Breaking
ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द

भोपाल में निर्माणाधीन इमारत की सातवीं मंजिल से गिरकर मजदूर की मौत

Whats App

भोपाल। कोलार की मधुवन सिटी में एक निर्माणाधीन बिल्डिंग की सातवीं मंजिल से गिरकर एक मजदूर की मौत हो गई। वह हादसे के समय बांस-बल्ली को मिलाकर ढांचा बांध रहा था। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव का पीएम कराने के बाद परिजन को सौंप दिया है।

कोलार थाने के एएसआइ प्रीतम सिंह के मुताबिक अशोक पटेल (60) ग्राम हिनौतिया आलम कोलार रोड में रहते थे और मजदूरी करते थे। अशोक का काम इन दिनों मधुवन सिटी कोलार रोड पर काम चल रहा था। गुरुवार को कुछ मजदूर बिल्डिंग की सातवीं मंजिल पर बिना किसी सुरक्षा के काम कर रहे थे। इसी दौरान अशोक 70 फीट की ऊंचाई बांस-बल्ली का भाड़ा बांधते समय नीचे जमीन पर जा गिरा। ऊंचाई से गिरने के कारण उसे गंभीर चोट आई थी। उनके साथी और अन्य लोगों ने उसे इलाज के लिए निजी अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने जांच करने के बाद अशोक को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। मृतक की चार बेटियां और एक बेटा है। मृतक की पत्नी भी मजदूरी करती है

पुलिस को मिली तीन खामियां

Whats App

मामले के जांच अधिकारी प्रीतम सिंह ने बताया कि मजदूर की मौत की सूचना मिलने के बाद मधुवन सिटी का मौका मुआयना किया है। घटनास्थल पर आसपास से साक्ष्य जुटाए गए। जहां निर्माण के दौरान कई खामियां नजर आई हैं। इसमें तीन मुख्य हैं कि वह सातवीं मंजिल पर काम कर रहा था। ऐसे में उसे ठेकेदार द्वारा हेलमेट उपलब्ध क्यों नहीं कराया गया। इससे उसके सिर में चोट लगी है। दूसरा कारण एक बेल्ट उसे क्यों नहीं बांधा गया था। अगर वह बंधा होता तो वह गिरने बच सकता था। यह प्रक्रिया सर्कस में अपनाई जाती है। तीसरी कमी जो नजर आई, वो यह कि वहां नेट लगाकर काम नहीं किया जा रहा था। उसका इंतजाम ठेकेदार को कराना चाहिए थे। इन खामियों की जिम्मेदारी तय करने के लिए कुछ लोगों के बयान दर्ज किए जाने हैं। उसके बाद मामले में एफआइआर दर्ज की जाएगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |     गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374