Breaking
देश के छात्र-छात्राएँ पूरी दुनिया में उच्च पदों पर : मंत्री सिंह ये 3 दुख घर की सुंदरता को छीन लेते हैं आरएसजीएल के कारोबार में हुई बढोत्तरी-अग्रवाल 2 साल पहले की थी लव मैरिज; पति की गुहार- पत्नी से बहुत प्यार करता हूं, ढूंढ दीजिए मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी कुशलगढ़ के 2 मन्दिरों में होगा निर्माण कार्य बच्चों की जन्मदिन पार्टी आयोजन करने का व्यापार कैसे शुरू करें | How To Start Kids Birthday Party Pla... 6 लाख 75 हजार की थी सीमेंट, पुलिस देख आरोपी मौके से फरार सीएम योगी ने तीन शिप्ट में  गुणवत्ता के साथ कार्य पर दिया जोर, कहा नवरात्रि मेला में श्रद्धालुओं को ... महिला अधिकारी को जान से मारने की धमकी देने वाला जीएसटी निरीक्षक गिरफ्तार यूपी में सुरक्षित नहीं बेटियां, जौनपुर और बनारस में मिली एक-एक लाश, चंदौली में मिली अर्धनग्‍न लड़की

पटना।बिहार के छह जिलों में खत्म होगा एएसपी का पद ।

Whats App

पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार के छह जिलों में एएसपी का पद अब खत्‍म हो जाएगा। इसके साथ ही इन इलाकों में सुरक्षा पर सरकार का खर्च भी अब घट जाएगा। ऐसा जहानाबाद, नालंदा, मुजफ्फरपुर, वैशाली, अरवल और पूर्वी चंपारण के नक्सल प्रभाव से मुक्त होने के बाद होने जा रहा है। इन जिलों में केंद्रीय सुरक्षा का खर्च कम होगा। यहां केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सशस्त्र सुरक्षा बल (एसएसबी) व कोबरा बटालियन की संख्या भी कम हो जाएगी। इसके साथ ही इन आधा दर्जन जिलों में तैनात पारामिलिट्री के एएसपी (आपरेशन) के पद को भी समाप्त कर दिया जाएगा। हालांकि झारखंड से सटे औरंगाबाद जिले में सुरक्षा को लेकर सरकार की चिंता और बढ़ गई है।

अब केवल इन जिलों को केंद्र की योजना का लाभ

गृह मंत्रालय की नई रिपोर्ट के अनुसार अब सिर्फ औरंगाबाद, बांका, गया, जमुई, कैमूर, लखीसराय, मुंगेर, नवादा, रोहतास और पश्चिमी चंपारण ही नक्सलवाद से प्रभावित रह गए हैं। ऐसे में सिर्फ इन जिलों को ही गृह मंत्रालय की सुरक्षा संबंधी व्यय (एसआरई) स्कीम की योजना का लाभ मिल सकेगा।

Whats App

सीआरपीएफ और एसएसबी की है तैनाती

बिहार के नक्सल प्रभावित जिलों में सीआरपीएफ, एसएसबी और कोबरा की बटालियन की ओर से आपरेशन किया जाता है। राज्य के अधिसंख्य नक्सल प्रभावित जिलों में सीआरपीएफ तैनात है, जबकि गया, जमुई, मुजफ्फरपुर आदि जिलों में एसएसबी के जवान भी एनटी नक्सल आपरेशन का काम कर रहे हैं।

गया व जमुई में सबसे अधिक फोर्स

गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, गया, जमुई और लखीसराय राज्य के अति नक्सल प्रभावित जिले हैं। गया में सबसे अधिक सीआरपीएफ, कोबरा व एसएसबी की बटालियन तैनात है। जमुई में छह टीमें केवल सीआरपीएफ की आपरेशन पर रहती हैं। इस बार औरंगाबाद को ‘डिस्ट्रिक्ट आफ कन्सर्न’ की नई श्रेणी में रखा गया गया है। ऐसे में यहां भी पारामिलिट्री फोर्स की संख्या बढ़ाई जा सकती है।

देश के छात्र-छात्राएँ पूरी दुनिया में उच्च पदों पर : मंत्री सिंह     |     ये 3 दुख घर की सुंदरता को छीन लेते हैं     |     आरएसजीएल के कारोबार में हुई बढोत्तरी-अग्रवाल     |     2 साल पहले की थी लव मैरिज; पति की गुहार- पत्नी से बहुत प्यार करता हूं, ढूंढ दीजिए     |     मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी कुशलगढ़ के 2 मन्दिरों में होगा निर्माण कार्य     |     बच्चों की जन्मदिन पार्टी आयोजन करने का व्यापार कैसे शुरू करें | How To Start Kids Birthday Party Planning Business In Hindi     |     6 लाख 75 हजार की थी सीमेंट, पुलिस देख आरोपी मौके से फरार     |     सीएम योगी ने तीन शिप्ट में  गुणवत्ता के साथ कार्य पर दिया जोर, कहा नवरात्रि मेला में श्रद्धालुओं को न हो दिक्कत     |     महिला अधिकारी को जान से मारने की धमकी देने वाला जीएसटी निरीक्षक गिरफ्तार     |     यूपी में सुरक्षित नहीं बेटियां, जौनपुर और बनारस में मिली एक-एक लाश, चंदौली में मिली अर्धनग्‍न लड़की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374