Breaking
जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना

पश्चिम बंगाल की 2022 में नए निवेश और बड़ी परियोजनाएं शुरू करने पर होगा निगाह

Whats App

पश्चिम बंगाल ने इस साल कोविड-19 महामारी के बावजूद अपनी विकास की रफ्तार को बनाए रखा। राज्य सरकार के लिए 2022 में बड़ी परियोजनाओं को शुरू करना सबसे बड़ी प्राथमिकता होगी क्योंकि यह सतत आर्थिक विस्तार को लेकर औद्योगीकरण पर केंद्रित है। कोरोना वायरस के नए मामलों में वृद्धि की वजह से बढ़ती अनिश्चिताओं के बीच पश्चिम बंगाल के लिए 2022 में दिग्गज कंपनियों के नए निवेश आकर्षित करना महत्वपूर्ण होगा। राज्य में उद्योग को वित्तीय वर्ष 2020-21 में दर्ज 1.2 प्रतिशत की वृद्धि की तुलना में इस वित्तीय वर्ष में मजबूत वृद्धि की उम्मीद है। वही 2019-20 में राज्य की अर्थव्यवस्था में 3.6 फीसदी की गिरावट आई थी। शुरूआती अनुमानों के अनुसार वर्ष 2021-22 में पश्चिम बंगाल की अर्थव्यवस्था 13.5 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने का अनुमान है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कहा है कि अब तक उनकी सरकार ने सामाजिक न्याय पर जोर दिया था और अब ‘उद्योग’ को अधिक महत्व दिया जाएगा। विशेषज्ञों का मानना है कि राज्य सरकार के सामाजिक क्षेत्र के लिए मौजूदा खर्च के स्तर को जारी रखना एक चुनौती हो सकती है। हालांकि राजस्व संग्रह में सुधार से बढ़ते कर्ज को संतुलित करने में मदद मिलेगी। पश्चिम बंगाल सरकार मुकेश अंबानी की रिलायंस के बाद अब अडाणी समूह से निवेश की उम्मीद कर रही है। ममता के साथ हाल में एक बैठक के दौरान अडाणी समूह के प्रमुख गौतम अडाणी ने राज्य में बुनियादी ढांचे और अन्य संबद्ध क्षेत्रों में निवेश की इच्छा व्यक्त की थी। इसके अलावा राज्य के वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह में भी बढ़त दर्ज की गई

अक्टूबर के साथ-साथ नवंबर में भी जीएसटी संग्रह 4,000 करोड़ रुपये से अधिक रहा। वहीं भाजपा विधायक और केंद्र सरकार के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अशोक लाहिड़ी ने आगाह किया कि वित्तीय संकट अब दरवाजे पर दस्तक दे रहा है। लाहिड़ी के अनुसार राज्य का राजकोषीय घाटा 2019-20 में 36,831 करोड़ रुपये था और एक साल के भीतर यह बढ़कर 52,350 करोड़ रुपये हो गया। वर्ष 2021-22 में इसके 60,864 करोड़ रुपये पहुंच जाने का अनुमान है। हालांकि राज्य के पूर्व वित्त मंत्री और वर्तमान में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस सरकार के सलाहकार अमित मित्रा का मानना है कि तृणमूल कांग्रेस सत्ता में आने के बाद से राज्य ऋण एवं जीडीपी का अनुपात कम करने में सक्षम रही है। इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स के महानिदेशक राजीव सिंह ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि अगले एक साल में एसजीडीपी वृद्धि संख्या उच्च वृद्धि दर्शाएगी क्योंकि सभी आर्थिक संकेतक सुधार के रुझान दिखा रहे हैं।”

जिंदा जलकर मौत; आत्महत्या के पीछे की वजहों को खंगाल रही पुलिस     |     भैसदेही, आठनेर, भीमपुर में हुई फसलें खराब, किसानों ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन, मांगा मुआवजा     |     नवरात्रि उपवास के दौरान रखें इन बातों का ध्यान     |     दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर पीएम मोदी ने अर्पित की श्रद्धांजलि     |     केन्द्र सरकार की अपील-सुप्रीम कोर्ट से सीओए को हटाए     |     कच्चे तेल में ‎गिरावट के बाद भी पेट्रोल और डीजल की कीमत नहीं हुई कम     |     मूनलाइटिंग को लेकर एक और उद्योगपति ने कहा- डेटा की सुरक्षा से समझौता करना पाप होगा     |     भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने झूलन को जीत के साथ विदायी दी     |     मंत्री बोले; प्रधानमंत्री एसएसी अभ्युदय योजना पहली बार दलित आर्थिक एजेण्डा के रूप में लागू     |     श्राद्ध पक्ष में तीर्थ पर पिंडदान कर मांगी सुखद भविष्य की कामना     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374