सुनामी एक्सप्रेस गोपालगंज।
मनीष वर्मा सिधवलिया गोपालगंज

तरुण विकास मंच के प्रदेश संयोजक मनिष ऋषि ने प्रेस ब्यान जारी कर कहा कि पिछले एक सप्ताह से बिहार के 98% प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय में पठन पाठन,शिक्षकों के हड़ताल से बाधित हैं ।जिससे बच्चों के शिक्षा पर एवं उनके भविष्य पर इसका बुरा असर पड़ रहा है।बिहार सरकार के शिक्षा विभाग के कारनामो की चर्चा तो आज आम हो गई है ।राष्ट्र निर्माण के लिए सबसे पहला कदम होता है “शिक्षा” का ।लेकिन यहाँ जितनी कुरीतियों को याद करें आज के दौर में ये सारी कुरीतियां शिक्षा विभाग के इर्दगिर्द आप और हम देख सकते हैं।एक वर्ष में कई दफा बिहार सरकार एवं शिक्षा विभाग छात्रों के पठन पाठन को किसी ना किसी कारण वश बाधित कर ही दे रही है ।पिछले कई सालों से शिक्षक आंदोलन के कारण तो मानो ऐसी घड़ी कई दफा आ चूंकि हैं।आज पुनः यह स्थिति आ चूंकि हैं कि एक सप्ताह से विद्यालयों में पठन पाठन बाधित हैं आम जनता (समाज का गरीब तबका) अपने नैनिहालो के भविष्य को लेकर चिंतित हैं।चूंकि सरकारी विद्यालयों में अधिकांश बच्चे गरीब तबके के ही होते हैं ।अमीर एवं सरकारी अधिकारियों के बच्चे तो प्राईवेट स्कूलों में भेजते हैं।जिसके कारण उनकी शिक्षा तो व्यवस्थित ढंग से हो जाती है लेकिन गरीब के बच्चे कहा जाए ।कभी शिक्षको को जनगणना में, तो कई अन्य सरकारी कार्यो में लगा दिया जाता है यानी ऐसी सैकड़ो कारण है जिनसे सरकारी विद्यालयों में पढ़ रहे छात्रों की पढ़ाई भगवान भड़ोसे ही चल रही है।छात्रों को समय से पुस्तक नहीं मिल रही है।छात्र अभिवावक शिक्षक संगोष्ठी नहीं आयोजित होती है।शिक्षक एवं सरकार की लड़ाई में आज गरीबों के बच्चों का भविष्य दाव पर लगाना कहा तक उचित है ।सरकार जल्द से जल्द इस मामले को संज्ञान में लेते हुए व्यवस्थित शिक्षा के व्यवस्था सुनिश्चित करें वरना राज्य सरकार के विरुद्ध आम जनता आंदोलित हो रही है जो यथा सीघ्र बड़े आंदोलन का रूप ले सकती है जिसकी जवाबदेही राज्य सरकार की होगी ।।

LEAVE A REPLY