सुनामी एक्सप्रेस गोपालगंज ।
ब्यूरो प्रमुख प्रदीप शर्मा गोपालगंज

सत्र बदल गए साल नए आ गए लेकिन नहीं बदला तो उस चौकीदार का हलात जो आज बारह माह से अपने वेतन के लिए कुचायकोट अंचल कार्यालय से लेकर प्रखंड कार्यालय तक का चक्कर लगाकर थक सा गया है ।

 

क्या कुर्सी पर बैठे सरकारी रहनुमाओं के आश्वासन से बुझ जाती है पेट की आग

मीडिया के सामने चौकीदार के दिए गए बयान ने तो सिस्टम के ऊपर ही सवाल खड़े कर दिए हैं बताया जाता है कि कुचायकोट थाना मे कार्यरत चौकीदार मैनेजर चौधरी का एक साल पहले अंचल कार्यालय में वेतन के लिए जमा किया गया खाता नंबर गलत हो गया था जिस कारण इनका वेतन विभाग के द्वारा रोक दिया गया वेतन नहीं मिलने से परेशान चौकीदार अंचल कार्यालय पहुंचा जहां खाता नंबर गलत दर्ज होने का हवाला देकर पदाधिकारियों ने सही खाते नंबर की मांग की गई खाता नंबर देने के बाद भी चौकीदार का वेतन अगले माह नहीं आया इसी बीच अंचल कार्यालय से अंचलाधिकारी का तबादला हो गया,तबादले के बाद अंचल कार्यालय का प्रभार प्रखंड विकास पदाधिकारी को मिला चौकीदार ने प्रखंड विकास पदाधिकारी के यहां दर्जनों बार जाकर अपनी बातें रखी लेकिन विभाग के तरफ से ओटीपी का हवाला देते हुए यह कहा गया कि सीओ आएंगे तभी आपका वेतन मिल पाएगा,आज 1 साल बीतने के कगार पर है चौकीदार सभी दरवाजों की चक्कर लगा चुका है परिवार आज भुखमरी के कगार पर खड़ा है लेकिन कुर्सी पर बैठे सरकारी रहनुमा जगने का नाम नहीं ले रहे हैं, चौकीदार जगाने की कोशिश भी करता है तो सिर्फ आश्वासन देकर इसे सुला दिया जाता है क्या आश्वासन से पेट की आग बुझ जाती है चौकीदार के बयान ऐसे कई सवाल खड़े करते हैं जिनका जवाब मिलना अभी बाकी है।

LEAVE A REPLY