केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कट्टरपंथी गुट के नेता सैयद अली शाह गिलानी के पासपोर्ट के आवेदन की जांच गुण दोष के आधार पर होगी जो उनकी ओर से औपचारिकताओं को पूरा करने पर निर्भर करेगी। गृह मंत्रालय ने यह बात ऐसे समय में कही है जब इस बारे में उत्पन्न विवाद पर जम्मू कश्मीर में सत्तारूढ पीडीपी और भाजपा का रूख अलग अलग हो गया है।

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘ पासपोर्ट प्रत्येक भारतीय नागरिक का अधिकार है और इसे नियत प्रक्रिया को पूरा करने के बाद विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किया जाता है। यदि कोई आवेदक पासपोर्ट के लिए आवेदन करता है, तब उसके मामले की जांच परख के लिए पहले उसे सभी औपचारिकताएं पूरी करनी चाहिए। जब भी गृह मंत्रालय के पास यह मामला आयेगा, हम गुण दोष के आधार पर मामले की जांच करेंगे।’’ गिलानी के पासपोर्ट मामले पर जम्मू कश्मीर में सत्तारूढ़ पीडीपी एवं भाजपा का रूख अलग अलग है।

 

LEAVE A REPLY