Breaking
नॉर्थ-ईस्‍ट राज्‍यों की ये 25 ट्रेनें मई-जून के ल‍िए हुईं कैंस‍िल, सफर शुरू करने से पहले पढ़ लें पूर... लॉक अप फेम पायल रोहतगी अपने बॉयफ्रेंड संग्राम सिंह से जुलाई करेगी शादी  सभी ATM से बिना कार्ड निकाल सकेंगे पैसे, बैंकों को यह सुविधा जल्द शुरू करने का निर्देश   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5G टेस्टबेड किया लॉन्च डोमिनिका में अवैध एंट्री के मामले में चोकसी पर दर्ज केस वापस पाकिस्तानी सोशल मीडिया स्टार कंदील बलोच पर बनेगी फिल्म सभी जिला कलेक्टर भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति का क्रियान्वयन करें सुनिश्चित आईपीएल 2022 के मुकाबले में अर्जुन तेंदुलकर करेंगे डेब्यू शिमरन हेटमायर की पत्नी पर कमेंट करके बुरे फंसे सुनील गावस्कर सियासतः CM शिवराज के मॉर्निंग एक्शन मोड बैठक को पूर्व सीएम कमलनाथ ने बताया नाटक नौटंकी, कहा- अब ये प...

नई दिल्ली।पुलिसिया तंत्र से मानवाधिकारों के खतरें पर CJI चिंतित:-बोले हिरासत में यातना अभी भी है जारी,

Whats App

देश में पुलिसिया तंत्र को लेकर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमन खासे चिंतित हैं। पुलिस की कार्यशैली को लेकर चीफ जस्टिस ने तल्ख टिप्पणी की है। सीजेआई एन वी रमन ने कहा है कि हिरासत में यातना और अन्य तरह के पुलिसिया अत्याचार देश में अभी भी जारी हैं। यहां तक कि विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को भी थर्ड डिग्री टॉर्चर से नहीं बचाया जाता। सीजेआई ने इस स्थिति पर चिंता जताई है।

इस मामले में सीबीआई ने राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण को देश में पुलिस अधिकारियों को संवेदनशील बनाने के लिए कहा है। नई दिल्ली के विज्ञान भवन में कानूनी सेवा मोबाइल एप्लीकेशन और नालसा के दृष्टिकोण को लेकर मिशन स्टेटमेंट की शुरुआत के अवसर पर सीजेआई एन वी रमन ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि यदि एक संस्था के रूप में न्यायपालिका नागरिकों का विश्वास हासिल करना चाहती है तो हमें सभी को आश्वस्त करना होगा कि हम उनके लिए हमेशा मौजूद हैं। सीबीआई ने कहा कि यह सच्चाई है कि लंबे अरसे तक के कमजोर आबादी नए प्रणाली से बाहर रही है

आपको बता दें कि नालसा का गठन विधिक सेवा प्राधिकरण कानून 1987 के तहत कमजोर वर्ग के लोगों को मुफ्त कानूनी सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से किया गया था। सीजेआई ने कहा कि मानवाधिकारों और शारीरिक चोट नुकसान का खतरा पुलिस थानों में सबसे ज्यादा है। पुलिस हिरासत में यातना एक ऐसी समस्या है जो अभी भी समाज के लिए बुरा पक्ष है। संवैधानिक घोषणाओं के बावजूद अब तक हम पुलिस थानों में यातना पर नियंत्रण नहीं लगा पाए हैं। सीजेआई ने कहा कि विशेषाधिकार हासिल करने वाले लोगों को भी पुलिस यातना से नहीं बचाया जा सका है। कई मामलों में देखा गया है कि विशेषाधिकार हासिल लोग भी थर्ड डिग्री वाली प्रताड़ना झेलते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

नॉर्थ-ईस्‍ट राज्‍यों की ये 25 ट्रेनें मई-जून के ल‍िए हुईं कैंस‍िल, सफर शुरू करने से पहले पढ़ लें पूरी खबर – Officenewz Hindi     |     लॉक अप फेम पायल रोहतगी अपने बॉयफ्रेंड संग्राम सिंह से जुलाई करेगी शादी      |     सभी ATM से बिना कार्ड निकाल सकेंगे पैसे, बैंकों को यह सुविधा जल्द शुरू करने का निर्देश       |     प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5G टेस्टबेड किया लॉन्च     |     डोमिनिका में अवैध एंट्री के मामले में चोकसी पर दर्ज केस वापस     |     पाकिस्तानी सोशल मीडिया स्टार कंदील बलोच पर बनेगी फिल्म     |     सभी जिला कलेक्टर भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति का क्रियान्वयन करें सुनिश्चित     |     आईपीएल 2022 के मुकाबले में अर्जुन तेंदुलकर करेंगे डेब्यू     |     शिमरन हेटमायर की पत्नी पर कमेंट करके बुरे फंसे सुनील गावस्कर     |     सियासतः CM शिवराज के मॉर्निंग एक्शन मोड बैठक को पूर्व सीएम कमलनाथ ने बताया नाटक नौटंकी, कहा- अब ये परमानेंट ठेला चलाएंगे     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374