Breaking

लखनऊ में प्रियंका गांधी वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह सहित चार के खिलाफ केस दर्ज

Whats App

लखनऊ। कांग्रेस को उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापस लाने के बड़े जतन में जुटीं पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को तो उनकी टीम के लोग ही पीछे करने में लगे हैं। लखनऊ में गुरुवार को प्रियंका गांधी वाड्रा के निजी सचिव सहित पार्टी के चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

लखनऊ के हुसैनगंज थाना में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह के साथ उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष व प्रशासन प्रभारी योगेश दीक्षित और महासचिव शिव पांडेय के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। लखनऊ के हुसैनगंज थाना में इन सभी के खिलाफ मारपीट और धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया गया है। लखनऊ के प्रशांत कुमार सिंह ने इन सभी के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह का विवादों से पुराना नाता रहा है। इससे पहले बीते वर्ष मई में कोरोना संक्रमण काल में अन्य प्रदेश से लोगों को लाने के लिए कांग्रेस की ओर से दी गई एक हजार बसों की सूची में फर्जीवाड़ा होने के बाद संदीप सिंह के साथ ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में केस दर्ज कराया गया था। प्रियंका के निजी सचिव संदीप सिंह, उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में हजरतगंज कोतवाली में परिवहन अधिकारी आरपी त्रिवेदी की शिकायत पर मुकदमा दर्ज किया गया था। यह मुकदमा भारतीय दंड विधान की धारा 420, 467 और 468 के तहत दर्ज किया गया।

Whats App

लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में दर्ज कराई गई रिपोर्ट में आरोप था कि कांग्रेस ने प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य तक ले जाने के लिए दी गई सौ बसों की लिस्ट में शामिल कुछ वाहनों के नंबर दो पहिया, तिपहिया वाहनों तथा कारों के तौर पर दर्ज थे। जिन हजार बसों की सूची सौंपी गयी थी, उनमें 79 पूरी तरह से अनफिट थीं। 279 बसों का फिटनेस और बीमा संबंधी प्रपत्र एक्सपायर हो चुका था। सौ बसें ऐसी हैं, जिनके नम्बर एम्बुलेंस, तिपहिया वाहन, आटो रिक्शा, ट्रक और अन्य वाहनों के नाम पर दर्ज थे। 70 बसों का कोई रिकॉर्ड नहीं था

संदीप सिंह अगस्त 2019 में सोनभद्र में एक चैनल के रिपोर्टर के साथ मारपीट के मामले में भी चर्चा में थे। सोनभद्र नरसंहार के बाद प्रियंका गांधी घोरावन कोतवाली के उम्भा गांव गई थीं। इसी दौरान पत्रकार के प्रियंका से सवाल करने पर संदीप सिंह ने उसके साथ हाथापाई कर दी थी।

प्रियंका गांधी वाड्रा के बुधवार को चित्रकूट में महिला संवाद के दौरान ”उठो द्रौपदी शस्त्र उठा लो” पंक्तियों का प्रयोग करने पर इसके रचनाकार ने आपत्ति जताई है। प्रियंका गांधी के इसका इस्तेमाल अपनी राजनीतिक रैली में करने के बाद इन पंक्तियों को लिखने वाले कवि ने इस पर आपत्ति व्यक्त की है। एटा निवासी कवि पुष्यमित्र उपाध्याय ने कहा है कि उनकी यह कविता एक गंभीर सामाजिक विषय को उठाने को लेकर रची गई थी। इसका राजनीतिक उपयोग इसकी भावनाओं को सीमित करने वाला है। उन्होंने कहा कि यदि प्रियंका गांधी ने उनकी पंक्तियों का राजनीतिक उद्देश्य के लिए उपयोग न किया होता तो बेहतर होता।

क्लर्क के 7000 पदों पर भर्ती के लिए कल से ibps.in पर करें आवेदन     |     72 घंटे से लाश की पहचान तलाश रही पुलिस     |     धौलपुर अस्पताल के ट्रॉमा वार्ड में कराया भर्ती, दोनों पक्षों ने दर्ज कराया केस     |     15 साल बाद इंग्लैंड में सीरीज जीतने उतरेगा भारत     |     दुष्कर्म मामले में रोनाल्डो के वकील का पलटवार     |     गनोड़ा से भुवासा तक पैदल जा रहा था बुजुर्ग, मौके पर ही दम तोड़ा     |     दिल्ली में आज से प्रॉपर्टी खरीदना और बेचना हुआ महंगा     |     आर्यन खान ने अदालत से अपना पासपोर्ट वापस किए जाने की मांग की     |     मुख्यमंत्री सहित 16 विधायकों को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंची शिवसेना     |     मानसून के साथ मुश्किलों की शुरुआत गोपेश्वर में सड़क पर गिरा बोल्डर     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374