Breaking
युवराज सिंह ने बद्रीनाथ संग झील में लिया बोटिंग का मजा कहा- दुर्घटना में घायल मरीज के साथ आए लोगों ने किया हंगामा और अभद्रता गत्ते के डिब्बे बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | Corrugated Cardboard Box Making Business in Hindi जो भी आतंकवादी संस्था या गतिविधियों से जुड़े हों, उन पर कार्रवाई हो - कमल नाथ T20I मैच से पहले पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका CM मान ने कहा; शहीद भगत सिंह जैसे बलिदानियों को मिले भारत रत्न, बढ़ेगी पुरस्कार की इज्जत शंकराचार्य सदानन्द और अविमुक्तेश्वरानन्द के पट्टाभिषेक का आज निकल रहा मुहूर्त टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi फांसी से लटका मिला व्यवसायी का शव PFI पर लगा हमले का आरोप; घर जाते समय की मारपीट; पूर्व CM दिग्विजय ने की निंदा

नया रायपुर में विकास में किसानों को जमीन का तीन साल में नहीं मिला मुआवजा, रात की ठंड में सड़क पर बैठे किसान

Whats App

रायपुर। दिल्ली में किसान आंदोलन की तर्ज पर अब छत्तीसगढ़ में भी आंदोलन शुरू हो गया है। नवा रायपुर प्रभावित सैकड़ों किसानों ने कड़कड़ाती ठंड में सड़क पर डेरा डाल दिया है। उनकी मांग है कि नया रायपुर के निर्माण में जिन किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया गया है, उनको बचा हुआ मुआवजा दिया जाए। अधिग्रहण के समय सरकार ने जो वादा किया था, उसे पूरा किया जाए। किसानों को हर साल मिलने वाली राशि का पिछले तीन साल से भुगतान नहीं हुआ है, उसे तत्काल किया जाए। नया रायपुर के किसानों के समर्थन में कई सामाजिक संगठन भी धरने में शामिल हो रहे हैं।

नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के अध्यक्ष रूपन चंद्राकर ने बताया कि मांगों के संबंध में छत्तीसगढ़ की तत्कालीन भाजपा और वर्तमान कांग्रेस सरकार के साथ अब तक 12 दौर की चर्चा हुई है और उसमें किसानों के पक्ष में निर्णय भी लिए जा चुके हैं लेकिन उनका पालन नहीं किया जा रहा है। चंद्राकर ने बताया कि प्रशासन धारा 144 का हवाला देकर धरने को खत्म करने का दबाव बना रही है। रात को पुलिस अधिकारी दल-बल के साथ पहुंचे थे। लेकिन आंदोलनकारियों ने कहा कि अगर नियम का उल्लंघन हो रहा है, तो सभी को जेल में बंद कर दीजिए। कोई किसान धरना छोड़कर नहीं जाएग

किसानों के धरने में दिल्ली की तर्ज पर खाना-पीना, दूध का इंतजाम किया जा रहा है। किसान अपने घरों से सामान लेकर पहुंच रहे हैं। तीन जनवरी को राजधानी प्रभावित ग्रामों के हजारों किसानों व ग्रामीणों ने अपने लंबित मांगों के लिए आंदोलन का शंखनाद किया था। नवा रायपुर विकास प्राधिकरण के कार्यालय के सामने ही टेंट लगाकर रात-दिन का अनिश्चितकालीन धरना जारी है।

Whats App

वादे से मुकर रही सरकार

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के संचालक मंडल सदस्य तेजराम विद्रोही ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने वादा किया था कि सरकार बनने के बाद मुआवजा और पुनर्वास पैकेज पर विचार किया जाएगा, लेकिन अब तक नहीं किया गया। छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ने कहा कि पुनर्वास पैकेज 2013 के तहत सभी वयस्कों को 1200 वर्गफीट भूखंड दिया जाए। साल 2005 से भूमि क्रय-विक्रय पर लगे प्रतिबंध को तत्काल हटाया जाए। गुमटी, चबूतरा, दुकान, व्यावसायिक परिसर में दुकान प्रभावितों को देने का प्रविधान है, लेकिन उसे पूरा नहीं किया जा रहा है

बात कर सुलझाएंगे मुद्दा: मंत्री चौबे

सरकार के प्रवक्ता और मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि प्रभावित किसानों से बात कर मामले को सुलझा लिया जाएगा। किसानों की सभी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा। समस्या का जल्द समाधान निकाल लिया जाएगा।

युवराज सिंह ने बद्रीनाथ संग झील में लिया बोटिंग का मजा     |     कहा- दुर्घटना में घायल मरीज के साथ आए लोगों ने किया हंगामा और अभद्रता     |     गत्ते के डिब्बे बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें | Corrugated Cardboard Box Making Business in Hindi     |     जो भी आतंकवादी संस्था या गतिविधियों से जुड़े हों, उन पर कार्रवाई हो – कमल नाथ     |     T20I मैच से पहले पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका     |     CM मान ने कहा; शहीद भगत सिंह जैसे बलिदानियों को मिले भारत रत्न, बढ़ेगी पुरस्कार की इज्जत     |     शंकराचार्य सदानन्द और अविमुक्तेश्वरानन्द के पट्टाभिषेक का आज निकल रहा मुहूर्त     |     टिफ़िन सर्विस का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How to Setup Tiffin Service centre in hindi     |     फांसी से लटका मिला व्यवसायी का शव     |     PFI पर लगा हमले का आरोप; घर जाते समय की मारपीट; पूर्व CM दिग्विजय ने की निंदा     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374