सुनामी एक्सप्रेस गोपालगंज।
ब्यूरो चीफ प्रदीप शर्मा गोपालगंज।

भोरे में आयोजित जन एकजुटता रैली को किया संबोधित
करते हुवे भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने केंद्र की मोदी सरकार पर चौतरफा हमला बोला है  उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि हिटलर की तानाशाही को सभी ने इतिहास में पढ़ा होगा, लेकिन जीवंत हिटलर आपके सामने हैं.भारत के प्रधानमंत्री एक तानाशह की तरह भारत के संविधान को चकनाचुर कर रहे हैं. आज ये वक्त आ गया है कि ऐसे लोगों की तानाशाही को तोड़ा जाय. उक्त बातें भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने कही. मौका था भोरे के गांधी स्मारक हाई स्कूल सह इंटर कॉलेज के खेल मैदान में आयोजित जनएकजूटता रैली का. सभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय महासचिव श्री भट्टाचार्य ने कहा कि सीएए और एनआरसी वैसे ही हैं, जैसे केंद्र सरकार ने नोटबंदी के समय बातें कही थीं. प्रधानमंत्री ने 50 दिनों के अंदर काला धन लाने वाले लोगों पर कार्रवाई करने की बात 2014 में कही थी. लेकिन आज कई वर्ष बीत गये.ना तो कालाधन खत्म हुआ  और ना हीं इस देश में रोजगार से लेकर कल कारखानों में बढ़ोत्तरी हुई.

मुदे भटकाने के लिए सरकार कर रही है राष्ट्रवाद की बात।

केंद्र सरकार लोगों का मुद्दा भटकाने को लेकर लगातार राष्ट्रवाद, पाकिस्तान और हितुत्व की बात कर रही है. उन्होंने आगे कहा कि असम में एनआरसी के नाम पर 19.5 लाख लोगों को बाहर कर दिया गया. माता पिता को अगर नागरिकता है, तो क्यों उनके बच्चे डिटेंशन कैंप में रह रहे हैं.  इसमें अधिकांश लोग ऐसे हैं, जो बिहार और उत्तर प्रदेश से आकर वहां बसे थे. एनआसी की ओर से 73 हजार बिहारी लोगों की पहचान के लिए राज्य सरकार के पास पत्र भेजा गया था. लेकिन राज्य सरकार की उदासीनता के कारण 56 हजार लोग असम से बाहर हो गये. ऐसे में एनआसी और सीएए का विरोध जायज है. उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि खुद को गरीबों का मसीहा कहने वाली नीतीश सरकार ने जल जीवन हरियाली के नाम पर 50 लाख भूमिहीन परिवारों के पास नोटिश भेज दिया है. जिनके पास इस सुशासन की सरकार ने 15 वर्षों में एक छत तक मुहैया नहीं करायी. अपने 30 मिनट के संबोधन में उन्होंने इस कानून के विरोध में लोगों से आगे आने की अपील की, और कहा कि जब तक इस देश गरीब नहीं जागेगा. तब तक इस देश में तानाशाही राज चलता ही रहेगा.

विधायक के नेतृत्व में होगा बिहार विधानसभा का घेराव।

उन्होंने इस रैली में मौजूद लोगों से अपील करते हुए कहा कि इस काले कानून को लेकर आगामी 25 फरवरी को विधानसभा का घेराव किया जाना है, जिसमें आप सबों की सहभागिता आवश्यक है, ताकि बिहार की निरकुंश सरकार को ये पता चले कि गरीबों का साथ अब उनके पास नहीं है. इस घेराव का नेतृत्व दरौली के विधायक सत्यदेव राम के द्वारा किया जायेगा. इस रैली को सेवानिवृत डीएसपी जावेद जफर ने भी संबोधित  किया. मौके पर मौजूद लालबहादुर सिंह, सुभाष पटेल, जितेंद्र पासवान, धर्मेंद्र चौहान, रीना शर्मा, रामनरेश राम, आलम खां, इस्तेयाक खां सहित दर्जन भर लोगों ने संबोधित किया।

LEAVE A REPLY