Breaking
ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का द... ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत  कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम

दिग्गज आइटी कंपनियों पर चीन ने कसा शिकंजा, गतिविधियों और वित्तीय क्षेत्र में निवेश पर पाबंदी

Whats App

बीजिंग। चीन में टेक्नोलाजी कंपनियों की मुश्किलें कम होने के बजाय बढ़ती नजर आ रही हैं। अब चीन (China) ने देश की दिग्गज आइटी कंपनियों पर शिकंजा कसने के लिए नए निर्देश जारी किए हैं। इन कंपनियों में जैक मा की अलीबाबा, टेनसेंट और टिकटाक के मालिक बाइटडांस शामिल हैं। क्रोन की खबर के मुताबिक चीन के राष्ट्रीय विकास और सुधार आयोग (एनडीआरसी), स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फार मार्केट रेगुलेशन और चीन के साइबरस्पेस एडमिनिस्ट्रेशन सहित नौ अलग-अलग विभागों ने संयुक्त बयान जारी कर बताया कि आनलाइन सेक्टर के विकास को कैसे विनियमित और नियंत्रित किया जाएगा। नए निर्देशों के तहत इन कंपनियों की गतिविधियों और वित्तीय क्षेत्र में निवेश पर पाबंदी लगाई गई हैं। यह निर्देश अलीबाबा और टेनसेंट के लिए बड़ा झटका हैं।

अलीबाबा ग्रुप, टेनसेंट होल्डिंग सहित दिग्गज कंपनियों पर लगा था जुर्माना

पिछले साल नवंबर में सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ने एकाधिकार विरोधी कार्रवाई के तहत अलीबाबा समूह और टेनसेंट होल्डिंग्स (Tencent) सहित कई बड़ी प्रौद्योगिकी कंपनियों पर जुर्माना लगाया था। यह जुर्माना कारपोरेट अधिग्रहण की सूचना देने में विफल रहने के चलते लगाया गया था। स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फार मार्केट रेगुलेशन के अनुसार ये कंपनियां परिचालन केंद्रीकरण के नियमों के तहत आठ साल पहले हुए 43 अधिग्रहणों की सूचना देने में विफल रहीं। बयान में कहा गया कि प्रत्येक उल्लंघन में पांच लाख युआन (59 लाख रुपये) का जुर्माना लगाया गया। जुर्माने के नवीनतम दौर में अलीबाबा ग्रुप और टेनसेंट के अलावा जिन अन्य कंपनियों पर जुर्माना लगाया गया  उनमें आनलाइन रिटेलर JD.com Inc. व Suning Ltd. और सर्च इंजन आपरेटर Baidu Inc. भी शामिल थे। 2013 में हुए अधिग्रहण में नेटवर्क टेक्नोलाजी, मैपिंग और मेडिकल टेक्नोलाजी एसेट्स शामिल थे।

Whats App

बता दें कि बीजिंग ने 2020 के अंत से तकनीकी कंपनियों पर एकाधिकार विरोधी, डेटा सुरक्षा और अन्य कार्रवाई शुरू की। सत्तारूढ़ पार्टी को चिंता है कि कंपनियों का अपने उद्योगों पर बहुत अधिक नियंत्रण है। सरकार ने उन्हें चेतावनी दी कि वे उपभोक्ताओं को लुभाने या नए प्रतिस्पर्धियों के प्रवेश को अवरुद्ध करने के लिए अपने प्रभुत्व का उपयोग न करें।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

ज्ञानवापी के तहखाने की पहली तस्वीर, हिंदू पक्ष ने की ये दीवार तोड़ने की मांग; पीछे शिवलिंग होने का दावा     |     ट्रक ने स्कूटी में मारी टक्कर, दो लड़कियों की मौत      |     कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374