Breaking
राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक...तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग! भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन... सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगल... EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका! हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल

जनजातीय गौरव दिवस: आदिवासी धर्मांतरण पर करारा प्रहार साबित होगा शिवराज का ये प्रयोग

Whats App

जनजाति के जननायकों को गौरव प्रदान करके मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने वो काम किया है, जिसकी विवेचना और अर्थपूर्ण मूल्यांकन निश्चित समय में करना संभव नहीं हैं। ये एक ऐसा कदम है, जिसके परिणाम आने वाले दशक ही नहीं बल्कि सदियों को प्रभावित करेंगे। अगर हम कहें, कि हिंदुस्तान की सांस्कृतिक विरासत को सहेजकर रखने में प्रयोगधर्मी शिवराज सिंह की ये कवायद मील का पत्थर साबित हो सकती है, तो इसमें कोई बेमानी नहीं होगी। इन्हीं तमाम संभावनाओं के बीच जो एक प्रमुख बिंदू ऐसा भी है, जो अपने आपमें एक क्रांतिकारी बदलाव का द्योतक होने के संकेत दे रहा है, और वह बदलाव जुड़ा है, आदिवासी वर्ग के बीच तेजी से घुसपैठ कर रही ईसाई मिशनरीज के प्रभाव को कम करने के साथ।

इस बात को नकारा नहीं जा सकता, कि बीते एक समय में मध्यप्रदेश के साथ देशभर में जनजातीय वर्ग हिंदू धर्मांतरण करने वाले कई संगठनों के निशाने पर रहा है, वो लोग कभी इनकी गरीबी और पिछड़ेपन का फायदा उठाते हैं, तो कभी इस वर्ग को ये एहसास दिलाया जाता है, कि हिंदू धर्म उन्हें उचित सम्मान नहीं दे रहा। पिछले एक अर्से में तो आदिवासियों को हिंदू धर्म से अलग बताकर उनके धर्मांतरण की कवायदें की जा रही है। ऐसे में मौजूदा सत्तासीनों के सामने ये चुनौती थी, कि किस तरह वो जनजाति वर्ग को समाज से बांधकर रख सकें और उसे ये संदेश देने में कामयाब हो जाएं, कि ये समाज उन्हें उचित सम्मान दे रहा है।

हालांकि इससे पहले कई संगठन और सरकारें इस तरह की कवायदें कर चुकी थीं, लेकिन फिर भी वो उम्मीद के मुताबिक सफल नहीं हो सकी, मानो कहीं न कहीं हर कोई ये संदेश देने में नाकाम हुआ था, कि समाज जनजाति वर्ग का शुभचिंतक है, लेकिन शिवराज सरकार की इस कवायद ने संबंधित वर्ग के भीतर कुछ ही समय में वो विश्वास जगा दिया है, जिसकी जरूरत इस वक्त हमारे समाज को सबसे अधिक थी। तमाम चिंतकों को ये उम्मीद है, कि आने वाले समय में ये विश्वास और भी गाढ़ा होगा और लगातार अपनी पुरातन संस्कृति और संप्रुभता से कटता जा रहा जनजातीय वर्ग इस खास सम्मान को पाकर खुद को इनके और करीब पाएगा, इतना करीब कि फिर कोई और इन्हें बहकाने में सफल नहीं हो सकेगा।

Whats App

कुल मिलाकर अगर हम मानें, तो जनजाति वर्ग को सम्मान देकर शिवराज सरकार ने संबंधित तबके के भीतर एक खास तरह का विश्वास कायम किया है, यह विश्वास समाज की मुख्यधारा से उनके जुड़ाव का संकेत देने के साथ उनके सम्मान की भी कहानी लिख रहा है, यह वही सम्मान है, कि तलाश उन्हें सदियों से थी और इसकी कमी के कारण ही एक बार के लिए वह समाज की मुख्यधारा से खुद को दूर मान बैठे थे और दूसरे लोगों के साजिश का हिस्सा बनकर इससे दूर चले जा रहे थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

राजधानी में बड़ी लूट की वारदात से हडकंप, कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख की लूट     |     मूर्तियां और कलश से लेकर शिवलिंग तक…तीन दिन का सर्वे पूरा वजुखाने में 12 फीट 8 इंच का शिवलिंग!     |     भाजपा में चला मंथन का दौर, अलग निगम का अलग घोषणापत्र होगा जारी     |     भारत माता की तस्वीर को जमीन पर रखकर अपमानित करने पर भड़के NSUI कार्यकर्ता, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का फूंका पुतला     |     सुप्रीम कोर्ट में शिवराज सरकार प्रस्तुत कर चुकी है, पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की वार्डवार रिपोर्ट, मंगलवार को होगा तय     |     EPF अकाउंट से Withdrawal पर हो सकता है 15 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान, रिटायरमेंट पर लगेगा झटका!     |     हार्ट अटैक, पर्वतीय बीमारी से अब तक 39 तीर्थयात्रियों की मौत     |     MP में अब नीलगाय का शिकार: पुलिस ने 2 शिकारियों को किया गिरफ्तार, बाकी आरोपियों की तलाश जारी     |     इमरान खान को गिरफ्तार किया तो पाकिस्तान में होंगे श्रीलंका जैसे हालात     |     रेलवे ने अचानक इन 20 ट्रेनों को क‍िया रद्द, ऐसे यात्र‍ियों को होगी मुश्‍क‍िल     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374