वन्दना शर्मा/संदीप शर्मा, दस्तक टाइम्स इंडिया, लखीमपुर-खीरी

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी में तीन सगे भाई-बहन ने फांसी लगाकर जान दे दी। सदर कोतवाल अजय कुमार मिश्रा ने बताया कि इन तीनों की मां का देहांत सितंबर 2019 में हुआ था। उसके बाद से ही तीनों गहरे डिप्रेशन में थे। मां के देहांत के बाद इनमें से दो ने नौकरी छोड़ दी और घर में ही रहने लगे। आज इन तीनों ने आखिरकार आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया।

लखीमपुर-खीरी में एक ही घर के तीन भाई-बहन ने की आत्महत्या

दो भाइयों और एक बहन ने फांसी लगाकर दी जान, डिप्रेशन वजह

पुलिस ने बताया, पिछले साल मां की मौत के बाद डिप्रेशन में थे तीनों

मां की मौत के बाद बाहरी दुनिया से कट गए थे, रोज होते थे झगड़े

लखीमपुर-खीरी
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी में तीन सगे भाई-बहन ने फांसी लगाकर जान दे दी। घटना सदर कोतवाली के शांति नगर इलाके की है। शुक्रवार देर शाम दो भाइयों और एक बहन ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने बताया कि तीनों ने डिप्रेशन के चलते जान दी है।
इनमें से एक भाई की उम्र 38 वर्ष, बहन की उम्र करीब 30 वर्ष और सबसे छोटे भाई की उम्र 28 वर्ष बताई जा रही है। सदर कोतवाल अजय कुमार मिश्रा ने बताया, ‘इन तीनों की मां का देहांत सितंबर 2019 में हुआ था। उसके बाद से ही तीनों गहरे डिप्रेशन में थे। मां की मौत से पहले लड़की एक स्कूल में पढ़ाती थी और इसका एक भाई लखनऊ में काम करता था। बड़ा भाई दिव्यांग है। मां के देहांत के बाद उन दोनों ने भी नौकरी छोड़ दी और घर में ही रहने लगे। आज इन तीनों ने आखिरकार आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया।’

‘मां की मौत से लगा सदमा, बाहरी दुनिया से अलग-थलग रहते थे’
घटना की सूचना के बाद मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई। घटना की सूचना पाकर भारी संख्या में पुलिसबल भी पहुंच गया। पड़ोसियों ने बताया कि मां की मौत के बाद से तीनों बाहर दुनिया से बिल्कुल अलग-थलग रहते थे। लड़की को तो कभी किसी ने उसके बाद घर से बाहर निकलते नहीं देखा।

तीनों बच्चों की मौत के बाद अकेले बचे बुजुर्ग पिता

पड़ोसियों के मुताबिक, शुक्रवार सुबह घर से झगड़े की आवाज आ रही थी और शाम को तीनों के आत्महत्या करने की खबर मिली। पुलिस ने बताया कि पहले मां की मौत और अब इन तीनों की आत्महत्या के बाद घर में सिर्फ बुजुर्ग पिता बचे हैं।

LEAVE A REPLY