New Year
Breaking
गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे. मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका  राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म 'द क्रू' में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार...

बिहार में खत्‍म करें शराबबंदी, CIABC की इस मांग पर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार क्‍या लेंगे फैसला

Whats App

पटना।  बिहार में जहरीली शराब (Spurious Liquor) से माैत पर सियासत गर्म है। इधर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) भी इस मामले को लेकर काफी गंभीर हैं। शराबबंदी पर 16 नवंबर को समीक्षा बैठक बुलाई है। इसमें बड़े फैसले लिए जाने की उम्‍मीद है। इन सबके बीच भारत में शराब बनाने वाली कंपनियों के परिसंघ (Confederation of Indian Alcoholic Beverage Companies) ने बिहार सरकार से आग्रह किया है कि बिहार में शराबबंदी समाप्‍त की जाए। इससे पूर्व भी सीआइएबीसी ने मुख्‍यमंत्री से शराबबंदी को लेकर पुनर्विचार का आग्रह किया था। जिम्‍मेदार और नियंत्रित तरीके से शराब का व्‍यापार शुरू करने की अनुमति मांगी थी।

जहरीली शराब से हो चुकी है कई लोगों की मौत 

बता दें कि पांच अप्रैल 2016 को बिहार सरकार ने राज्‍य में शराब निर्माण, बिक्री, भंडारण एवं परिवहन पर रोक लगा दी थी। इसको लेकर विधानसभा और विधान परिषद  से कानून भी पारित किया गया था। इसके बाद से राज्‍य में शराब पीना, बेचना, इनका भंंडारण और निर्माण प्रतिबंधित हाे गया। हालांकि, अवैध रूप से शराब का धंधा चलता रहा। पुलिस और उत्‍पाद विभाग की तमाम चौकसी के बावजूद तस्‍कर सक्रिय रहे। इस बीच जहरीली शराब से दर्जनों लोगों की मौत हाे गई। इसपर विपक्षी दलों समेत एनडीए की प्रमुख घटक दल भाजपा ने भी कई बार उंगली उठाई।

Whats App

जिम्‍मेदार और नियंत्रित तरीके से व्‍यापार शुरू करने का आग्रह 

इधर रविवार को सीआइएबीसी ने बिहार में एनडीए सरकार से शराबबंदी समाप्‍त करने पर फिर से विचार करने की अपील की है। साथ ही शराबबंदी के बिना महिलाओं की मदद के लिए सरकार की घोषणा सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाने के सुझाव भी दिए हैं। रविवार को जारी बयान में CIABC के महानिदेशक विनोद गिरी ने कहा है कि शराबबंदी से बिहार का विकास और प्रगति प्रभावित हुआ है। प्रतिवर्ष करीब 10 हजार करोड़ रुपये का राजस्‍व का नुकसान हो रहा है। एक तरह से शराबबंदी नीति की भारी कीमत राज्‍य को चुकानी पड़ रही है। राज्‍य में अवैध और नकली शराब की बिक्री हो रही है। गिरि ने कहा है कि 2016 से करीब एक लाख करोड़ लीटर शराब जब्‍त की गई है। यह दर करीब 10 फीसद है। इसका मतलब है कि 10 करोड़ की अवैध शराब बिहार लाई जा रही है। पु‍लिस क्राइम कंट्राेल की जगह शराब जब्‍ती में लगी है।

मुख्यमंत्री चौहान ने सामाजिक संस्था के प्रतिनिधियों के साथ पौध-रोपण किया     |     जल्द चुनाव के लिए तैयार हैं तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष     |     शिवाजी मार्केट की दुकानें शिफ्ट करना फिर अटका      |     राष्ट्रपति का अभिभाषण, चुनावी भाषण और सरकार का प्रोपेगेंडा था : शशि थरूर     |     मौसम में होने वाला है बड़ा बदलाव     |     आंध्र प्रदेश के अमारा राजा प्लांट में आग लगी     |     केंद्र सरकार ने बजट सत्र से पहले बुलाई सर्वदलीय बैठक     |     दिलजीत दोसांझ आएगे नजर फिल्म ‘द क्रू’ में, तब्बू, करीना और कृति सनोन के साथ     |     मुंबई एयरपोर्ट पर 28.10 करोड़ की कोकीन के साथ तस्कर गिरफ्तार…     |     गोपालगंज।अन्तर जिला गिरोह के चार सरगना गिरफ्तार मोतिहारी के रहने वाले हैं लुटेरे.     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374