देवरिया जिला पंचायत बोर्ड की शनिवार को हुई बैठक में सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्रों की समस्याओं को उठाया। सदस्यों ने जिला पंचायत के धन निर्मित सड़कों पर लग रहे बोर्ड पर संबंधित सदस्यों के नाम अंकित करने की मांग की। बरहज विधायक की आपत्ति पर एक सदस्य से उनकी तीखी बहस हो गयी।
जिला पंचायत सभागार में जिलाधिकारी/जिला पंचायत अध्यक्ष की अध्यक्षता में लगभग एक बजे बैठक शुरु हुई। सदस्य कृपाशंकर उपाध्याय ने कंचनपुर, गोरयाघाट व लाहीपार-करौँदी मार्ग के खराब होने का मामला उठाया। जिला योजना में जिला पंचायत सदस्यों के प्रस्ताव को नहीं शामिल किए जाने का सदस्यों ने विरोध किया। अध्यक्ष के आश्वसन के बाद सदस्य शांत हुए। नवलपुर-भागलपुर व गजहड़ा से परसिया मार्ग के जर्जर होने, जिला पंचायत सदस्य सत्यदेव यादव ने गोबरही-भवानी छापर मार्ग के जर्जर होने का मामला सदन में रखा।

जिला पंचायत सदस्यों ने देवरिया महोत्सव में अपनी उपेक्षा की शिकायत अध्यक्ष से की। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि आप लोगों को भी शीघ्र सम्मानित किया जाएगा। सदस्यों ने स्वयं को पास जारी न होने पर भी आपत्ति जतायी। एक सदस्य ने भागलपुर में श्मशान घाट की सड़क बनाने व सोलर लैंप लगाने का मामला उठाया। बैठक में सफाई कर्मियों की लापरवाही पर भी सदस्यों ने कड़ी आपत्ति जतायी।

डीपीआरओ ने कहा कि लापरवाही बरतने वाले 27 सफाई कर्मियों पर कार्रवाई की गई है। 11 और सफाई कर्मियों को चिन्हित किया गया है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष व जिला पंचायत सदस्य धर्मेंद्र सिंह ने जिला योजना में जिला पंचायत सदस्यों के भी प्रस्ताव को शामिल करने, निर्मित सड़कों के बोर्ड पर संबंधित जिला पंचायत सदस्य का नाम भी अंकित करने की मांग की। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि ऐसा नहीं होगा तो हम लोग बोर्ड उखाड़ देंगे।

सदस्य की इस बात पर बरहज विधायक सुरेश तिवारी ने विरोध जताते हुए सदस्य को अपने क्षेत्र का बोर्ड उखाड़ने की चुनौती दी। इसको लेकर कुछ देर तक माहौल गरम रहा। अध्यक्ष ने संबंधित अधिकारियों को सदन में आए मामलों का निस्तारण करने का निर्देश दिया। बैठक में सदर विधायक जन्मेजय सिंह, रामपुर कारखाना विधायक कमलेश शुक्ल, बरहज विधायक सुरेश तिवारी, सीडीओ शिव शरणप्पा जीएन, सीएमओ डा.डीवी शाही, अपर मुख्य अधिकारी उमेश चन्द्र आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY