Breaking
महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद सड़क मार्ग से इंदौर आएंगे PM मोदी छत्तीसगढ़:  परिवार के 3 लोगों की की गला काटकर हत्या बस्तर दशहरा की रस्म में होंगे शामिल, संभागीय सी-मार्ट का करेंगे शुभारंभ, झाड़ा सिरहा की प्रतिमा का कर... रावनवाडा में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान हुआ हादसा, 5 साल की मासूम की मौत, 8 साल की बालिका घायल पोहा बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें या पोहा मिल कैसे लगाये |Poha Making Business In Hindi संसदीय क्षेत्र की अनदेखी से खफा लोग, फोटो के ऊपर लिखा 'गुमशुदा की तलाश' परिसर में कर्मचारियों से की बदतमीजी, सिविल लाइन थाना पुलिस के किया हवाले बाइक सवार युवक की मौत, घर लौटते समय हुआ हादसा हेल्थ के लिए वरदान है भीगे हुए अखरोट दिल्ली की नाबालिग से ग्वालियर में दुष्कर्म

छत्तीसगढ़ का लोकपर्व छेरछेरा 17 जनवरी को, बच्चे बोलेंगे— छेरछेरा, माई कोठी के धान ल हेरते हेरा

Whats App

बिलासपुर। लोकपर्व छेरछेरा अंचल समेत पूरे प्रदेश में 17 जनवरी को उत्साह के साथ मनाया जाएगा। इस मौके पर अन्नदान की परंपरा निभाई जाएगी। शहर के साथ ही पूरे अंचल में बच्चे टोलियां घर-घर जाएंगे और छेरछेरा, माई कोठी के धान ल हेरते हेरा की आवाज लगाएंगे। तब उन्हें धान या चावल का दान करते हुए लोग अन्नदान करेंगे। इस अवसर पर मां अन्नपूर्णा की पूजा भी की जाएगी।

पौष माह की पूर्णिमा तिथि को छेरछेरा लोकपर्व मनाया जाता है। इस बार यह तिथि 17 जनवरी को पड़ रही है। ऐसे में सुबह से ही घरों में पूजा-अर्चना की जाएगी। इसके साथ ही मीठा चीला, गुलगुला समेत अन्य पारंपरिक व्यंजन बनाए जाएंगे। इसे सबसे पहले अपने घर के ईष्ट देव को अर्पित किया जाएगा। फिर घर के सभी सदस्य प्रसाद के रूप में ग्रहण करेंगे। वहीं बच्चे सुबह से ही झोले व बोरियां लेकर निकल जाएंगे और टोलियां बनाकर घर—घर जाकर छेरछेरा मांगेंगे। शहर में जहां चावल का दान किया जाएगा तो वहीं गांवों में धान मिलेगा।

बच्चे ही नहीं, बड़े भी इस मौके पर छेरछेरा मांगने जाते हैं पर अंतर यह रहता है कि वे टोलियां बनाकर डंडा नाच भी करते हैं। दल में मांदर, ढोलक, झांझ, मजीरा बजाने वालों के साथ ही गाने वाले भी रहते हैं। घर—घर व गलियों में गाते हुए वे जाते हैं और उन्हें भी सूप में धान भरकर दिया जाता है। यह दौर भी पूरे समय तक चलेगा। वहीं दान में मिले धान को बेचकर सभी उसी दिन या फिर कोई एक दिन तय कर पिकनिक मनाने जाएंगे।

Whats App

यह है कथा

रतनपुर के कवि रेवाराम ने अपनी रचना में उल्लेख किया है कि रतनपुर के राजा कल्याण साय मुगल बादशाह जहांगीर के दरबार में सात वर्ष तक रहे थे। वहां से वापस आए तो अपने राजा को देखने के लिए प्रजा गांव- गांव से रतनपुर पहुंचे थे। वे राजा की एक झलक पाने को व्याकुल थे। इस बीच राजा अपने कामकाज व राजकाज की जानकारी लेने में व्यस्त हो गए जिससे उनका ध्यान अपनी प्रजा से हट गई थी। ऐसे में प्रजा निराश होकर लौटने लगी। तब रानी फुलकइना ने उन्हें रोका और इसके लिए स्वर्ण मुद्राओं की वर्षा कराई। इसके साथ ही हर साल इस तिथि पर राजमहल आने की भी बात कही। उस दिन पौष पूर्णिमा की तिथि थी। तभी से यह लोकपर्व मनाया जा रहा है। साथ ही धान के दान को वही स्वर्ण मुद्राएं माना जाता है जो रानी फुलकइना ने प्रजा पर बरसाए थे।

महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद सड़क मार्ग से इंदौर आएंगे PM मोदी     |     छत्तीसगढ़:  परिवार के 3 लोगों की की गला काटकर हत्या     |     बस्तर दशहरा की रस्म में होंगे शामिल, संभागीय सी-मार्ट का करेंगे शुभारंभ, झाड़ा सिरहा की प्रतिमा का करेंगे अनावरण     |     रावनवाडा में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान हुआ हादसा, 5 साल की मासूम की मौत, 8 साल की बालिका घायल     |     पोहा बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें या पोहा मिल कैसे लगाये |Poha Making Business In Hindi     |     संसदीय क्षेत्र की अनदेखी से खफा लोग, फोटो के ऊपर लिखा ‘गुमशुदा की तलाश’     |     परिसर में कर्मचारियों से की बदतमीजी, सिविल लाइन थाना पुलिस के किया हवाले     |     बाइक सवार युवक की मौत, घर लौटते समय हुआ हादसा     |     हेल्थ के लिए वरदान है भीगे हुए अखरोट     |     दिल्ली की नाबालिग से ग्वालियर में दुष्कर्म     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374