Breaking
बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली - पेड़ हमारे हरे-भरे भैया भालू नें कई लोगों को किया घायल घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल नीतीश आठवीं बार बने सीएम अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग

नई दिल्ली।नीतीश कुमार न घर के रहे. ना घाट के. बीजेपी ने कही का ना छोड़ा।

Whats App

केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार हो गया. तमाम कयास लगाए जा रहे थे कि कौन-कौन मंत्री बनेगा और कौन जाएगा, हालांकि किसी को नहीं पता था कि कोरोना के दूसरे फेज से ठीक से ना निबट पाने का ठीकरा दोनों स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन पर पड़ेगा. दोनों की छुट्टी हो गई. उसी तरह किसी को भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि अभी-अभी लोक जनशक्ति पार्टी तोड़ने वाले पशुपति नाथ पारस को भी मंत्री बनाया जाएगा, हालांकि कुर्त्ते का नया कपड़ा खरीदते वक्त उन्होंने इशारा कर दिया था कि उनको अमित शाह का फोन आ गया है और वे मंत्री बनने वाले हैं, लेकिन सबसे अधिक आश्चर्य इस बात को लेकर हो रहा है कि नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के कोटे से केवल एक मंत्री बनाया जा रहा है, वो भी नीतीश कुमार के स्वजातीय कुर्मी जाति से आने वाले आरसीपी सिंह को. कहां जदयू अभी तक चार मंत्री पद से कम लेने पर तैयार नहीं थी. हर बार यही हुआ कि जदयू के जितने सांसद हैं, उसके अनुसार उन्हें चार मंत्री पद मिलने ही थे.

नीतीश कुमार के पास चारा भी नहीं है कि वो इसे अस्वीकार कर दें. इससे बिहार में सत्ता का गणित बदल जाएगा. बीजेपी ने पहले ही बीजेपी नेता सुशील मोदी जो कि नीतीश कुमार के काफी करीबी थे उनको बिहार की राजनीति से निकालकर यह संकेत दे दिए हैं कि नीतीश कुमार को नई बीजेपी के साथ रहना होगा. ये बात और है कि तमाम अटकलों के बीच सुशील मोदी को मंत्री नहीं बनाया गया. लोग कहने लगे हैं कि एक मंत्रिमंडल में एक ही मोदी रहेगा.

Whats App

बहरहाल सवाल ये उठता है कि अब नीतीश कुमार क्या करेगें या फिर कुछ करने की हालत में हैं भी या नहीं. आखिर बीजेपी ने नीतीश कुमार के साथ ऐसा क्यों किया. इसका सबसे सरल जवाब ये है कि बिहार विधानसभा में बीजेपी के पास 74 विधायक हैं और जदयू के पास 43 यानी बीजेपी के पास 31 विधायक अधिक हैं. इसके बावजूद बीजेपी ने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाया हुआ है तो साफ है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में बीजेपी जो चाहेगी वही होगा. यही वजह है कि जदयू को केवल एक मंत्री पद दिया गया. अब सबकी निगाहें नीतीश कुमार पर हैं कि उनका अगला कदम क्या होगा क्योंकि वो अब वहीं पहुंच गए हैं, जहां से उन्होंने शुरुआत की थी. लव-कुश यानी कोइरी-कुर्मी जाति की राजनीति. खुद मुख्यमंत्री हैं तो उनके स्वजातीय और सबसे करीबी आरसीपी सिंह केंद्र में मंत्री होंगे तो बिहार में प्रदेश अध्यक्ष कोइरी जाति के उमेश कुशवाहा हैं. अब बाकी जाति के नेता पूछेंगे कि उनकी नीतीश कुमार की राजनीति में कोई जगह है या नहीं।

बांधी 75 फुट की हरी-भरी राखी, बहनें बोली – पेड़ हमारे हरे-भरे भैया     |     भालू नें कई लोगों को किया घायल     |     घर बैठे ही लोगों को मिला 12 लाख स्मार्ट कार्ड आधारित पंजीयन प्रमाण-पत्र तथा ड्राइविंग लायसेंस     |     मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सामुदायिक वन संसाधन अधिकार जागरूकता अभियान का किया शुभारंभ     |     मुख्यालय सहित विभिन्न नगरों में निकाली रैली; विद्यार्थी, शिक्षकों एवं पुलिस कर्मी रहे शामिल     |     नीतीश आठवीं बार बने सीएम     |     अपर कलेक्टर ने जारी किया आदेश, हितग्राही को नहीं दे रहे थे योजना का लाभ     |     सीहोर में जिला संस्कार मंच ने ग्रामीणों को 100 से अधिक तिरंगे निशुल्क बांटे     |     महाराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश     |     Skoda Enyaq iV की शुरू हुई टेस्टिंग     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9431277374