विजय शुकुळा।

बिहार में जेडीयू के खात्मे की भविष्यवाणी करने वाले चिराग पासवान खुद पैदल हो गये हैं। लोजपा के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि बिहार में पार्टी का एक भी विधायक या विधान पार्षद नहीं रहा। बिहार के कद्दावर नेता रामविलास पासवान ने 2000 में लोजपा की नींव रखी थी। 2005 के मार्च-अप्रैल महीने में हुए चुनाव में इस पार्टी के 29 विधायक चुन कर आये थे। धीरे-धीरे यह संख्या घटती चली गई। आज स्थित यह हो गई कि चिराग पासवान के हाथ में पार्टी की कमान जाने के बाद शून्य पर सिमट गई। चिराग पासवान की कार्यप्रणाली से अँदर ही अंदर अधिकांश नेता नाराज बताये जाते हैं। बताया तो यह भी जाता है कि कई सांसद भी नाराज हैं। मंगलवार को लोजपा के एकमात्र विधायक राजकुमार सिंह ने जेडीयू का दामन थाम लिया। इस तरह से लोजपा का बिहार में शून्य विधायक हो गय़े। लोजपा का सिर्फ विधानसभा में ही नहीं बल्कि विधान परिषद में भी शून्य स्थिति है। हाल ही में पार्टी की एक मात्र एमएलसी नूतन सिंह बीजेपी में शामिल हो गई थीं।

 

लोजपा विधायक दल का जेडीयू में विलय

बिहार विधान सभा सचिवालय ने लोजपा विधायक दल के जेडीयू में विलय संबंधी पत्र जारी कर दिया है. विधान सभा सचिवालय की तरफ से बताया गया है कि लोजपा विधायक राजकुमार सिंह ने जनता दल यूनाइटेड विधायक दल में विलय का निर्णय लिया है. उन्होंने इसकी सूचना विस सचिवालय को दी है.पत्र में कहा गया है कि वे मटिहानी से विधायक हैं और स्वयं विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष उपस्थित होकर जेडीयू में के सदस्य के रूप में मान्यता देने का अनुरोध किया. इस संबंध में जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा एवं मुख्य सचेतक श्रवण कुमार ने भी विलय पर अपनी सहमति की सूचना दी है. भारत के संविधान की दसवीं अनुसूची के प्रावधानों के अनुरूप विधानसभा अध्यक्ष ने लोक जनशक्ति पार्टी विधायक दल का जनता दल यूनाइटेड विधायक दल में विलय की मान्यता प्रदान की है. आज से राजकुमार सिंह जनता दल यूनाइटेड विधायक दल के सदस्य के रूप में अधिसूचित किए जाते हैं.

 

चले से जेडीयू को बर्बाद करने खुद उजड़ गये

बता दें, बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में लोजपा अकेले दम पर चुनाव लड़ी थी। चुनाव में चिराग पासवान ने जेडीयू को हराने के लिए पूरी ताकत लगा दी। चिराग ने जेडीयू के सबी उम्मीदवारों के खिलाफ अपने प्रत्याशी उतारे थे। लेकिन जनता ने चिराग को करारी हार का सामना करा दिया। सिर्फ एक कैंडिडेट राजकुमार सिंह मटिहानी से चुनाव जीतने में सफल रहे। चुनाव जीतने के बाद से ही लोजपा विधायक का जेडीयू से नजदीकियां बढ़ने लगी थी। विस में भी लोजपा विधायक सरकार के पक्ष में मतदान कर रहे थे। हाल ही में बिहार विस उपाध्यक्ष पद के लिए हुए चुनाव में उन्होंने जेडीयू विधायक महेश्वर हजारी के पक्ष में विस में मतदान भी किया था। इसके बाद चिराग पासवान ने अपने विधायक राजकुमार सिंह से शो-कॉज भी पूछा था। जेडीयू के समर्थन पर शो-कॉज पूछे जाने के बाद राजकुमार सिंह कापी नाराज थे ।

LEAVE A REPLY