Breaking
85 मामलों में जब्त की थी हेरोइन, चरस, गांजा और नशीली गोलियां, वीडियो-फोटोग्राफी हुई अशोक गहलोत फिर दिखाएंगे जादू या सचिन पायलट बनेंगे मुख्यमंत्री, क्या होगा सोनिया गांधी का फैसला? कबाड़ी दुकान में चोरी के बाद बदमाशों ने लगाई आग ट्यूशन टीचर ने बच्ची को गर्म चिमटे से जलाया धरती से निकली हैं धमतरी की मां विंध्यवासिनी, देश विदेश से दर्शन करने आते हैं श्रद्धालु दिसंबर 2023 तक हर भारतीय के लिए 5जी लाएगी जियो : मुकेश अंबानी विक्की कौशल ने खास अंदाज में दी ऋचा-अली को शादी की बधाई  लॉ कॉलेज के प्रोफेसर ने फांसी लगाकर की आत्महत्या  सीसीटीवी में कैद हुई पूरी घटना, पुलिस चौकी के पास ही है एटीएम 2 बच्चों की मां को पड़ोसी ने बनाया शिकार; 2 अन्य धाराओं में भी सजा-जुर्माना

भगवान शिव के आंसुओं से मिट जाती है हर बाधा, जानिए सर्वसिद्ध रुद्राक्ष के रहस्य की गाथा

Whats App

महाशिवरात्रि का पर्व 01 मार्च को है. महाशिवरात्रि का दिन रुद्राक्ष धारण करने के लिए अच्छा दिन है. रुद्राक्ष का संबंध भगवान शिव से है इसे बहुत ही चमत्कारी माना जाता है. भगवान शिव के मंत्रों का जाप करने के लिए रुद्राक्ष की माला का ही प्रयोग करते हैं.

रुद्राक्ष धारण करने से संकट मिटते हैं दुख एवं ग्रह दोष दूर होते हैं, जीवन में सुख, समृद्धि, धन, संपत्ति सबकुछ प्राप्त हो सकता है. इसको धारण करने के ​भी नियम होते हैं. ऐसे में आज हम आपको सर्वसिद्ध रुद्राक्ष के रहस्य की संपूर्ण गाथा बताने जा रहे हैं. इसके साथ ही आपको भगवान शिव रुद्राक्ष के मध्य के संबंध रोचक तथ्यों के बारे में भी बताएंगे. इसके अतिरिक्त हम आपको महाशिवरात्रि के अवसर पर रुद्राक्ष के प्रकार उन्हें धारण करने से क्या क्या लाभ होते हैं इसकी भी जानकारी देंगे.

रुद्राक्ष की उत्पत्ति
पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक बार भगवान शिव हजार वर्ष तक साधना में लीन थे. एक दिन अचानक जब उनकी आंखें खुलीं तो उससे आंसू की एक बूंद पृथ्वी पर गिर पड़ी. उससे ही रुद्राक्ष की उत्पत्ति हुई. शिव आज्ञा मानव कल्याण के लिए रुद्राक्ष के पेड़ पूरी धरती पर फैल गए. रुद्राक्ष का भगवान शिव से यही संबंध है. इस वजह से रुद्राक्ष को चमत्कारी प्रभावी माना जाता है.

Whats App

रुद्राक्ष के प्रकार
रुद्राक्ष एक से लेकर 21 मुखी तक पाए जाते हैं. इनमें भी 11मुखी रुद्राक्ष को सर्वसिद्ध रुद्राक्ष माना जाता है. आइए जानते हैं कुछ प्रमुख रुद्राक्ष के प्रकार के बारे में.
1. एक मुखी रुद्राक्ष- शिव स्वरुप
2. दो मुखी रुद्राक्ष- अर्धनारीश्वर स्वरुप
3. तीन मुखी रुद्राक्ष- अग्नि एवं तेज स्वरुप
4. चार मुखी रुद्राक्ष- ब्रह्म स्वरुप
5. पांच मुखी रुद्राक्ष- कालाग्नि स्वरुप
6. छह मुखी रुद्राक्ष- भगवान कार्तिकेय स्वरुप
7. सात मुखी रुद्राक्ष- सप्तऋषियों का स्वरुप
8. आठ मुखी रुद्राक्ष- अष्ट देवियों का स्वरुप
9. नौ मुखी रुद्राक्ष- धन, संपत्ति, यश एवं कीर्ति के लिए धारण करते हैं
10. 10 मुखी रुद्राक्ष- नकारात्मक शक्तियों से सुरक्षा के लिए
11. 11 मुखी रुद्राक्ष- सर्वसिद्ध रुद्राक्ष, आत्मविश्वास वृद्धि के लिए
12. 12 मुखी रुद्राक्ष- सफलता के लिए
13. 13 मुखी रुद्राक्ष- सुखद वैवाहिक जीवन के लिए

85 मामलों में जब्त की थी हेरोइन, चरस, गांजा और नशीली गोलियां, वीडियो-फोटोग्राफी हुई     |     अशोक गहलोत फिर दिखाएंगे जादू या सचिन पायलट बनेंगे मुख्यमंत्री, क्या होगा सोनिया गांधी का फैसला?     |     कबाड़ी दुकान में चोरी के बाद बदमाशों ने लगाई आग     |     ट्यूशन टीचर ने बच्ची को गर्म चिमटे से जलाया     |     धरती से निकली हैं धमतरी की मां विंध्यवासिनी, देश विदेश से दर्शन करने आते हैं श्रद्धालु     |     दिसंबर 2023 तक हर भारतीय के लिए 5जी लाएगी जियो : मुकेश अंबानी     |     विक्की कौशल ने खास अंदाज में दी ऋचा-अली को शादी की बधाई      |     लॉ कॉलेज के प्रोफेसर ने फांसी लगाकर की आत्महत्या      |     सीसीटीवी में कैद हुई पूरी घटना, पुलिस चौकी के पास ही है एटीएम     |     2 बच्चों की मां को पड़ोसी ने बनाया शिकार; 2 अन्य धाराओं में भी सजा-जुर्माना     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374