Breaking
भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर  कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार

75वां जन्मदिन मना रहे हैं दिग्गज नेता कमलनाथ, CM शिवराज ने दी बधाई, ऐसा रहा राजनीतिक सफर

Whats App

भोपाल: मध्यप्रदेश के दिग्गज नेता, पूर्व सीएम कमलनाथ का आज 75वां जन्मदिन है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उनके जन्मदिन पर बधाई दी है। इसके अलावा कांग्रेस नेताओं ने पीसीसी चीफ को शुभकामनाएं दी। साथ ही सोशल मीडिया पर उन पर बनी शॉर्ट फिल्म भी शेयर की है। मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने उन्हें तलवार भेंट की। उनका जन्मदिन मनाने के लिए पूर्व मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, अशोक सिंह, प्रवीण कक्कड़, राजीव सिंह, एनपी प्रजापति, जेपी धनोपिया, प्रकाश जैन, रवि जोशी जैसे सभी नेता उनके साथ मौजूद रहे।

Whats App

यही से उनके राजनीतिक सफर की शुरुआत हुई। समय के साथ दोनों की दोस्ती गहरी होती ग। हालांकि कमलनाथ के कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज में पढ़ने चले जाने के कारण दोनों दोस्त दूर हो गए लेकिन उनकी दोस्ती में कोई कमी नहीं आई। सियासत में भी उनकी दोस्ती की मिसाल दी जाने लगी और वे हरदम एक दूसरे के साथ दिखाई देने लगे। चर्चित रही क्योंकि दोनों हरदम साथ रहते थे।

PunjabKesari

बात यदि कमलनाथ के राजनीतिक सफर की करें तो वे 1979 में पहली बार छिंदवाड़ा से सांसद चुने गए। इसके बाद 1984, 1990, 1991, 1998, 1999, 2004, 2009 और 2014 में वे लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए। 2018 में 15 साल बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाई। हालांकि ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में चले जाने के कारण उनको कुर्सी गंवानी पड़ी। इसके बाद भी वे कांग्रेस के बड़े चेहरे के रुप मे जाने जाते हैं।

इसके अलावा केंद्र में भी उन्होंने बड़ी जिम्मेवारियां निभाई। वे 1991 से 1994 तक केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री, 1995 से 1996 केंद्रीय कपड़ा मंत्री, 2004 से 2008 तक केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, 2009 से 2011 तक केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री, 2012 से 2014 तक शहरी विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री रहे। उन्होंने  भारत की शताब्दी एवं व्यापार, निवेश, उद्योग नामक पुस्तक  भी लिखी है।

भारत में टारगेंट किलिंग का काम विदेशों में बैठे आंतकियों के इशारे पर      |     कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की     |     आदिवासियों के विरोध का फायदा BJP को, कांग्रेस की सावित्री का नाम सुनकर इमोशनल हो रहे वोटर     |     मल्लिकार्जुन खड़गे ने जिस तरह PM के लिए अपशब्द बोले, कांग्रेस नेतृत्व के जमात सोच- राजनाथ सिंह     |     इस तरह करें चुकंदर का इस्तेमाल,चमका सकता है स्किन     |     Hyundai Ioniq 5 (Electric Car) का इंतजार हुआ खत्म, 20 दिसंबर से शुरू होगी बुकिंग     |     अमित शाह का AAP पर जोरदार हमला     |     सिविल अस्पताल में चल रहा इलाज, CCS यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएट; सीने पर घाव, कीड़े पड़े थे     |     अखिलेश को छोटे नेताजी के नाम से जाना जाए : शिवपाल     |     एम्स जैसे साइबर हमले से बचाव के लिए एसजीपीजीआईएमएस तैयार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374