सुनामी न्यूज़ टीवी गोपालगंज।

गोपालगंज जिले के भोरे पुलिस ने हथुआ अनुमंडलिय न्यायालय द्वारा जारी किए गए आदेश के अवहेलना के मामले में स्थानीय थाना क्षेत्र के सेमरौना गांव निवासी इंद्रदेव चौरसिया और हरकेश चौरसिया को उस वक्त गिरफ्तार कर लिया जब यह लोग स्थानीय थाने के द्वारा हथुआ अनुमंडलीय वाद 146 (1) के तहत जप्त की गई जमीन मैं स्थानीय गांव निवासी इंद्रदेव चौरसिया के द्वारा फसल बुवाई के बाद खेत में खड़ी फसल की कटाई कर अपने दरवाजे पर लाकर रख दिया गया, बता दे कि इस वाद की सुनवाई अनुमंडलीय न्यायालय में रामचंद्र चौरसिया बनाम रामायण चौरसिया चल रहा था जिसमे यह लोग अरोपिति थे कोर्ट के सुनवाई के दौरान हथुआ अनुमंडलीय कोर्ट ने इस जमीन को जप्त कर दिया था। लगी फसल का रिसीवर भोरे थाना अध्यक्ष को बनाया गया था थाना अध्यक्ष ने फसल की रक्षा के लिए वहां पर चौकीदार नियुक्त किया गए था, उसके बावजूद भी ना सिर्फ फसल को काट लिया गया बल्कि चौकीदार को धमकी देते हुए फसल को दरवाजे पर जमा कर लिया गया, वहीं स्थानीय चौकीदार की सूचना पर थाना अध्यक्ष भोरे जंगो राम ने इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए 2 लोगों को हिरासत में ले लिया,
वही ग्राउंड जीरो से मिली रिपोर्ट के मुताबिक बताया जाता है कि स्थानीय सैमरोना गांव निवासी हरकेश चौरसिया जमीनी विवाद को बढ़ता देख रोजी रोटी के चक्कर में यह् विदेश चला गया घर पर इसकी पत्नी और बच्चे रहते हैं न्यायालय में वाद विवाद के चलते इसकी पत्नी ने उपरोक्त भूमि पर फसल की बुवाई नहीं की थी, सवाल यह है कि जब जप्त की गई जमीन पर फसल की बुवाई हुई नहीं जमीने परती पड़ी रही,तो फसल की कटाई कैसे हो गई जिसके आरोप में हरकेश चौरसिया को हवालात के अंदर बंद कर दिया गया वहीं स्थानीय पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद इन दोनों पर न्यायालय के आदेश की अवहेलना और सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कर न्यायिक हिरासत में मंडल कारा भेज दिया गया ।

Pardeep kumar.

LEAVE A REPLY