सुनामी एक्सप्रेस
ब्यूरो प्रदीप शर्मा।गोपालगंज।

विजयीपुर के चरखिया मठ पर चहारदीवारी के निर्माण कार्य को लेकर साइट पर आए ठेकेदार अपहरण कांड में पुलिस ने ठेकेदार का बयान दर्ज किया है. जिसके आधार पर पुलिस ने एक नामजद और तीन अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की है. मामले की गंभीरता को देखते हुए और मुख्य आरोपित की गिरफ्तारी को लेकर टीम गठित कर दी गई है, जो उसके संभावित ठिकानों पर लगातार छापेमारी कर रही है. बता दें कि विजयीपुर थाने के खापे गांव के पास चरखिया राम जानकी मंदिर की चहारदीवारी निर्माण कार्य का टेंडर गोपालगंज के जादोपुर निवासी कमलेश राय को मिला था. कार्य शुरू कराने के लिए अमलेश राय मंगलवार को मठ पर पहुंचे थे. इसी दौरान एक सफेद रंग की गाड़ी में हथियारों से लैश अपराधियों ने आते ही दहशत फैलाने के लिए फायरिंग शुरू कर दी. जिसमें खापे गांव का ही विक्रम सिंह के साथ तीन अन्य लोग भी शमिल थे. पुलिस को दिये बयान में ठेकेदार ने कहा है कि हमलावर जब आये तो उन्होंनें कहा कि विजयीपुर में और ठेकेदार नहीं हैं, कि तुम इतनी दूर से आकर यह काम कर रहे हो. यह कहते हुये उनलोगों ने पहले मोबाइल छीन लिया फिर फायरिंग करते हुए स्कॉर्पियो में बिठाकर पहले किसी एक घर के पास ले गये. फिर फाजिलनगर के पास ले जाकर छोड़ दिये. इस मामले को लेकर पुलिस ने खापे गांव के विक्रम सिंह सहित तीन अज्ञात लोगों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी है. मामले की गंभीरता को देखते हुए हथुआ के एएसपी अशोक कुमार चौधरी के निर्देश पर पुलिस टीम गिठत की गयी है. जो लगातार छापेमारी कर रही है. इधर, विजयीपुर थानाध्यक्ष संजीत कुमार ने प्राथमिकी दर्ज कर लिया गया है, मामले की छानबीन की जा रही है.

LEAVE A REPLY