Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे सचिन पायलट, राजस्थान में सियासी हलचल जारी

Whats App

नई दिल्ली। राजस्थान में सियासी उठापटक जारी है। प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार पर कांग्रेस अंतिरम अध्यक्ष सोनिया गांधी से गुरुवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मुलाकात के बाद आज भी मामला गर्म है। राजस्थान को लेकर दिल्ली में चल रही सियासी सरगर्मियों के बीच प्रदेश के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कांग्रेस नेता सोनिया गांधी से मुलाकात के लिए दिल्ली, 10 जनपथ पहुंच चुके हैं।

माना जा रहा है कि आज सुबह 12 बजे तक दोनों नेताओं की मुलाकात कांग्रेस की अंतिरम अध्यक्ष से हो सकती है। इस बैठक में राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम और यूपी विधानसभा चुनावों को लेकर बातचीत हो सकती है।

बता दें कि सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के दिल्ली दौरे और शीर्ष नेताओं से मुलाकात के साथ ही राजस्थान में लंबे समय से प्रस्तावित मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर एक बार फिर अटकलें तेज हो चुकी हैं। माना जा रहा है कि जल्द ही राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल पर भी निर्णय हो जाएगा। बता दें कि 17 दिसंबर को गहलोत सरकार का तीन साल का कार्यकाल पूरा हो जाएगा। इस तीन साल में मंत्रिमंडल विस्तार या फेरबदल नहीं होने के पीछे पार्टी की खींचतान का सबसे बड़ा कारण माना जा रहा है।

Whats App

सचिन पायलट खुलकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सामने मैदान में आ गए हैं। वहीं अब इस मामले को लेकर दिल्‍ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के दरबार में पहुंचे गहलोत ने कल कहा था कि राज्‍य कैबिनेट में किसी भी तरह के फेरबेदल का अंतिम फैसला पार्टी हाईकमान को ही लेना है और जो भी फैसला लिया जाएगा वह उन्हें मंजूर होगा।

बता दें कि राजस्‍थान कैबिनेट में काफी समय से गहलोत और पायलट में खींचतान चल रही है। पायलट लगातार कोशिश कर रहे हैं कि उनके करीबी और समर्थकों को कैबिनेट में शामिल किया जाए। इसके साथ ही ऐसा कहा भी जा रहा कि मुख्यमंत्री गहलोत ने अपनी कैबिनेट में अपने ही करीबियों को शामिल किया हुआ है।

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374