Breaking
गोपालगंज।टीकाकरण से वंचित लाभार्थियों की पहचान के लिए जिले में चलेगा महा-सर्वे, मोबाइल एप में दर्ज ह... गोपालगंज।अब थावे मंदिर में माता के दर्शन के साथ ही लीजिए “ जीवन रक्षा का डोज”, बनाया गया टीकाकरण कें... गोपालगंज। मुखिया के पहली ही पारी में अनु मिश्रा ने रिकॉर्ड मतों से की जीत दर्ज,तो पूर्व के दिग्गजों ... गोपालगंज।बैकुंठपुर का युवक भोजपुरी फिल्मों में मचा रहा धमाल। गोपालगंज। निर्जला पर्व के बीच 201 मतदान केंद्रों पर शाम पांच बजे तक पड़े.. मतदान केंद्र पर वोट डालने जा रहे मुखिया प्रत्याशी सहित उनके परिवार को बीच रास्ते बेरहमी से पीटा। माँ ने जिस बेटे के लिए रखा था जिउतिया व्रत उसे अपराधियों ने उतरा मौत के घाट.(सुनामी एक्सप्रेस) पटना। रामाश्रय सिंह हत्याकांड के एक आरोपित की गिरफ्तारी पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक। गोपालगंज ।पंचायत चुनाव को लेकर भोरे के 6 लोगों पर भेजा गया सीसीए लगाने का प्रस्ताव। गोपालगंज।सामाजिक कार्यों जुड़े से आम नागरिकों को भी मिलेगा प्रशस्ति पत्र।

पटना।बिहार के छह जिलों में खत्म होगा एएसपी का पद ।

पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार के छह जिलों में एएसपी का पद अब खत्‍म हो जाएगा। इसके साथ ही इन इलाकों में सुरक्षा पर सरकार का खर्च भी अब घट जाएगा। ऐसा जहानाबाद, नालंदा, मुजफ्फरपुर, वैशाली, अरवल और पूर्वी चंपारण के नक्सल प्रभाव से मुक्त होने के बाद होने जा रहा है। इन जिलों में केंद्रीय सुरक्षा का खर्च कम होगा। यहां केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सशस्त्र सुरक्षा बल (एसएसबी) व कोबरा बटालियन की संख्या भी कम हो जाएगी। इसके साथ ही इन आधा दर्जन जिलों में तैनात पारामिलिट्री के एएसपी (आपरेशन) के पद को भी समाप्त कर दिया जाएगा। हालांकि झारखंड से सटे औरंगाबाद जिले में सुरक्षा को लेकर सरकार की चिंता और बढ़ गई है।

अब केवल इन जिलों को केंद्र की योजना का लाभ

गृह मंत्रालय की नई रिपोर्ट के अनुसार अब सिर्फ औरंगाबाद, बांका, गया, जमुई, कैमूर, लखीसराय, मुंगेर, नवादा, रोहतास और पश्चिमी चंपारण ही नक्सलवाद से प्रभावित रह गए हैं। ऐसे में सिर्फ इन जिलों को ही गृह मंत्रालय की सुरक्षा संबंधी व्यय (एसआरई) स्कीम की योजना का लाभ मिल सकेगा।

सीआरपीएफ और एसएसबी की है तैनाती

बिहार के नक्सल प्रभावित जिलों में सीआरपीएफ, एसएसबी और कोबरा की बटालियन की ओर से आपरेशन किया जाता है। राज्य के अधिसंख्य नक्सल प्रभावित जिलों में सीआरपीएफ तैनात है, जबकि गया, जमुई, मुजफ्फरपुर आदि जिलों में एसएसबी के जवान भी एनटी नक्सल आपरेशन का काम कर रहे हैं।

गया व जमुई में सबसे अधिक फोर्स

गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, गया, जमुई और लखीसराय राज्य के अति नक्सल प्रभावित जिले हैं। गया में सबसे अधिक सीआरपीएफ, कोबरा व एसएसबी की बटालियन तैनात है। जमुई में छह टीमें केवल सीआरपीएफ की आपरेशन पर रहती हैं। इस बार औरंगाबाद को ‘डिस्ट्रिक्ट आफ कन्सर्न’ की नई श्रेणी में रखा गया गया है। ऐसे में यहां भी पारामिलिट्री फोर्स की संख्या बढ़ाई जा सकती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

गोपालगंज।टीकाकरण से वंचित लाभार्थियों की पहचान के लिए जिले में चलेगा महा-सर्वे, मोबाइल एप में दर्ज होगी जानकारी।     |     गोपालगंज।अब थावे मंदिर में माता के दर्शन के साथ ही लीजिए “ जीवन रक्षा का डोज”, बनाया गया टीकाकरण केंद्र     |     गोपालगंज। मुखिया के पहली ही पारी में अनु मिश्रा ने रिकॉर्ड मतों से की जीत दर्ज,तो पूर्व के दिग्गजों का भी जाने हाल।     |     गोपालगंज।बैकुंठपुर का युवक भोजपुरी फिल्मों में मचा रहा धमाल।     |     गोपालगंज। निर्जला पर्व के बीच 201 मतदान केंद्रों पर शाम पांच बजे तक पड़े..     |     मतदान केंद्र पर वोट डालने जा रहे मुखिया प्रत्याशी सहित उनके परिवार को बीच रास्ते बेरहमी से पीटा।     |     माँ ने जिस बेटे के लिए रखा था जिउतिया व्रत उसे अपराधियों ने उतरा मौत के घाट.(सुनामी एक्सप्रेस)     |     पटना। रामाश्रय सिंह हत्याकांड के एक आरोपित की गिरफ्तारी पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक।     |     गोपालगंज ।पंचायत चुनाव को लेकर भोरे के 6 लोगों पर भेजा गया सीसीए लगाने का प्रस्ताव।     |     गोपालगंज।सामाजिक कार्यों जुड़े से आम नागरिकों को भी मिलेगा प्रशस्ति पत्र।     |    

विज्ञापन के लिए हमसे संपर्क करें - +919431277374