प्रतापगढ़ l जनपद के विभिन्न बाजारों से दिल्ली को जाने वाली रोडवेज बसों का आज कल टोटा हो गया है अब उनकी जगह लग्जरी बसों ने स्थान ले लिया है रोडवेज बसों का बंद हो जाने से जहां सरकार के राजस्व का महीने में करोड़ों का घाटा हो रहा है वहीं दूसरी ओर सामान्य आदमी लग्जरी बसों का किराया देने में अक्षम हैं रोडवेज बसों से दिल्ली जाने पर लगने वाला किराया लगभग 400 है लेकिन लग्जरी एसी बसों का किराया 1000 से 1200 है मजबूरी इस बात की है रोडवेज बसें इनके आगे फेल होती नजर आ रही और गरीब आदमी की जेब ढीली कर बिना परमिट वाली बस मालिक सारा पैसा पर अपनी दूकान सजाए गए हैं जो राजस्व को जाना चाहिए, जो देश हित में लगना चाहिए, वह प्राइवेट गाड़ियों के मालिकों के जेब में अंधाधुंध जा रहा है ,जिस पर एक मोटी रकम जिले के अधिकारियों आरटीओ विभाग विभागीय कर्मचारियों को भी यह बस वाले पहुंचाते हैं और रोड पर चल रहे हैं इनकी परमिट भी नहीं है लेकिन अधिकारियों के सह और पैसे के बल पर इनकी गाड़ियां दौड़ रही है लोगों की जेब ढीली हो रही है, लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए एक मोटी रकम खर्च करना पड़ता है और शासन को राजस्व का महीने में करोड़ों का घाटा एक ही जिले से उठाना पड़ रहा है, अब यह स्थित आ गई है कि जिले के कई बड़ी बाजारों से दिल्ली चलने वाली रोडवेज की बसें बंद हो गई है अगर समय रहते विभाग ने नहीं चेता तो रोडवेज बसों का संचालन पूर्ण रूप से बंद हो जाएगाl

LEAVE A REPLY