ब्यूरो प्रदीप शर्मा,गोपालगंज।

बिहार के गोपालगंज जिले के कटेया थाना क्षेत्र के अमेया पंचायत से एक खबर प्रकाश में आया है जहां पटना हाई कोर्ट के आदेश के आलोक में स्थानीय प्रशासन ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अतिक्रमण की गई सरकारी भूमि को मुक्त कराया

हाईकोर्ट के आदेश के बाद स्थानीय प्रशासन ने सरकारी भूमि से कराया अतिक्रमण मुक्त।

बता दे की कटेया प्रखंड के अमेया पूर्वी टोला निवासी प्रमोद बैठा की पत्नी क्लान्ति देवी वर्तमान में पंचायत की मुखिया प्रत्याशी है इनके पति के द्वारा
धोबही पोखर की भिट की सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर अवैध रूप से मकान निर्माण का कार्य कराया गया था हलाकि इस गांव के अन्य छह लोगों ने भी इस जमीन पर अवैध रूप से अतिक्रमण कर घर बनवा लिया था इस मामले को लेकर गांव के ही एक व्यक्ति ने पटना हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी पटना हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान गोपालगंज जिला प्रशासन को सरकारी भूमि से अतिक्रमण मुक्त करने का आदेश जारी किया था इसके आलोक में मंगलवार की रोज कटेया अंचलाधिकारी अफजल हुसैन सहित पंचदेवरी प्रखंड विकास पदाधिकारी आनंद कुमार विभूति कटेया प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश कुमार चौबे स्थानीय थाना अध्यक्ष अश्वनी कुमार तिवारी सहित जिला मुख्यालय से आई महिला पुलिस टीम की मौजूदगी में स्थानीय प्रशासन ने जेसीबी लगाकर अतिक्रमण को खाली कराया इस दौरान मुखिया के मकान के आधे हिस्से को प्रशासन ने पूरी तरह तोड़ कर खाली कर दिया साथ ही स्थानीय गांव निवासी माधव बैठा शिवजी बैठा दीनानाथ बैठा वीरेंद्र बैठा स्वामी बैठा केवल माझी के मकान को भी पूरी तरह जेसीबी लगाकर अतिक्रमण मुक्त कर दिया गया बता दें कि इस कार्रवाई के बाद अतिक्रमणकारियों में पूरी तरह हड़कंप मचा हुआ है ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी जनप्रतिनिधि के ऊपर जिला प्रशासन ने इस तरह की कार्यवाही की हो,

LEAVE A REPLY