New Year
Breaking
गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे. मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार...

*भूखे हैं भगवान-कान्हा की अनोखी भक्ति* प्रस्तुति – अनमोल कुमार

Whats App

यह दुनिया का सबसे असामान्य मंदिर है।

*यह मंदिर 23.58 x 7 खुला रहता है। यहाँ भगवान कृष्ण हमेशा ही विराजमान रहते हैं।डेढ़ हजार वर्ष पुराना यह मंदिर केरल के कोट्टायम जिले में तिरुवरप्पु में स्थित है।

*मान्यता है कि यंहा भगवान श्रीकृष्ण के प्रतिष्ठित विग्रह हमेशा भूख में रहते हैं इसलिए यह मंदिर 23.58 घंटे, 365 दिन खुला रखा जाता है।

Whats App

*इस मंदिर की एक और ख़ासियत यह है कि पुजारी को दरवाज़ा खोलने के लिए चाबी दी जाती है तो साथ में एक कुल्हाड़ी भी दी जाती है। लोगों का मानना ​​है कि कृष्ण भूख बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं और इसलिए यदि चाबी के साथ केवल दो मिनट में दरवाजा खोलने में कोई देरी होती है, तो पुजारी को कुल्हाड़ी से दरवाजा तोड़ने की अनुमति है।

*मंदिर केवल 2 मिनट के लिए बंद रहता है। सुबह 11.58 बजे से 12.00 बजे तक। लोक मान्यता ​​है कि मंदिर में भगवान कृष्ण की जो मूर्ति स्थापित है वह कंस का वध करने के बाद बहुत थक चुके श्रीकृष्ण की है।

*इसलिए, अभिषेकम समाप्त होने के बाद, स्वामी का सिर पहले सूख जाता है और जब नैवेद्यम उन्हें चढ़ाया जाता है तब तक उसका शरीर सूख जाता है। यंहा 10 बार नैवेद्य पूजा होती है।

*इस मंदिर की एक और ख़ासियत यह है कि ग्रहण के समय भी मंदिर बंद नहीं होता है। लोगों का मानना ​​है कि यह भगवान कृष्ण भूखे रह जाएंगे। कभी एक बार मंदिर को ग्रहण के दौरान बंद कर दिया गया था। जब पुजारी ने दरवाजा खोला तो उन्होंने पाया कि स्वामी की कमर की पट्टी नीचे खिसक गई है। उस समय मंदिर आए श्री आदि शंकराचार्य जी ने बताया कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि भगवान कृष्ण बहुत भूखे रह गए थे। तब से, उन्होंने ग्रहण काल ​​के दौरान भी मंदिर बंद करने की परंपरा समाप्त कर दी।

*भगवान कृष्ण के सोने का समय केवल दो मिनट दैनिक 11.58 बजे से 12.00 बजे है। मंदिर खुलने का समय दोपहर 12.00 बजे से 11.58 बजे तक है। मंदिर का पता है, तिरुवरप्पु कृष्णा मंदिर, तिरुवरप्पु -686020

*प्रसादम का सेवन किए बिना किसी भी भक्त को जाने की अनुमति नहीं है। हर दिन 11.57 बजे मंदिर को बंद करने से पहले पुजारी जी जोर से पुकारते है…..

क्या कोई भी यहाँ है ? ”

यह प्रसादम में सभी भक्तों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए है।
*एक और महत्वपूर्ण चीज है एक बार जब आप प्रसादम का स्वाद लेते हैं, तो आप जीवनपर्यंत भूखे नहीं रहेंगे और जीवन भर आपको भोजन प्राप्त करने में कोई समस्या नहीं होगी। जो श्रद्धालु यहां प्रार्थना करते हैं और प्रसाद ग्रहण करते हैं भगवान कृष्ण उन सभी भक्तों की सतत देखभाल करते रहते हैं।

ठाकुर बांके बिहारी लाल की जय !

मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव     |     आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी     |     केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक     |     दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म ‘द क्रू’ में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ     |     मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार…     |     गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे.     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374