Breaking
कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार यूएनजीए अध्यक्ष ने फिलिस्तीनियों के लिए भरोसा जताने के महत्व पर जोर दिया

जाति प्रमाणपत्र मामले में मुंबई पुलिस ने दर्ज किया समीर वानखेडे़ का बयान

Whats App

मुंबई। मुंबई पुलिस ने नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau, NCB)  के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) पर फर्जी जाति प्रमाणपत्र बनवाने के आरोपों के सिलसिले में उनका बयान दर्ज किया है। एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि सहायक पुलिस आयुक्त ने हाल में वानखेड़े का बयान दर्ज किया था और वह आगे की जांच कर रहे हैं।

अधिकारी ने बताया कि वानखेड़े ने सहायक पुलिस आयुक्त के समक्ष संबंधित दस्तावेज जमा किए और अपना विस्तृत बयान दर्ज कराया। गौरतलब है कि राकांपा नेता और महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक ने आरोप लगाया है कि वानखेड़े के पिता ने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया था। लेकिन वानखेड़े को अनुसूचित जाति के कोटे से सरकारी नौकरी मिली, जो मुस्लिम व्यक्ति को नहीं मिली सकती है।

वानखेड़े और उनके पिता ने इन आरोपों का खंडन किया है। समीर वानखेड़े के पिता ध्यानदेव वानखेड़े ने महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के खिलाफ उनके, उनके परिवार और उनकी जाति को लेकर कथित तौर पर ‘झूठी एवं अपमानजनक’ टिप्पणी करने के मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम के तहत मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है।

Whats App

उनका आरोप है कि राकांपा के नेता मलिक ने उनके और उनके परिवार के खिलाफ और उनकी जाति को लेकर विभिन्न मीडिया मंचों पर ‘झूठी एवं अपमानजनक’ टिप्पणी की है। उन्होंने शिकायत में कहा, हम ‘महार’ समुदाय से नाता रखते हैं जो कि एक अनुसूचित जाति है। उन्होंने अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम के प्रविधानों और भारतीय दंड संहिता की धारा 503, 508, 499 के तहत मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है।

इसके अलावा मलिक पर यह भी आरोप है कि वे अपनी व्यक्तिगत रंजिश के कारण उनकी बेटी यास्मीन की गतिविधियों पर आनलाइन नजर रख रहे हैं और उसके सोशल मीडिया अकाउंट जैसे कि इंस्टाग्राम, फेसबुक आदि से उसकी निजी तस्वीरें लेकर गैरकानूनी रूप से उन्हें प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया में प्रसारित कर रहे हैं।

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |     आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर     |     मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह     |     इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन     |     Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग     |     अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला     |     सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे     |     अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल     |     एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार     |     यूएनजीए अध्यक्ष ने फिलिस्तीनियों के लिए भरोसा जताने के महत्व पर जोर दिया     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374