Breaking
राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक...तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग! भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन... सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगल... EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका! हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल

बिहार में खत्‍म करें शराबबंदी, CIABC की इस मांग पर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार क्‍या लेंगे फैसला

Whats App

पटना।  बिहार में जहरीली शराब (Spurious Liquor) से माैत पर सियासत गर्म है। इधर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) भी इस मामले को लेकर काफी गंभीर हैं। शराबबंदी पर 16 नवंबर को समीक्षा बैठक बुलाई है। इसमें बड़े फैसले लिए जाने की उम्‍मीद है। इन सबके बीच भारत में शराब बनाने वाली कंपनियों के परिसंघ (Confederation of Indian Alcoholic Beverage Companies) ने बिहार सरकार से आग्रह किया है कि बिहार में शराबबंदी समाप्‍त की जाए। इससे पूर्व भी सीआइएबीसी ने मुख्‍यमंत्री से शराबबंदी को लेकर पुनर्विचार का आग्रह किया था। जिम्‍मेदार और नियंत्रित तरीके से शराब का व्‍यापार शुरू करने की अनुमति मांगी थी।

जहरीली शराब से हो चुकी है कई लोगों की मौत 

बता दें कि पांच अप्रैल 2016 को बिहार सरकार ने राज्‍य में शराब निर्माण, बिक्री, भंडारण एवं परिवहन पर रोक लगा दी थी। इसको लेकर विधानसभा और विधान परिषद  से कानून भी पारित किया गया था। इसके बाद से राज्‍य में शराब पीना, बेचना, इनका भंंडारण और निर्माण प्रतिबंधित हाे गया। हालांकि, अवैध रूप से शराब का धंधा चलता रहा। पुलिस और उत्‍पाद विभाग की तमाम चौकसी के बावजूद तस्‍कर सक्रिय रहे। इस बीच जहरीली शराब से दर्जनों लोगों की मौत हाे गई। इसपर विपक्षी दलों समेत एनडीए की प्रमुख घटक दल भाजपा ने भी कई बार उंगली उठाई।

Whats App

जिम्‍मेदार और नियंत्रित तरीके से व्‍यापार शुरू करने का आग्रह 

इधर रविवार को सीआइएबीसी ने बिहार में एनडीए सरकार से शराबबंदी समाप्‍त करने पर फिर से विचार करने की अपील की है। साथ ही शराबबंदी के बिना महिलाओं की मदद के लिए सरकार की घोषणा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाने के सुझाव भी दिए हैं। रविवार को जारी बयान में CIABC के महानिदेशक विनोद गिरी ने कहा है कि शराबबंदी से बिहार का विकास और प्रगति प्रभावित हुआ है। प्रतिवर्ष करीब 10 हजार करोड़ रुपये का राजस्‍व का नुकसान हो रहा है। एक तरह से शराबबंदी नीति की भारी कीमत राज्‍य को चुकानी पड़ रही है। राज्‍य में अवैध और नकली शराब की बिक्री हो रही है। गिरि ने कहा है कि 2016 से करीब एक लाख करोड़ लीटर शराब जब्‍त की गई है। यह दर करीब 10 फीसद है। इसका मतलब है कि 10 करोड़ की अवैध शराब बिहार लाई जा रही है। पु‍लिस क्राइम कंट्राेल की जगह शराब जब्‍ती में लगी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट     |     मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक…तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग!     |     भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी     |     भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का फूंका पुतला     |     सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगलवार को होगा तय     |     EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका!     |     हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत     |     MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी     |     इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात     |     रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374