Breaking
केंद्रीय डेपुटेशन के लिए लेटर लिख चुके; पंजाब में 6 महीने में चौथे डीजीपी बदले जाएंगे रुक-रुककर लगातार बरस रहे मेघ; पानी निकासी को लेकर DC की सख्त चेतावनी जलभराव और बाढ़ से निपटने के लिए DM ने बनाया एक्शन प्लान ब्रेकफास्ट में खाएं ये हेल्दी वेट लॉस डिशेज अमित शाह आज गुजरात में, जगन्नाथ मंदिर में मंगला आरती के बाद कई विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण ओवैसी बोले- कांग्रेस अपनी प्रासंगिकता तेजी से खोती जा रही उसे खत्म हो जाना चाहिए जीवाश्म वैज्ञानियों ने सबसे प्राचीन सरीसृप की खोज की नटेरन जनपद में शुरू हुआ मतदान; 84 ग्राम पंचायतों के 237 पोलिंग बूथ पर डाले जा रहे वोट लुधियाना से जांलधर चुराने आया था ऑटो, सिक्योरिटी गार्ड ने दबोचा, जमकर की धुनाई उदयभान बोले- गद्दार, उसका भविष्य जीरो है, जीतने के लिए भाजपा से किया समझौता

इंदौर आयकर विभाग ने दो दिन में बिना कारण 7500 करदाताओं को जारी कर दिए नोटिस

Whats App

इंदौर ।   आयकर विभाग ने इंदौर परिक्षेत्र में बीते दो दिन में करीब 7500 करदाताओं को नोटिस जारी कर दिए हैं। नोटिस पाने वाले सभी करदाता टैक्स आडिट वाली श्रेणी में आते हैं। खास बात यह कि इन करदाताओं ने न तो आयकर रिटर्न में आय छुपाने की कोशिश की और न ही आडिट मेें गड़बड़ी की। आयकर विभाग के नए पोर्टल और साफ्टवेयर को एंट्री समझने में परेशानी हो रही है। प्रोसेसिंग की इसी परेशानी के कारण तमाम करदाताओं को थोकबंद नोटिस जारी कर दिए हैं। इन सभी करदाताओं को रिटर्न संशोधित करने के लिए कहा जा रहा है।

नोटिस तो करदाताओं को मिले हैं लेकिन उसका असर सैकड़ों चार्टर्ड अकाउंटेंट्स पर पड़ रहा है। आयकर के सेंट्रल प्रोसेसिंग सेंटर से जारी हुए इन नोटिस में सीधे फरमान दे दिया गया है कि रिटर्न रिवाइज किया जाए। वित्त वर्ष के आखिरी दो दिनों में अब शहर के तमाम चार्टर्ड अकाउंटेंट पहले से भरे जा चुके आयकर रिटर्न को एक बार फिर संशोधित कर जमा करने में जुट गए हैं। आखिर वक्त पर आए इस तरह के नोटिसों को करदाताओं और टैक्स पेशवरों ने विभाग की मनमानी और अव्यवस्था करार दिया है।

गलती आयकर विभाग के पोर्टल की

Whats App

सीए ब्रांच इंदौर के पूर्व चेयरमैन सीए पंकज शाह के अनुसार वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए आयकर की आडिट रिपोर्ट दाखिल करने की अंतिम तिथि 15 फरवरी थी। आडिट रिपोर्ट के आधार पर इन करदाताओं को आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए 15 मार्च का समय दिया गया था। 15 मार्च को रिटर्न दाखिल हुए और आयकर के सेंट्रल प्रोसेसिंग से इन्हें नोटिस जारी कर दिए हैं। आयकर का नया पोर्टल इन करदाताओं की टैक्स आडिट रिपोर्ट में दर्शाई गई प्राप्तियों को दोबारा आय में मान कर नोटिस जारी कर रहा है।

रिटर्न को रिवाइज करना उचित नहीं

दरअसल आयकर का पोर्टल का प्रारूप बीते दिनों बदला है। आडिट में करदाता अपनी मूल व्यापार-व्यवसाय की आय के अलावा किराए या अन्य स्रोत से आय का उल्लेख अलग से प्रदर्शित करता है। रिटर्न में वह पूरी आय को घोषित करता है लेकिन उसकी एंट्री अलग-अलग कालमों में नहीं होने से आयकर के नए साफ्टवेयर ने प्रोसेसिंग में उसे गलत विवरणी मानकर नोटिस जारी कर दिए। शाह के अनुसार इन नोटिस के आधार पर रिटर्न को रिवाइज करना उचित नहीं है क्योंकि गलती प्रोसेसिंग की है, न कि विवरणी में। आयकर विभाग को इन त्रुटिपूर्ण प्रोसेसिंग के बारे में सूचित किया गया है और रिटर्न्स को फिर से प्रोसेस करने का निवेदन किया जा रहा है।

केंद्रीय डेपुटेशन के लिए लेटर लिख चुके; पंजाब में 6 महीने में चौथे डीजीपी बदले जाएंगे     |     रुक-रुककर लगातार बरस रहे मेघ; पानी निकासी को लेकर DC की सख्त चेतावनी     |     जलभराव और बाढ़ से निपटने के लिए DM ने बनाया एक्शन प्लान     |     ब्रेकफास्ट में खाएं ये हेल्दी वेट लॉस डिशेज     |     अमित शाह आज गुजरात में, जगन्नाथ मंदिर में मंगला आरती के बाद कई विकास कार्यों का करेंगे लोकार्पण     |     ओवैसी बोले- कांग्रेस अपनी प्रासंगिकता तेजी से खोती जा रही उसे खत्म हो जाना चाहिए     |     जीवाश्म वैज्ञानियों ने सबसे प्राचीन सरीसृप की खोज की     |     नटेरन जनपद में शुरू हुआ मतदान; 84 ग्राम पंचायतों के 237 पोलिंग बूथ पर डाले जा रहे वोट     |     लुधियाना से जांलधर चुराने आया था ऑटो, सिक्योरिटी गार्ड ने दबोचा, जमकर की धुनाई     |     उदयभान बोले- गद्दार, उसका भविष्य जीरो है, जीतने के लिए भाजपा से किया समझौता     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374