Breaking
भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर  कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार

कैमूर की विधि व्यवस्था संभालने में महिला पुलिस अधिकारी भी निभा रही भागीदारी, हर मोर्चे पर दिखा रही दम

Whats App

भभुआ।  जिले के लगभग सभी विभागों में आधी आबादी की भागीदारी तो चल ही रही है। लेकिन विधि व्यवस्था संधारण की कमान संभालने वाले पुलिस विभाग में तीन चार वर्ष पूर्व तक नाम मात्र की रही। अब पुलिस विभाग में भी नारी सशक्तीकरण की झलक व्यवहार में दिखाई दे रही है। फिलवक्त जिले के दूरस्थ क्षेत्र में स्थित कुढ़नी और कुछिला थाना को छोड़कर अन्य सभी थानों पर महिला पुलिस पदाधिकारी व महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती हो चुकी है। इसका एक मात्र उद्देश्य महिलाओं से जुड़े मामलों को प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित कराना है

विभागीय आकड़ों के अनुसार जिले कैमूर में 20 महिला पुलिस पदाधिकारी व एक 100 से अधिक महिला सिपाही फिलहाल कार्यरत हैं, जिनकी प्रतिनियुक्ति भभुआ, भगवानपुर, चैनपुर, चांद, अधौरा, सोनहन, बेलांव, करमचट, मोहनियां, दुर्गावती, कुदरा, रामगढ व नुआंव आदि थानों पर की गई है। इसके अलावा जिले में कार्यरत महिला थाना व अजा-अजजा थानों पर भी महिला पदाधिकारी व महिला पुलिस कर्मी पूर्व से ही कार्यरत हैं। जिले में आनलाइन प्राथमिकी दर्ज कराने की चल रही प्रक्रिया के पूरी होने पर महिलाएं अपने मायका या ससुराल कहीं भी रहने की स्थिति में अपने साथ हुए घरेलू हिंसा या किसी भी प्रकार के उत्पीड़न की हालत में उसी स्थान पर प्राथमिकी दर्ज करा सकेंगी

Whats App

इसके साथ ही ट्रैफिक व्यवस्था संभालने में भी महिला कर्मियों की भागीदारी बढ़ी है। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि, जिले में पर्याप्त संख्या में महिला पुलिस पदाधिकारी व महिला पुलिस कर्मी उपलब्ध हैं। जिनकी प्रतिनियुक्ति लगभग सभी थानों में कर दी गई। पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार  का कहना है कि महिलाओं से जुड़े किसी भी मामले में त्वरित कार्रवाई करने का निर्देश पूर्व में ही दिया जा चुका है। महापर्व छठ पर भी घाटों पर महिला पुलिस पदाधिकारी व महिला पुलिस कर्मियों की अलग से तैनाती की जाएगी।

भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर      |     कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |     आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर     |     मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह     |     इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन     |     Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग     |     अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला     |     सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे     |     अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल     |     एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374