Breaking
मुख्यमंत्री चौहान से मिले नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक यात्र‍ियों के ल‍िए रेलवे ने बदले सफर के न‍ियम, आपकी सहूल‍ियत के ल‍िए क‍िया यह बदलाव जानें कब है निर्जला एकादशी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी और सोनिया गांधी ने दी श्रद्धांजलि कमलनाथ ने बताई कांग्रेस की कमी, कहा-हम इस बात का इंतजार करते रह जाते हैं पिता को नक्सलियों ने गांव से भगाया, बेटे ने देश में मान दिलाया POLICE TRANSFER BREAKING: 99 पुलिसकर्मियों के तबादले, देखें पूरी लिस्ट देवर्षि नारद मुनि की सीख अगर कोई व्यक्ति हमें सही सलाह दे रहा है तो उस सलाह को मान लेना चाहिए RBI सरकार को देगा 30,307 करोड़ का डिविडेंड गोवा बोर्ड आज जारी करेगा 12वीं का रिजल्ट

नई दिल्ली।लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत ने भेजे 50 हजार सैनिक।

Whats App

DESK:- लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पिछले 13 महीने से सीमा के मामले में भारत – चीन के बीच विवाद चल रहा है . दोनों देशों के बीच तनाव में कुछ कमी आई है . लेकिन चीनी सेना की गतिविधियों ने फिर से माहौल को बदल दिया है . ऐसे में भारत ने 50 हजार सैनिकों को सीमा पर भेजा है . चीन के खिलाफ भारत का यह फैसला ‘ ऐतिहासिक ‘ माना जा रहा है . ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार , पिछले कुछ महीनों में , भारत ने चीन से लगती अपनी सीमा के साथ तीन अलग अलग क्षेत्रों में सैनिकों और लड़ाकू जेट्स स्क्वाड्रनों को तैनात कर दिया है . कुल मिलाकर , भारत के अब लगभग 2,00,000 जवान बॉर्डर पर जमे हुए हैं मामले में दो जानकार लोगों ने बताया कि यह संख्या पिछले साल की तुलना में 40 फीसदी अधिक है . बॉर्डर पर भारत की पहले सैन्य उपस्थिति का उद्देश्य चीनी सेनाओं की चाल को रोकना था . अब नई तैनाती भारतीय कमांडरों को ऑफेंसिव डिफेंस के रूप में जानी जाने वाली रणनीति में जरूरी होने पर चीन पर हमला करने और उसके क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए अधिक विकल्प देगा . हालांकि , अभी यह साफ नहीं हुआ है कि बॉर्डर पर चीन के कितने सैनिक हैं , लेकिन भारत ने पाया है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ( चीनी सेना ) ने हाल ही में तिब्बत से अतिरिक्त बलों को शिनजियांग सैन्य कमांड में ट्रांसफर कर दिया है . इसी कमांड की जिम्मेदारी इस क्षेत्र में गश्त करने की है . दो लोगों ने बताया कि चीन तिब्बत में विवादित सीमा पर नए रन – वे , बम प्रूफ बंकर हाउस , फाइटर जेट और नए एयरफील्ड जोड़ रहा है . उन्हो कहा कि बीजिंग ने पिछले कुछ महीनों में लंबी दूरी की तोपें , टैंक , रॉकेट और दो इंजन वाले लड़ाकू विमान तैनात किए हैं . चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग f वेनबिन ने सेना की तैनाती के बारे में एक सवाल के जवाब में बीजिंग में नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया , चीन और भारत के बीच सीमा पर वर्तमान स्थिति स्थिर बनी हुई है . दोनों पक्ष सीमा मुद्दों को हल करने के लिए बातचीत कर दोनों पक्ष सीमा मुद्दों को हल करने के लिए बातचीत कर रहे हैं . उधर , भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह , आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे सहित वरिष्ठ सैन्य अधिकारी बॉर्डर पर सैन्य तैयारियों की समीक्षा करने के लिए लद्दाख में थे . जानकारी के अनुसार , भारतीय वायु सेना ने अरुणाचल प्रदेश में लंबी दूरी की मिसाइलों से लैस फ्रांस से मंगाए गए राफेल फाइटर जेट्स को सपोर्ट के लिए तैनात किया हुआ है . इसके साथ ही , चीन से तनाव के बीच भारतीय नौसेना भी पूरी तरह मदद के लिए आगे आई हुई है . वह ज्यादा युद्धपोतों को लंबे समय के लिए प्रमुख समुद्री मार्गों पर रख रही है ।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

मुख्यमंत्री चौहान से मिले नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक     |     यात्र‍ियों के ल‍िए रेलवे ने बदले सफर के न‍ियम, आपकी सहूल‍ियत के ल‍िए क‍िया यह बदलाव     |     जानें कब है निर्जला एकादशी     |     पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी और सोनिया गांधी ने दी श्रद्धांजलि     |     कमलनाथ ने बताई कांग्रेस की कमी, कहा-हम इस बात का इंतजार करते रह जाते हैं     |     पिता को नक्सलियों ने गांव से भगाया, बेटे ने देश में मान दिलाया     |     POLICE TRANSFER BREAKING: 99 पुलिसकर्मियों के तबादले, देखें पूरी लिस्ट     |     देवर्षि नारद मुनि की सीख अगर कोई व्यक्ति हमें सही सलाह दे रहा है तो उस सलाह को मान लेना चाहिए     |     RBI सरकार को देगा 30,307 करोड़ का डिविडेंड     |     गोवा बोर्ड आज जारी करेगा 12वीं का रिजल्ट     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374