सुनामी एक्सप्रेस गोपालगंज
संवाददाता मनीष वर्मा की रिपोर्ट।

इस वक्त हैरतअंगेज खबर आपके सामने आई है जहां दरवाजे पर बारात पहुंचने के बाद दुल्हन अपने आशिक संग फरार हो गई यह मामला जिले के माझा थाना क्षेत्र के से प्रकाश में आया है
प्राप्त जानकारी के मुताबिक बताया जाता है कि उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के तरेया सुजान थाना क्षेत्र के भगवानपुर गांव निवासी डॉ घनश्याम कुमार के पुत्र सुधीर कुमार की शादी गोपालगंज जिले के माझा थाना क्षेत्र के शेख परसा गांव में अमरनाथ प्रसाद कुशवाहा की पुत्री मनोरमा कुमारी के साथ तय थी, हिंदू रीति रिवाज के अनुसार मनोरमा के पिता तिलक में जितनी शक्ति थी धूमधाम से दरवाजे पर चढ़कर तिलक चढ़ाया था
महीने तारीख तिथि के अनुसार उत्तर प्रदेश से बरात 26 फरवरी की रोज जैसे ही पुत्री पक्ष के दरवाजे पहुची पूरी विधि विधान के अनुरूप शादी को संपन्न कराया गया लेकिन इसी बीच जब सुबह दुल्हन की विदाई कराने के लिए दूल्हा दरवाजे पर गाड़ी लेकर पहुंचा कि इसी बीच दुल्हन अपने आशिक संग फरार हो गई वहीं पर पक्ष के लोगों पर मानव एक प्रकार से पहाड़ टूट पड़ा लड़की वाले लड़की की खोजबीन में लगे रहे परंतु लड़की का कहीं पता नहीं चला सुबह 10:00 बजे तक जब कहीं पता नहीं चला तो इस बात की सूचना वर पक्ष ने स्थानीय पुलिस को दी घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची है स्थानीय पुलिस भी छानबीन में जुट गई

ग्रामीणों के पहल पर फिर हुई दूसरी शादी।

ग्रामीणों के पहल पर टूटी हुई शादी में एक नया मोड़ तब आ गया जब इसी गांव के अर्जुन कुशवाहा की पुत्री चिंता कुमारी के साथ सुधीर की दूसरी शादी काली मंदिर में कराई गई बताया जाता है कि स्थानीय गांव निवासी अर्जुन कुशवाहा की 3 पुत्रियां हैं जिसमें चिंता कुमारी मैट्रिक की परीक्षा इसी वर्ष दी थी जिसके साथ सुधीर की दूसरी शादी हुई वहीं यह शादी पूरे प्रखंड में चर्चा का विषय बना रहा कुछ लोग यह भी बात करते नजर आए की अक्सर ऐसी घटना फिल्म में देखने को मिलती है जिस प्रकार से शादी के बाद दुल्हन की विदाई कराने के दौरान दुल्हन जिस प्रकार से लापता हुई यह अक्सर फिल्मों में देखने को ही मिलता है।

LEAVE A REPLY