Breaking
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road a... खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन

गोपालगंज। पिस्तौल और जिंदा कारतूस के साथ भोरे से कुख्यात गिरफ्तार।

Whats App
  • गोपालगंज। डेढ़ दर्जन से ऊपर संगीन मामलों का आरोपी रह चुके जिले के कुख्यात अपराधी सत्येंद्र यादव उर्फ पहलवान को भोरे पुलिस ने हथियार के साथ गिरफ्तार कर लिया है,बताया जाता है कि भोरे थानाध्यक्ष सुभाष कुमार सिंह को गुप्त सूचना मिली कि सुमेरी छापर गांव में कुख्यात तथा वांक्षित अपराधी शिवसागर चौधरी  का पुत्र सतेंद्र यादव उर्फ पहलवान अपने घर सुमेरी छापर में आया हुआ है। गुप्त सूचना मिलते ही भोरे थानाध्यक्ष
    सुभाष कुमार सिंह दलबल के साथ थाना क्षेत्र के
    सुमेरी छापर पहुँचे तभी सत्येंद्र यादव उर्फ पहलवान  पुलिस को देखकर भागने लगा। पुलिस द्वारा खदेड़ कर उसे धर दबोचा गया,इस दौरान पुलिस ने सत्येंद्र यादव उर्फ पहलवान की जब तलासी ली गई तो उसके पास से एक देशी लोडेड पिस्तौल तथा 2 जिंदा गोली बरामद किया गया,

    डेढ़ दर्जन से ऊपर संगीन मामलों का आरोपी रह चुका है सतेंद्र पहलवान,

    ऐसा नहीं है कि पुलिस ने कुख्यात को पहली बार गिरफ्तार किया हो इसके पहले भी सत्येंद्र पहलवान कई मामलों में जेल जा चुका है, अपराध जगत की अगर बात करें तो वर्ष 1999 में बोर्ड की परीक्षा देने के बाद उसने 2001 में इंटरमीडिएट एग्जाम को पास किया, उसके बाद सत्येंद्र पहलवान ने अपराध जगत में ऐसे कदम रखा के पीछे मुड़कर उसने कभी नहीं देखा, सूत्र यह भी बताते हैं कि 2001 में इंटरमीडिएट एग्जाम के बाद उसने गवर्नमेंट जॉब के लिए भारतीय रेल में नौकरी के लिए आवेदन किया था, लेकिन वर्ष 2001 जनवरी माह में ही
    जमीनी विवाद के एक मामले को लेकर हत्या के प्रयास और आर्म्स एक्ट का आरोपी बन गया, और इसी बीच पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जेल में ही रहने के बाद सत्येंद्र पहलवान के घर रेलवे का कॉल लैटर भी आया था, मंडल कारा गोपालगंज में बंद सत्येंद्र यादव का कैरियर तबाह हो गया, उसके बाद उसने अपराध जगत से ऐसा नाता जोड़ा कि वह फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा, और एक के बाद एक संगीन मामले सतेंदर यादव पर दर्ज होते गये, और वह कई बार जेल की सलाखों के अंदर भी गया,आपको बता दें कि सत्येन्द्र यादव उर्फ पहलवान फिरौती के लिए अपहरण, डकैती, लूट, रंगदारी जैसे दर्जनों कांडों में आरोप पत्रित तथा भोरे थाना कांड सं० 89/21 में वांक्षित अपराधकर्मी है,पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक सत्येंद्र यादव बिहार में शराबबंदी के बाद भी
    शराब की तस्करी कर रहा था,बरहाल पुलिस ने कुख्यात सत्येंद्र यादव उर्फ पहलवान को गिरफ्तार कर लिया है,
    थाना अध्यक्ष सुभाष सिंह ने यह दावा किया है कि कुख्यात से पूछताछ के बाद शराब तस्करी से जुड़े कई लोगों के नाम सामने आ सकते है,बरहाल कुख्यात से पूछताछ अभी जारी है।

    रंजीत शाही।

रमा देवी बंशीलाल गुर्जर और नम्रता प्रितेश चावला के नाम पर चल रहा मंथन     |     महिलाओं की उंगलियां होती है ऐसी, स्वभाव से होती हैं गंभीर और बड़ी खर्चीली     |     इन चीजों से किडनी हो सकती है खराब     |     दिल्ली से किया था नाबालिग को अगवा, CCTV फुटेज से आरोपियों की हुई थी पहचान     |     गृह विभाग में अटकी फ़ाइल, क्या रिटायर्ड होने के बाद होगा प्रमोशन     |     एशिया कप के लिए टीम का ऐलान आज     |     वास्तु की ये छोटी गलतियां कर सकती हैं आपका बड़ा नुकसान, खो सकते हैं आप अपना कीमती दोस्त     |     आय से अधिक संपत्ति मामले में शिबू सोरेन को लोकपाल का नोटिस     |     बाइक से कोरबा लौटने के दौरान हादसा, दूसरे जवान की हालत गंभीर; पुलिस लाइन में पदस्थ थे दोनों | road accident in chhattisharh; bike rider chhattisgarh police head constable dies in car collision in korba     |     खरीदें Redmi का शानदार 5G स्मार्टफोन     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374