Breaking
जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना

PMCH में चरणबद्ध ढंग से तोड़फोड़ कार्य जारी, पूर्व छात्रों ने की एतिहासिक इमारतें बचाने की अपील

Whats App

पटनाः ऐतिहासिक पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) की कई पुरानी इमारतों को एक बड़ी सुधार परियोजना के हिस्से के रूप में तोड़ दिया गया है जबकि इसके पूर्व छात्रों ने इस कदम पर दुख व्यक्त किया है। इसके साथ ही उन्होंने प्रसिद्ध संस्थान की कम से कम “मूल विरासत” ढांचों को बचाए रखने की अपील जारी की है जो “इसकी स्थापना की कहानी कहती हैं।”

पीएमसीएच के परिसर में आधुनिक, ऊंची इमारतों के लिए रास्ता बनाने के लिए कुछ महीने पहले तोड़फोड़ का पहला चरण शुरू हुआ। पीएमसीएच को दिसंबर 1921 में तत्कालीन प्रिंस ऑफ वेल्स की यात्रा के उपलक्ष्य में पटना 1925 में प्रिंस ऑफ वेल्स मेडिकल कॉलेज के रूप में स्थापित किया गया था। कॉलेज का जन्म असल में 1874 में बांकीपुर में स्थापित टेंपल मेडिकल स्कूल से हुआ था, और 1921 में पटना में शाही अतिथि की यात्रा को चिह्नित करने के लिए इसकी कल्पना की गई थी।

कुटीर भवन और नर्स स्कूल जल्द होगा ध्वस्त 
अधिकारियों ने बताया कि गंगा नदी के किनारे स्थित विशाल परिसर में पुराना चिकित्सा अधीक्षक का बंगला, जेल वार्ड, नर्स छात्रावास और कुछ अन्य संरचनाएं ध्वस्त कर दी गई हैं और कुटीर भवन और नर्स स्कूल भी जल्द ही पुनर्विकास परियोजना के चरण एक के तहत ध्वस्त कर दिया जाएगा। पटना से लंदन तक पीएमसीएच के पूर्व छात्र संगठनों के सदस्यों ने पुरानी, ​​ऐतिहासिक संरचनाओं को ध्वस्त करने के कदम पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों से बिहार और भारत की “वास्तुकला और संस्थागत विरासत का एक असाधारण हिस्सा छीन लिया जाएगा।” दुनिया भर में कार्य कर रहे कई प्रख्यात डॉक्टर पूर्व छात्रों के संगठन का हिस्सा हैं।

Whats App

पीएमसीएच एलुमनाई एसोसिएशन के अध्यक्ष सत्यजीत कुमार सिंह ने कहा, “यह दुखद है कि पीएमसीएच परिसर में विध्वंस हो रहा है और कई पुरानी इमारतें पहले ही गिरा दी जा चुकी हैं। लेकिन, हम बिहार सरकार के अधिकारियों से अपील करते हैं कि कम से कम ऐतिहासिक पुराने बांकीपुर सामान्य अस्पताल भवन और प्रशासनिक ब्लॉक को छोड़ दिया जाए ताकि आने वाली पीढ़ियों को संस्था की विरासत को मूर्त रूप में देखने का मौका मिल सके।”

हम आने वाली पीढ़ियों को क्या दिखाएंगेः सत्यजीत सिंह 
पटना के रहने वाले सत्यजीत सिंह, जिन्होंने 1970 के दशक के अंत में पीएमसीएच से एमबीबीएस और मास्टर डिग्री पूरी की, और बिहार लौटने से पहले ब्रिटेन और अन्य देशों में कई वर्षों तक काम किया, ने कहा कि “हमारे संस्थान की धरोहर इमारतों पर कुल्हाड़ी चलने की कल्पना करना भी पीड़ादायक है।” सिंह ने कहा, “कॉलेज 2025 में 100 साल का हो जाता और और हम इसके भविष्य के छात्रों, पूर्व छात्रों और आने वाली पीढ़ियों को क्या दिखाएंगे। इसकी ऐतिहासिक इमारतों का टूटना सभी के लिए एक अपूरणीय क्षति होगी।” अन्य पूर्व छात्र संगठन के सदस्यों ने भी खेद व्यक्त किया कि यह एक “त्रासदी” है कि कॉलेज की अवधारणा के शताब्दी वर्ष में, “उत्सव के बजाय, इसके पुराने ढांचे को ध्वस्त किया जा रहा है।”

जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस     |     भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा     |     नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान     |     दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि     |     केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए     |     कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम     |     मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा     |     भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी     |     मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू     |     श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374