Breaking
गोपालगंज। छात्र की कारस्तानी से सुर्खियों में भोरे बीपीएस कॉलेज। गोपालगंज।पटेल नगर व विशंभरपुर में युद्ध स्तर पर हो रहा कटाव निरोधी कार्य, लगाये गये 300 मजदूर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते म... नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों ... छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या 

गोपालगंज। जिस प्रखंड ने बाढ़ का दंस नहीं झेला वहां बन गए 9 पंचायतों में 24 बांध।

Whats App

गोपालगंज।गंडक नदी से सदर अनुमंडल के पांच प्रखंड क्षेत्र हमेशा से बाढ़ का दंश झेलता रहा है. लेकिन सरकारी कागज में चौकाने वाली तथ्य सामने आये है. आप हैरत में तब जायेंगे. जब आपको ये पता चलेगा कि अब भोरे प्रखंड भी बाढ़ग्रस्त इलाका हो गया है. तो आप क्या कहेंगे. आश्चर्य की बात ता यह है कि जिस प्रखंड से होकर तीन छोटी नदियां गुजरती हो, वहां बाढ़ से बचाव के लिए न सिर्फ 24 बांध ही बनाये गये, बल्कि बरसात से पूर्व उनका मरम्मति कार्य भी कराया जा रहा है. मनरेगा के तहत भोरे में 24 बांधों का मरम्मति कार्य किया जा रहा है. मनरेगा ने भोरे को अब बाढ़ग्रस्त क्षेत्र बना दिया है. हालांकि इस पूरे योजना की जानकारी बाढ़ नियंत्रण विभाग को भी नहीं है. उधर, मनरेगा के डीपीओ साहेब यादव ने कहा कि वाटलॉगिंग से बचाने के लिए मनरेगा से बांध बनाया गया हो सकता हे. इसकी जांच कर सच को सामने लाया जायेगा.

भोरे से गुजरती है तीन छोटी नदिया

प्रखंड क्षेत्र से होकर तीन प्रमुख नदियां गुजरती है. जिसमें एक स्याही नदी है. जिसमें सिफ बरसात के दिनों में ही पानी आता है. दूसरी प्रमुख नदी झरही है. जिसमें सालों भर पानी तो रहता है. लेकिन कभी बाढ़ की स्थिति नहीं बनती. तीसरी सोना नदी है. जिसका पानी तलहटी में ही रहता है. बाढ़ नियंत्रण विभाग के अभिलेख में भी भोरे में कभी बाढ़ नहीं आयी और नहीं बाढ़ से बचाव के लिए कभी बांध बनाया गया.

Whats App

नौ पंचायतों में बने 24 बांधों का हो रहा मरम्मति कार्य

प्रखंड की 17 में से नौ पंचायतों में 24 बांध बने हैं. बरसात से पहले इन्हें बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव कार्य दिखा कर मिट्टी भराई कार्य कराया जा रहा है. सभी योजनाएं वर्तमान में संचालित हैं. जब मनरेगा पोर्टल पर योजनाओं का अवलोकन किया गया. तो वित्तीय वर्ष 2021-22 में ही प्रखंड क्षेत्र में 24 बांधों के मरम्मति का कार्य जारी है. प्रखंड की बगहवां मिश्र और हरदियां पंचायतों में 1-1, बनकटा जागीरदारी और रकबा में 2-2, कोरेयां, सिसई और लामीचौर में 3-3, डूमर नरेंद्र में 4 और सबसे अधिक छठियांव पंचायत में पांच बांध बाढ़ से बचाने के लिए बनाये गये हैं.

ऐसे हुआ में मरम्मति में 57 लाख का गड़बड़झाला

प्रखंड की 9 पंचायतों में बने 24 बांधों के मामले में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. बांधों की मरम्मती का कार्य किया जा रहा है. वे कभी बांध थे ही नहीं, इसमें से अधिकांश बांध पहले सड़क हुआ करते थे. उनके निर्माण का कार्यकाल पूरा नहीं होने के कारण उन्हें बांध दिखा कर उसकी मरम्मत कराई जा रही है. 24 बांधों की मरम्मत के लिए लगभग 57 लाख का खर्च किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि इन्हें बांध बनाने के लिए इनका नाम भी बदल दिया गया था. आंकड़े बताते हैं कि सभी योजनाएं वर्तमान में संचालित हैं. जिन्हें पूरा करने के लिए कागजों में मजदूर काम भी कर रहे हैं. लेकिन वास्तविकता कुछ और ही है.

जल जमाव से निजात के लिए कार्य कराया जा रहा : बीडीओ

बीडीओ सह पीओ संजय कुमार राय ने बताया कि फ्लड कंट्रोल में अतिवृष्टि आता है. जिसके कारण वाटर लॉगिंग हेाने के कारण फ्लड कंट्रोल के तहत कार्य कराया जा रहा है. इसमें कोई गड़बड़ी नहीं हो सकता है.

भोरे बाढ़ग्रस्त इलाका नहीं : विभाग

बाढ़ नियंत्रण विभाग के मुख्य अभियंता प्रकाश दास ने बताया कि भोरे प्रखंड विभाग की रेकॉर्ड में कभी भी बाढ़ग्रस्त क्षेत्र नहीं रहा है. कभी बाढ़ नहीं आई. बाढ़ नियंत्रण एवं बचाव को लेकर कोई योजना विभाग द्वारा संचालित नहीं किया गया है.

डीएम ने कहा योजनाओं की होगी जांच

प्रभारी डीएम अभिषेक रंजन ने बताया कि भोरे में बांध बनाने के नाम पर अगर गड़बड़ी की गयी है तो इसकी जांच करायी जायेगी. जांच में अगर गड़बड़ी पायी जाती है. तो इसमे लिप्त लोगों को ततकल कार्रवाई की जायेगी.

Kumar pardeep

Leave A Reply

Your email address will not be published.

गोपालगंज। छात्र की कारस्तानी से सुर्खियों में भोरे बीपीएस कॉलेज।     |     गोपालगंज।पटेल नगर व विशंभरपुर में युद्ध स्तर पर हो रहा कटाव निरोधी कार्य, लगाये गये 300 मजदूर     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का किया वर्चुअल भूमि पूजन     |     कुतुब मीनार परिसर में होगी खुदाई-मूर्तियों की Iconography     |     राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आधारभूत ज्ञान दें विद्यार्थियों को     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले के 13 हजार 976 किसानों के खाते में 9.68 करोड़ रूपए किया अंतरण     |     नगरीय निकाय आरक्षण को लेकर बड़ी खबर: भोपाल में भी नए सिरे से होगा आरक्षण, बढ़ सकती है ओबीसी वार्डों की संख्या     |     छत्तीसगढ़ की जैव विविधता छत्तीसगढ़ का गौरव है : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल     |     मोतिहारी के सिकरहना नदी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूबे     |     मुजफ्फरपुर में प्रिंटिंग प्रेस कर्मी की गोली मारकर हत्‍या      |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374