Breaking
कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द जर्मनी की सरकार ने कंपनियों और व्यक्तिगत करदाताओं के लिए कई छूटों की घोषणा की

आचार्य पं. नंदकुमार ने कहा बचपन में ही दिया जा सकता है संस्कार

Whats App

रायपुर। कोटा क्षेत्र में एक निवास स्थान पर आयोजित श्रीमद्भागवत महापुराण सप्ताह ज्ञान यज्ञ के द्वितीय दिवस पर व्यासपीठ से आचार्य पं. नंदकुमार चौबे ने कहा कि संस्कार बचपन में ही दिया जा सकता है, क्योंकि गीली मिट्टी को आकार दिया जा सकता है, जबकि मिट्टी के पके हुए बर्तन में संशोधन की संभावना नहीं होती। उसी प्रकार एक उम्र के बाद किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को बदलने में कठिनाई होती है।

बचपन से ही नकल के स्वाभाविक गुण के कारण बच्चे अपने माता-पिता का अनुसरण करने लगते हैं और यहीं से उनके सीखने का क्रम शुरू होता है। भक्त ध्रुव की कथा सुनाते हुए आचार्य ने कहा कि जिस प्रकार रानी सुनीति के धर्म परायण होने से ध्रुव को इसका संस्कार प्राप्त हुआ, उसी प्रकार आज के माता-पिता भी अपने बच्चों की अभिवृत्ति में परिवर्तन करने के लिए स्वयं में परिवर्तन लाने का प्रयास करें।

राजा का धर्म होता है कि वह प्रजा का पुत्रवत पालन करे

Whats App

आचार्य चौबे ने राज धर्म के वृहद व्याख्या करते हुए कहा कि भक्त ध्रुव के वंश में बेन नामक राजा हुआ, जो अपने प्रजा के ऊपर अत्याचार करता था। राजा का धर्म होता है कि वे प्रजा का पुत्रवत पालन करें और अपने और प्रजा के कर्तव्य के मध्य संतुलन बनाए रखें, जिसमें राजा व्हेन पूर्ण रूप से असमर्थ रहे, बल्कि प्रजा का शोषण करने लगे। जब राजा बेन द्वारा सभी जनता दुखी हो गई, तब ब्राह्मणों ने श्राप देकर बेन का अंत कर दिया। फिर भगवान नारायण ने पृथु रूप में अवतार लेकर गाय बनी हुई पृथ्वी का दोहन कर अपने प्रजा का सही ढंग से पालन पोषण करते हुए राजधर्म का पालन किया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खत्म हुआ NPS, पुरानी पेंशन लागू करने के आदेश जारी     |     पेटीएम ने 950 करोड़ के निवेश के लिए बनाई बीमा फर्म     |     इस सप्ताह शेयर बाजार में इन फैक्टर्स का दिख सकता है असर, निवेश से पहले जरूर जान लें     |     भारत की इकलौती ट्रेन जिसमें नहीं लगता किराया, 73 साल से फ्री में यात्रा कर रहे लोग     |     यूपी सरकार का बड़ा फैसला! घर के एक सदस्य को देगी रोजगार, जान लीजिए प्लान     |     दबंगों ने बाइक का एक्सीलेटर तेज करने पर युवक की पिटाई     |     IPL खत्म होते ही एक टीम में खेलते नजर आएंगे कीरोन पोलार्ड और सुनील नरेन     |     आजम खान के योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले बजट सत्र में शामिल होने की संभावना बेहद कम     |     गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के अनुरोध पर दमनगंगा-पार-तापी-नर्मदा लिंक परियोजना रद्द     |     जर्मनी की सरकार ने कंपनियों और व्यक्तिगत करदाताओं के लिए कई छूटों की घोषणा की     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374