बकवा पंचायत के मतदाता ही मेरी असली ताकत सत्येंद्र तिवारी

Whats App

तरैया /पानापुर! तरैया विधानसभा अंतर्गत पानापुर प्रखंड के अंतर्गत आने वाले बकवा पंचायत में मुखिया चुनाव को लेकर हिंसक झड़प भी हो चुकी है वर्तमान मुखिया ने मुखिया प्रत्याशी सत्येंद्र तिवारी के समर्थकों पर जानलेवा हमला किया है इस बाबत स्थानीय थाने में प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई है हमारे प्रतिनिधि ने बकवा पंचायत के मुखिया प्रत्याशी सत्येंद्र तिवारी से लंबी बातचीत की बातचीत के दौरान सत्येंद्र तिवारी ने कहा कि उनकी लोकप्रियता से कुछ लोग बौखला गए हैं और हिंसा पर उतर आए हर किसी के जोर जुल्म का जवाब बकवा की जनता देगी उन्होंने कहा कि गांव और पंचायत के लोग जानते हैं कि किसके हाथ में पावर जाने के बाद आम आदमी सशक्त होगा बिना मुखिया रहते हुए उन्होंने गांव के लोगों के सुख दुख में साथ दिया है गांव के बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिलवाया है वही गांव के लोगों को गरीब कन्याओं के विवाह में आर्थिक मदद दी है सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने के लिए लोगों के लिए लड़ाई लड़ी है बीमारी में या किसी भी प्रकार के कष्ट में लोगों के आंसू को पोछने का काम किया है उन्होंने कहा कि चुनाव वे नहीं बकवा की जनता लड़ रही है और एक सप्ताह के अंदर ही जब चुनाव परिणाम आएगा तो विरोधियों को जवाब मिल जाएगा उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग ने उन्हें चिमनी छाप चुनाव चिन्ह दिया हैजो ईवीएम में 8 वे नंबर पर है हर प्रत्याशी को मतदाताओं से वोट मांगने का अधिकार है वह भी जा रहे हैं लेकिन उनके साथ लोगों का जो काफिला है यह कई लोगों की आंखों में खटक रहा है और इसी कारण से उनके समर्थकों पर वर्तमान मुखिया के द्वारा जानलेवा हमला किया गया है उनके मन में किसी के प्रति कोई मैल नहीं है लोकतंत्र में आस्था है जनता मालिक जिसे चाहेगी वहीं मुखिया बनेगा। बातचीत के क्रम में सत्येंद्र तिवारी ने कहा कि बकवा का चुनाव इसलिए प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है कि यहां लड़ाई न्याय और अन्याय के बीच है यहां लड़ाई अहंकार के बीच है यहां लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ है यहां लड़ाई विकास के लिए है यहां लड़ाई भ्रष्ट लोगों के हाथों से पंचायत को बाहर निकालने को लेकर है। उन्होंने कहा कि धर्म जात के नाम पर लोगों को लड़ाई कर कुछ लोग मुखिया बनना चाह रहे हैं पर वह लोगों के दिलों पर राज कर के मुखिया बनना चाहते हैं लोगों को पता है कि अगर वह मुखिया बनते हैं तो 100 फ़ीसदी विकास योजनाएं लोगों के घरों तक पहुंचेगी वह किसी लोभ के कारण मुखिया नहीं बनना चाहते बल्कि लोगों की सेवा करने के लिए मुखिया बनना चाहते हैं। बकवा पंचायत के मतदाताओं से अपील करते हुए सत्येंद्र तिवारी ने कहा कि हमारी असली ताकत मतदाता ही है मतदाताओं ने हमें चुनाव में खड़ा कराया है और मुझे पूरा विश्वास है इस बार पंचायत का इतिहास बदलेगा और जनता उन्हें मौका देगी फिर बकवा मॉडल पंचायत के रूप में पूरे देश में जाना जाएगा

आमतौर पर मुखिया का चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी मतदाताओं को प्रलोभन के रूप में भोज देते हैं उन्हें आर्थिक सहायता देते हैं लेकिन हम आपको लिए चलते हैं छपरा जिले के तरैया विधानसभा क्षेत्र के पानापुर इलाके में अवस्थित बकवा पंचायत मे। जहा एक मुखिया प्रत्याशी ने 5 वर्षो के अंदर अपने पंचायत के सैकड़ों युवाओं को रोजगार ही दे डाला है।बकवा पंचायत में इस बार बदल गया है वोटरों का मिजाज मुखिया प्रत्याशी सत्येंद्र तिवारी के प्रति सभी वर्ग के लोग दिखा रहे हैं एकजुटता चिमनी छाप चुनाव चिन्ह को लेकर भी है युवाओं में जबरदस्त जोश। बकवा पंचायत से मुखिया प्रत्याशी सत्येंद्र तिवारी विगत 5 वर्षों से अपने ग्राम पंचायत के लोगों की सेवा में तत्पर है लोगों को अपने निजी कोष से हॉस्पिटल पहुंचाना हो या गरीब कन्याओं के विवाह में सहायता करना किसी भी तरह के आर्थिक सहायता से पीछे नहीं हटते है इस बार लोगों के जन दबाव में वे अपने पंचायत से मुखिया प्रत्याशी बने है उन्हें चुनाव चिन्ह के रूप में चिमनी छाप मिला है उनके प्रचार में सभी जाति सभी वर्ग के युवा बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है जिससे पंचायत की फिजा बदली हुई है। लोग बता रहे हैं कि सतेंद्र तिवारी और उनका परिवार पूरे पंचायत के लोगों की सेवा में लगा हुआ है कोरोना काल में भी लोगों की सहायता में पीछे नहीं हटे इस कारण से अपार जनसमर्थन मिल रहा है। लोगों से मिल रहे अपार जनसमर्थन पर सत्येंद्र तिवारी ने कहा कि जनतंत्र में जनता मालिक है हर किसी को वोट मांगने का अधिकार है लोगों को लगता है कि जो इमानदारी पूर्वक पंचायत का विकास कर सकते हैं लोग उनका समर्थन कर रहे हैं उनका कार्यक्षेत्र उनके पंचायत तक ही सीमित है इस कारण से मुखिया नहीं रहते हुए भी उन लोगों की सहायता से कभी पीछे नहीं हटे हैं जितना कुछ बन पड़ा है लोगों के सुख-दुख के भागी बने हैं यही कारण है कि सभी जाति सभी वर्ग के लिए उनके समर्थन में उतर चुके है।वे कहते है की अपने पंचायत को मॉडल पंचायत बनाना चाहते हैं जिसकी चर्चा सिर्फ तरैया छपरा बिहार ही नहीं पूरे राष्ट्रीय स्तर पर हो। उन्होंने कहा कि वे गांव के लोगों के विश्वास पर खरा उतरने का प्रयास करेंगे यही कारण है कि लोग खुद ब खुद उनका चुनाव प्रचार कर रहे हैं लोगों के घर तक जा रहे हैं और लोगों को बता रहे हैं कि अगर वे चुनाव जीतते हैं तो क्या कुछ पंचायत का विकास होगा

Leave A Reply

Your email address will not be published.

रोहित शेट्‌टी की वेब सीरीज की शूटिंग के दौरान घायल हुए सिद्धार्थ मल्होत्रा     |     केरल में जोरदार प्री-मॉनसून बारिश उत्तर भारत में भी जल्द मिलेगी गर्मी से राहत     |     शो खतरों के खिलाडी के कंटेस्टेंट जल्द ही केपटाउन के लिए होंगे रवाना     |     ग्वालियर में तापमान 46 डिसे पार     |     ई-वीकल के लिए लगेगा अलग मीटर     |     इलाहाबाद हाई कोर्ट में श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर तथा ज्ञानवापी मस्जिद विवाद मामले में सुनवाई आज     |     चैंपियन बनने के बाद टीम इंडिया को पीएम मोदी ने किया फोन     |     गुजरात-चेन्नई का मैच देखने पहुंचे कार्तिक आर्यन     |     हरी सब्जियों के दाम में आई गिरावट     |     एफडी ब्याज दरों में फिर होने वाली है बढ़ोतरी     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374