Breaking
डेरा बस्सी के पार्क से उठा ले गया आरोपी, एक हफ्ते से पुलिस के हाथ खाली लापता सिपाही का शव उत्तराखंड में पेड़ पर लटका मिला उन्नाव में जल्द निर्माण पूरा करके शुरू की जाएगी आपूर्ति ग्राम धनेरिया कलां में सोनल शर्मा सहित अन्य भजन गायक देंगे सुमधुर प्रस्तुतियां Bigg Boss 16 : ‘बिग बॉस 16’ की टाइमिंग में होगा बदलाव, वीकेंड में जल्दी देख पाएंगे शो ? MG मोटर्स ने लॉन्च किया इलेक्ट्रिक पिकअप ट्रक, शानदार लुक, फीचर्स भी हैं दमदार अब हर घर को मिल सकेगा पानी, बंद पड़े बोर को रिचार्ज करने का प्लान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और सभी राज्य सरकारों से जवाब मांगा, नोटिस जारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बोले-अपनी सीमाएं लांघ रही हैं एजेंसियां, हमें कार्रवाई का भी अधिकार दूसरे हॉकी टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 7-4 से हराया

उइगरों के खिलाफ चीन की कार्रवाई से गुस्‍साए कई देशों के सांसद, ड्रैगन के निवेश को की बंद करने की मांग

Whats App

लंदन। चीन द्वारा उइगरों पर किए जा रहे अत्‍याचारों के खिलाफ यूरोपीयन यूनियन, अमेरिका, आस्‍ट्रेलिया और कनाडा के सांसदों ने अपने यहां पर सरकार से चीन के निवेश को रोकने की अपील की है। इन सांसदों की अपील है कि चीन लगातार शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों के खिलाफ मानवाधिकार का उल्‍लंघन कर रहा है उनको प्रताडि़त कर रहा है। इसके लिए उसके खिलाफ कड़े कदम उठाने चाहिए। चीन के खिलाफ इन देशों के सांसदों का ये रुख उस रिपोर्ट के बाद सामने आया है जिसमें बताया गया है कि एचएसबीसी बैंक के पास झिंजियांग प्रोडक्शन एंड कंस्ट्रक्शन कार्प्‍स की एक सहायक कंपनी में शेयर हैं। इस कंपनी को वर्ष 2020 में अमेरिकी ट्रेजरी विभाग द्वारा प्रतिबंधित किया गया था।

इंटर-पार्लियामेंटरी एलाइंस आन चाइना (आईपीएसी) का कहना है कि दस देशों के करीब 35 सांसदों ने अपनी सरकार से चीनी निवेश को ब्‍लैक लिस्‍ट करने उन कंपनियों का पता लगाने को कहा है जो प्रतिबंधित हैं। पिछले सप्‍ताह ही आईपीएसी के सौजन्‍य से एक पत्र इस बाबत भेजा गया है। इस पर यूरोपीयन पार्लियामेंट्स चाइना डेलिगेशन के रेनहार्ड बुटिकोफर, ब्रिटेन की कंजरवेटिव पार्टी के पूर्व नेता डंकन स्मिथ, आस्‍ट्रलिया की लेबर पार्टी के सांसद किंबरले किचिंग और भारत की बीजू जनता दल के सुजीत कुमार समेत कई अन्‍य ने साइन किए हैं। इस पत्र को वित्‍त मंत्रालय, यूरोपीयन कमीशन आदि को भेजा गया है।

बता दें कि चीन द्वारा लंबे समय से शिंजियांग प्रांत में रहने वाले उइगर मुस्लिमों को प्रताडि़त किए जाने की खबरें में मीडिया में प्रकाशित होती रही हैं। इसके खिलाफ अमेरिका समेत दुनिया के कई देशों ने आवाज भी उठाई है। अमेरिका लगातार इस मुद्दे पर चीन को कटघरे में खड़ा करता रहा है। वहीं चीन इन तमाम आरोपों को गलत बताता रहा है। चीन का ये भी कहना है कि उनके आंतरिक मामलों में हस्‍तक्षेप का अधिकार किसी के पास नहीं है।

डेरा बस्सी के पार्क से उठा ले गया आरोपी, एक हफ्ते से पुलिस के हाथ खाली     |     लापता सिपाही का शव उत्तराखंड में पेड़ पर लटका मिला     |     उन्नाव में जल्द निर्माण पूरा करके शुरू की जाएगी आपूर्ति     |     ग्राम धनेरिया कलां में सोनल शर्मा सहित अन्य भजन गायक देंगे सुमधुर प्रस्तुतियां     |     Bigg Boss 16 : ‘बिग बॉस 16’ की टाइमिंग में होगा बदलाव, वीकेंड में जल्दी देख पाएंगे शो ?     |     MG मोटर्स ने लॉन्च किया इलेक्ट्रिक पिकअप ट्रक, शानदार लुक, फीचर्स भी हैं दमदार     |     अब हर घर को मिल सकेगा पानी, बंद पड़े बोर को रिचार्ज करने का प्लान     |     सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और सभी राज्य सरकारों से जवाब मांगा, नोटिस जारी     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बोले-अपनी सीमाएं लांघ रही हैं एजेंसियां, हमें कार्रवाई का भी अधिकार     |     दूसरे हॉकी टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 7-4 से हराया     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374