Breaking
इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं? अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता

राजौरी-पुंछ में पुराने आतंकी कमांडरों से हिंसा भड़काने की साजिश, सरहद पार जगह-जगह छोटे-छोटे दल घुसपैठ के लिए तैयार

Whats App

राजौरी : नियंत्रण रेखा (एलओसी) से सटे जम्मू संभाग के राजौरी और पुंछ जिलों में आतंकी हिंसा भड़काने के लिए बड़ी साजिश रची गई है। कश्मीर में सरहद पर सख्ती बढऩे के बाद पाकिस्तान ने राजौरी और पुंछ जिलों में जगह-जगह आतंकियों को छोटे-छोटे दल में घुसपैठ के लिए तैयार कर रखा है। इनमें कुछ पुराने आतंकी कमांडर भी शामिल हैं जो दोनों जिलों की भौगोलिक स्थिति से वाकिफ हैं। अलबत्ता साजिशों को नाकाम बनाने के लिए पूरी एलओसी पर सेना के जवान पूरी मुस्तैद हैं

सूत्रों का कहना है कि सीमा पार तत्तापानी, निकेयाल, अग्रिम बालाकोट, डेरी डब्बसी, लंजोट, रेड कठार, अग्रिम तरकुंडी , रावलाकोट आदि कई ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें पाक सेना, पाक की खुफिया एजेंसी आइएसआइ व आतंकी कमांडरों ने लांङ्क्षचग पैड बनाकर रखे हुए हैं। यहां काफी संख्या में नए व पुराने आतंकियों को रखा गया है। मौका मिलते ही इन आतंकियों को भारतीय क्षेत्र में दाखिल करवा दिया जाएगा। फिलहाल अभी एलओसी से सटे क्षेत्रों में इतनी बर्फ नहीं पड़ी कि जिससे रास्ते बंद हो गए हों। इससे पहले कि दोबारा मौसम बिगड़े आतंकी मौका पाकर घुसपैठ कर सकते हैं। कुछ समय में राजौरी व पुंछ जिलों में आतंकी घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है।

हर ग्रुप में तीन से चार आतंकी : मौजूदा समय में दोनों जिलों में सात आतंकी ग्रुप मौजूद हैं। हर ग्रुप में तीन से चार आतंकी मौजूद हैं। पहले यह आतंकी सीमा पार करके बाद कश्मीर चले जाते थे, लेकिन जब से कश्मीर में सुरक्षा बलों के हाथों आतंकी मारे जा रहे हैं तब से सीमा पार से यही प्रयास हो रहा है अधिक से अधिक आतंकियों को राजौरी व पुंछ भेजा जाए। आतंकियों ने 18 रोज पहले पुंछ के चमरेड़ जंगल में और उसके बाद भाटाधुलियां के जंगल में हमले करके नौ चार जवानों को शहीद कर दिया था। अभी तक एक भी आतंकी नहीं मारा गया

Whats App

नए युवाओं को बरगलाया जा रहा : राजौरी व पुंछ दोनों जिलों में कई ऐसे आतंकी थे जिन्होंने जमकर खून खराबा किया। उसके बाद सुरक्षित सीमा पार करके गुलाम कश्मीर में चले गए। वहां पर मौजूद आतंकी प्रशिक्षण शिविरों में आने वाले युवाओं को प्रशिक्षण देने के साथ उनके दिमाग में जिहाद भरने लगे। आतंकी संगठनों व पाक की खुफिया एजेंसी ने पुराने आतंकियों को सीमा पार करवाकर भारतीय क्षेत्र में भेजना शुरू कर दिया है जो फिर से आतंकवाद को जीवित करने के साथ नए युवाओं को आतंकी बनाने के लिए बरगलाया जा रहा है। सुरक्षा विशेषज्ञ के अनुसार जम्मू कश्मीर में हालात लगभग सामान्य होते देख आतंकी संगठन बौखला चुके हैं। वे अब जम्मू संभाग को अपना निशाना बनाने की फिराक में हैं।

इमिग्रेशन कंपनियों के दफ्तरों पर शुरू की छापामारी, चेक किए लाइसेंस     |     बिजली मंत्री ने बिजली और गबन संबंधी समस्याओं पर लिया एक्शन; 11 शिकायतें सुनी     |     हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत नहीं दी; वकील से पूछा- क्या वह भारत आएगा या नहीं?     |     अनिज विज को शिकायत देने के बाद दर्ज हुआ मामला, जांच में जुटी पुलिस     |     गांव जंडली की घटना; शराब के नशे में था सूरज, जांच में जुटी पुलिस     |     बोले- पीएम मोदी को 8 हजार करोड़ का जहाज, अग्निवीर को बर्फीले सियाचीन में सिर्फ 21 हजार वेतन     |     पत्थर की फैक्ट्री में दो महिलाएं काम कर रही थी, दूसरी फैक्ट्री की दीवार गिरी     |     तेल कंपनियों ने जारी किए पेट्रोल-डीजल के दाम     |     आर्थिक मोर्चे पर बेहाल पाकिस्तान में अब भारी आयात शुल्क लगाने से दवाओं की किल्लत     |     देवेंद्र फडणवीस का डिमोशन या अनुशासन का संदेश? महाराष्ट्र के फैसले से भ्रम में भाजपा कार्यकर्ता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374