Breaking
देश के छात्र-छात्राएँ पूरी दुनिया में उच्च पदों पर : मंत्री सिंह ये 3 दुख घर की सुंदरता को छीन लेते हैं आरएसजीएल के कारोबार में हुई बढोत्तरी-अग्रवाल 2 साल पहले की थी लव मैरिज; पति की गुहार- पत्नी से बहुत प्यार करता हूं, ढूंढ दीजिए मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी कुशलगढ़ के 2 मन्दिरों में होगा निर्माण कार्य बच्चों की जन्मदिन पार्टी आयोजन करने का व्यापार कैसे शुरू करें | How To Start Kids Birthday Party Pla... 6 लाख 75 हजार की थी सीमेंट, पुलिस देख आरोपी मौके से फरार सीएम योगी ने तीन शिप्ट में  गुणवत्ता के साथ कार्य पर दिया जोर, कहा नवरात्रि मेला में श्रद्धालुओं को ... महिला अधिकारी को जान से मारने की धमकी देने वाला जीएसटी निरीक्षक गिरफ्तार यूपी में सुरक्षित नहीं बेटियां, जौनपुर और बनारस में मिली एक-एक लाश, चंदौली में मिली अर्धनग्‍न लड़की

नई दिल्ली।पुलिसिया तंत्र से मानवाधिकारों के खतरें पर CJI चिंतित:-बोले हिरासत में यातना अभी भी है जारी,

Whats App

देश में पुलिसिया तंत्र को लेकर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमन खासे चिंतित हैं। पुलिस की कार्यशैली को लेकर चीफ जस्टिस ने तल्ख टिप्पणी की है। सीजेआई एन वी रमन ने कहा है कि हिरासत में यातना और अन्य तरह के पुलिसिया अत्याचार देश में अभी भी जारी हैं। यहां तक कि विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को भी थर्ड डिग्री टॉर्चर से नहीं बचाया जाता। सीजेआई ने इस स्थिति पर चिंता जताई है।

इस मामले में सीबीआई ने राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण को देश में पुलिस अधिकारियों को संवेदनशील बनाने के लिए कहा है। नई दिल्ली के विज्ञान भवन में कानूनी सेवा मोबाइल एप्लीकेशन और नालसा के दृष्टिकोण को लेकर मिशन स्टेटमेंट की शुरुआत के अवसर पर सीजेआई एन वी रमन ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि यदि एक संस्था के रूप में न्यायपालिका नागरिकों का विश्वास हासिल करना चाहती है तो हमें सभी को आश्वस्त करना होगा कि हम उनके लिए हमेशा मौजूद हैं। सीबीआई ने कहा कि यह सच्चाई है कि लंबे अरसे तक के कमजोर आबादी नए प्रणाली से बाहर रही है

आपको बता दें कि नालसा का गठन विधिक सेवा प्राधिकरण कानून 1987 के तहत कमजोर वर्ग के लोगों को मुफ्त कानूनी सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से किया गया था। सीजेआई ने कहा कि मानवाधिकारों और शारीरिक चोट नुकसान का खतरा पुलिस थानों में सबसे ज्यादा है। पुलिस हिरासत में यातना एक ऐसी समस्या है जो अभी भी समाज के लिए बुरा पक्ष है। संवैधानिक घोषणाओं के बावजूद अब तक हम पुलिस थानों में यातना पर नियंत्रण नहीं लगा पाए हैं। सीजेआई ने कहा कि विशेषाधिकार हासिल करने वाले लोगों को भी पुलिस यातना से नहीं बचाया जा सका है। कई मामलों में देखा गया है कि विशेषाधिकार हासिल लोग भी थर्ड डिग्री वाली प्रताड़ना झेलते हैं।

देश के छात्र-छात्राएँ पूरी दुनिया में उच्च पदों पर : मंत्री सिंह     |     ये 3 दुख घर की सुंदरता को छीन लेते हैं     |     आरएसजीएल के कारोबार में हुई बढोत्तरी-अग्रवाल     |     2 साल पहले की थी लव मैरिज; पति की गुहार- पत्नी से बहुत प्यार करता हूं, ढूंढ दीजिए     |     मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी कुशलगढ़ के 2 मन्दिरों में होगा निर्माण कार्य     |     बच्चों की जन्मदिन पार्टी आयोजन करने का व्यापार कैसे शुरू करें | How To Start Kids Birthday Party Planning Business In Hindi     |     6 लाख 75 हजार की थी सीमेंट, पुलिस देख आरोपी मौके से फरार     |     सीएम योगी ने तीन शिप्ट में  गुणवत्ता के साथ कार्य पर दिया जोर, कहा नवरात्रि मेला में श्रद्धालुओं को न हो दिक्कत     |     महिला अधिकारी को जान से मारने की धमकी देने वाला जीएसटी निरीक्षक गिरफ्तार     |     यूपी में सुरक्षित नहीं बेटियां, जौनपुर और बनारस में मिली एक-एक लाश, चंदौली में मिली अर्धनग्‍न लड़की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374