Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

प्रसिद्ध इतिहासकार और पद्म विभूषण से सम्मानित बाबासाहेब पुरंदरे का निधन; पीएम मोदी ने जताया शोक

Whats App

पुणे। प्रसिद्ध इतिहासकार और लेखक बाबासाहेब पुरंदरे का पुणे के दीनानाथ मंगेशकर अस्पताल में आज सुबह 5 बजे निधन हो गया। वह 99 वर्ष के थे। पुरंदरे निमोनिया से ग्रसित थे और बीते शनिवार से अस्‍पताल में भर्ती थे। उनकी गंभीर हालत को देखते हुए उन्‍हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। लेकिन इसके बाद उनकी सेहत में कोई सुधार नहीं दिखा और हालत लगातार बिगड़ती ही चली गई। बाबा पुरंदरे के निधन पर देशभर में उनके चाहने वालों ने शोक व्यक्त किया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बाबासाहेब के अंतिम संस्कार की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई अन्य लोगों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।

पद्म विभूषण से सम्मानित

बलवंत मोरेश्वर पुरंदरे में जन्मे, बाबासाहेब ने छत्रपति शिवाजी पर कई किताबें लिखीं और अपना जीवन इतिहास और शोध के लिए समर्पित कर दिया। उन्हें 2019 में भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण और 2015 में महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उन्होंने नाटक ‘जांता राजा’ लिखा और निर्देशित किया, जिसे 200 से अधिक कलाकारों ने प्रस्तुत किया है। इस नाटक का पांच भाषाओं में अनुवाद किया गया है।

Whats App

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जताया दुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और ट्वीट करते हुए कहा- इस दर्द को वह शब्‍दों में व्‍यक्‍त नहीं कर सकते। पीएम मोदी ने यह भी कहा कि बाबासाहेब अपने व्यापक कार्यों के कारण हमारे बीच हमेशा जीवित रहेंगे। उनके निधन से इतिहास और संस्कृति की दुनिया में एक बड़ा शून्य हो गया है। उनकी किताबों के आने वाली पीढ़ियां छत्रपति शिवाजी महाराज से जुड़ेंगी। उनके कार्यो को हमेशा याद किया जाएगा।

jagran

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374