोविंदपुर निवासी नागो महतो, पत्नी सुचिता देवी एवं उसी गांव के विधवा मामी स्व कैलाश महतो की पत्नी रंजू देवी अस्पताल पहुँच गए।पिता के आने के बाद उन्होंने बताया कि एक और चचेरी बहन संजय महतो की पुत्री आरती कुमारी तीनो बहन रोज पढ़ने के लिए आती थी।आरती नहीं उतर सकी और समस्तीपुर से वापस अस्पताल पहुँची तो दोनों बहनें को देख बेहोश हो गई। पिता के द्वारा रेलवे जीआरपी के एएस आई सुरेश राम को लिखित बयान देकर जिसमे रेलवे से कोई मुआवजा नही लेने के साथ शव को अपने साथ ले जाने की आवेदन दियाऔर दोनों बच्चियों के शव को अपने साथ ले गए। माहौल काफी गमगीन बना था। परिजनों के साथ साथ गांव के लोगों की भीड़ जमा हो गया था। सभी परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था।

LEAVE A REPLY