12।12।2019।
संवाददाता के के गुप्ता कुचायकोट।

कुचायकोट थाना क्षेत्र के बखरी गांव की घटना,

स्वांतना देने के लिए लगा ग्रामीणों का ताता

गांव में शव पहुचते ही कोहराम मच गया पति के मौत के बाद पत्नी बबुन्ति देवी का रो रो कर बुरा हाल था बार-बार दहाड़ मार कर रो रही थी और बेहोश हो जा रही थी वो बार बार कह रही थी कि हमरा के छोड़ के कहां चल गइले अब हम केकरा सहारे रहेम अब हमारा परिवार के देखे वाला केहू नईखे ? गांव के लोग पत्नी को सांत्वना दे रहे थे बता दें कि कुचायकोट थाना क्षेत्र के चंद्रमा मोड़ पर बुधवार को सासामुसा से सब्जी खरीदकर साइकिल से अपने घर बखरी लौट रहे थे इसी दौरान कमांडर जीप ने ठोकर मार दी जिससे शैलेश कुमार राम की मौत घटनास्थल पर ही हो गई इसकी सूचना कुचायकोट पुलिस को दी मौके पर पहुंची पुलिस को आक्रोश का भी सामना करना पड़ा आक्रोशित ग्रामीणों ने सासामुसा खानपट्टी मुख्य सड़क को जाम की थी बखरी पंचायत के मुखिया संघ के अध्यक्ष चंद्रकांत सिंह उर्फ चिंटू सिंह ने मुआवजा दिलाने के आश्वासन पर समझा-बुझाकर आक्रोशित ग्रामीणों को शांत करवाया और जाम को हटवाया जा सका था आक्रोशित ग्रामीणों ने शव को पुलिस को सौंप दिया पोस्टमार्टम कराने के बाद शव गांव में पहुंचा कोहराम मच गया

अब कौन बनेगा परिवार का सहारा

पति के मौत के बाद बच्ची प्रिया का देख रेख कौन करेगा उसका परवरिश कैसे होगा इसी को लेकर पूरे इलाकों के लोगों को चिंता सता रही है

मुखिया ने दी सहायता राशि

शैलेश की मौत के बाद बखरी पंचायत के मुखिया अध्यक्ष चंद्रकांत सिंह उर्फ चिंटू सिंह ने पहुंचकर परिजनों को सांत्वना दी और र पांच हजार की सहायता राशि प्रदान की

गांव में नहीं जला किसी के घर चूल्हा

शैलेश के मौत की खबर मिलते ही किसी के घर में चूल्हा नहीं जला शैलेश मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करता था परिवार की परवरिश को लेकर प्रतिदिन मजदूरी करता था उन्हें क्या पता कि उसकी मौत रास्ते मे काल बनकर बैठा है

LEAVE A REPLY