Email:-sunamihindinews@gmail.com|Wednesday, September 20, 2017
You are here: Home » धर्म
Video News

धर्म

विष्णु और शिव का रूप है वसंत

परब्रह्म की उस मानसिक इच्छा का, जो संसार की सृष्टि में प्रवृत्त होती है, मूर्तरूप ही ‘काम’ है। जब यह सृष्टि रचना के अनुकूल होती है तो विष्णु और शिव का साक्षात् रूप कही जाती है। गीता में श्रीकृष्ण ने कहा है कि मैं जीवमात्र में धर्म के अविरुद्ध रहने वाला ‘काम’ हूं, परंतु जो व्यक्तिगत इच्छा धर्म के ...Full Article

सात जन्मों के पाप हर लेगी ये सप्तमी

सूर्य प्रत्यक्ष देवता हैं। सुबह ब्रह्रमा, दोपहर विष्णु और शाम को रुद्र रूप धारण करते हैं। माघ मास के शुक्ल पक्ष की अचला सप्तमी, जिसे पूरे साल की सप्तमी ...Full Article

श्रद्धालुओं ने गंगा घाटों पर किया स्नान

(शैलेश कुमार पाण्डेय ) सारण/ दिघवारा :  मौनी अमावस्या व सोमवारी अमावस्या को लेकर सोमवार को प्रखंड अधीन गंगा घाटों पर सुबह से ही स्नान करनेवाले श्रद्धालुओं की भीड़ ...Full Article

शनि शिंगणापुर में महिलाओं की पूजा पर रोक मामले का सुलझ सकता है पेंच

महाराष्ट्र में लंबे समय से जारी शनि शिंगणापुर मंदिर विवाद पर आज अहम फैसला हो सकता है. मंदिर में महिलाओं के प्रवेश और पूजा को लेकर उठे विवाद पर ...Full Article

एकादशी के दिन चावल खाने से करें परहेज

धर्म शास्त्रों के अनुसार एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित है। ऐसा माना गया है कि इस दिन चावल खाने से प्राणी रेंगने वाले जीव की योनि में जन्म ...Full Article

पापों का नाश करने वाली है आज की एकादशी

षटतिला एकादशी कई मायने में खास है। धर्मग्रंथों और ज्योतिष में इसकी बहुत मान्यता है। ऐसा कहा गया है कि षटतिला एकादशी पाप को नाश करने वाली है। आइए हम ...Full Article

रोचक बातेंः जब अपने शिष्य से ही हार गए थे पराक्रमी परशुराम

हिंदू पंचांग के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भगवान परशुराम की जयंती मनाई जाती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु के ...Full Article

सौहार्द के लिए म्यांमार में भगवान बुद्ध के अवशेष लेकर गए भारतीय बौद्ध भि‍क्षु

धर्म और संस्कृति के सदियों पुराने रिश्तों से बंधे भारत और म्यांमार के बीच शांति और सौहार्द के रिश्तों को और मजबूत बनाने की पहल भारतीय बौद्ध भिक्षुओं ने ...Full Article

महेश या म‍हादेव, हर नाम से दुख हरते हैं शिव

वह शिवशंकर हैं और गंगाधर भी, वह रामेश्वर हैं और नागेश्वर भी. कोई उन्हें शशिशेखर बुलाता है तो कोई डमरूधर. कोई ओंकार कहता है तो कोई त्रयंबकेश्वर. एक शिव ...Full Article
Page 5 of 512345
You Are visitor Number

विज्ञापन :- (1) किसी भी तरह की वेबसाइट बनवाने के लिए संपर्क करे Mehta Associate से मो0 न 0 :- +91-9534742205 , (2) अब टेलीविज़न के बाद वेबसाइट पर भी बुक करे स्क्रॉलिंग टेक्स्ट विज्ञापन , संपर्क करे :- +91-9431277374