Breaking
शिव ठाकरे ने पलटा गेम निमृत को बनाया घर का नया कैप्टन, भड़कीं टीना दत्ता सुनक का विदेशी छात्रों को ब्रिटेन में प्रतिबंधित करने के विचार का हो सकता है विरोध सोने और चांदी का आयात घटा मप्र के देवास में स्कूल बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दो बच्चों को आई चोट आइसक्रीम खाने से गले की खराश होगी गायब कोरेक्स की डिलीवरी देते समय 3 तस्कर गिरफ्तार, 25 हजार रुपए की 170 शीशी कफ सिरप जब्त दुष्कर्म के आरोपी BJP प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम हो सकते हैं गिरफ्तार ? पुलिस ने प्रधान अर्जुन थापर, टिंकू, राजन, रजनीश और टोनी को बना मुख्य अभियुक्त 12 घंटे के लिए OPD सेवाएं बंद, MBBS छात्रों के लिए बनाई बॉन्ड पॉलिसी का विरोध डेढ़ साल से चल रहा था अफेयर, अलग जाति होने के कारण परिवार शादी को राजी नहीं थे

मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष से आर्थिक रूप से कमजोर मरीजों का इलाज करा रही बिहार सरकार

Whats App

पटनाः बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि गंभीर रोगों से पीड़ित गरीब मरीजों के बेहतर इलाज को लेकर राज्य सरकार मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष से आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है।

मंगल पांडेय ने शुक्रवार को कहा कि इस कोष से 14 असाध्य बीमारियों के इलाज के लिए राशि दी जाती है। प्रदेश के अलावा राज्य के बाहर इलाज कराने पर भी कोष से सहायता दी जाती है। इस योजना के तहत 20 हजार रुपए से लेकर पांच लाख रुपए तक की सहायता दी जाती है। इस साल अप्रैल से लेकर सिंतंबर माह तक 7342 मरीजों को आर्थिक सहायता प्रदान की गई। वित्तीय वर्ष 2020-21 में 11 हजार 180 मरीज लाभान्वित हुए।

मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष कमेटी की अनुशंसा पर सूची में शामिल 14 बीमारियों के अलावा भी अन्य दूसरी बीमारियों के इलाज के लिए सरकार की तरफ से एक लाख रुपए की सहायता राशि देने का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि सालाना ढाई लाख रुपए से कम आय तथा प्रदेश के सरकारी और सीजीएचएस से मान्यता प्राप्त अस्पताल में इलाज कराने वाले रोगी को ही सहायता दी जाती है।

Whats App

मंगल पांडेय ने कहा कि इन अस्पतालों से इलाज के लिए दूसरे प्रदेश में रेफर करने वाले रोगी को भी हृदय रोग, कैंसर, कुल्हा रिप्लेसमेंट, घुटना रिप्लेसमेंट, नस रोग, एसिड अटैक से जख्मी, बोन मेरौ ट्रांसप्लान्ट, एड्स, हेपेटाइटिस, कोकिलेर इम्प्लांट, ट्रांस जेंडर सर्जरी, नेत्र रोग समेत चौदह तरह की बीमारियों के इलाज के लिए सरकारी सहायता दी जाती है।

मंत्री ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में स्वास्थ्य विभाग में आर्थिक सहायता के लिए 13 हजार 155 आवेदन आए, जिसमें से 11 हजार 180 आवेदन स्वीकृत किए गए। इसके लिए सरकार की तरफ से 93 करोड़ 63 लाख दो हजार 500 रुपए की स्वीकृति प्रदान की गई। इस साल अप्रैल से लेकर सितंबर तक 8583 आवेदन आए, जिनमें से स्वीकृत 7342 मरीजों के इलाज मद में 65 करोड़ 30 लाख 38 हजार रुपए की मंजूरी प्रदान की गई।

शिव ठाकरे ने पलटा गेम निमृत को बनाया घर का नया कैप्टन, भड़कीं टीना दत्ता     |     सुनक का विदेशी छात्रों को ब्रिटेन में प्रतिबंधित करने के विचार का हो सकता है विरोध     |     सोने और चांदी का आयात घटा     |     मप्र के देवास में स्कूल बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दो बच्चों को आई चोट     |     आइसक्रीम खाने से गले की खराश होगी गायब     |     कोरेक्स की डिलीवरी देते समय 3 तस्कर गिरफ्तार, 25 हजार रुपए की 170 शीशी कफ सिरप जब्त     |     दुष्कर्म के आरोपी BJP प्रत्याशी ब्रह्मानंद नेताम हो सकते हैं गिरफ्तार ?     |     पुलिस ने प्रधान अर्जुन थापर, टिंकू, राजन, रजनीश और टोनी को बना मुख्य अभियुक्त     |     12 घंटे के लिए OPD सेवाएं बंद, MBBS छात्रों के लिए बनाई बॉन्ड पॉलिसी का विरोध     |     डेढ़ साल से चल रहा था अफेयर, अलग जाति होने के कारण परिवार शादी को राजी नहीं थे     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374